शिक्षक पर्व पहल के अंतर्गत “मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता” पर वेबिनार का आयोजन

Image default
देश-विदेश

शिक्षा मंत्रालय द्वारा नई शिक्षा नीति (एनईपी 2020) की मुख्य विशेषताओं को उजागर करने के लिए शिक्षक पर्व के अंतर्गत “मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता” पर एक वेबिनार का आयोजन किया गया। शिक्षकों को सम्मानित करने और नई शिक्षा नीति 2020 को आगे लेकर जाने के लिए 8 सितंबर से 25 सितंबर, 2020 तक शिक्षक पर्व मनाया जा रहा है। इस सत्र के लिए लक्षित लाभार्थी समूहों में शामिल हैं- पूर्व-स्कूली और निम्न प्राथमिक शिक्षक, स्कूलों के प्रमुख, अभिभावक, सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के शिक्षा विभाग।

इस सत्र में भाग लेने वाले विशेषज्ञ हैं:

1. प्रो. अनूप राजपूत, पीडी प्रमुख, एनसीईआरटी

2. प्रो. उषा शर्मा, डिपार्टमेंट ऑफ एलीमेंट्री एजुकेशन, एनसीईआरटी

3. सुश्री सुधा पेनूली, उप-प्रधानाचार्या, एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय, देहरादून, उत्तराखंड

प्रो. अनूप राजपूत ने मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता पर एक व्यापक प्रस्तुति प्रदान की, जिसके पश्चात, राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार 2020 की विजेता, प्रो. उषा शर्मा और सुश्री सुधा पेनुली द्वारा हमारे स्कूलों में मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता को लागू करने की चुनौतियों को साझा करते हुए मूलभूत साक्षरता पर एक प्रस्तुति दी गई। वेबिनार के दौरान विशेषज्ञों द्वारा निम्न मुख्य मुद्दों पर चर्चा की-

  • मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता पर एक राष्ट्रीय मिशन की आवश्यकता- विभिन्न राष्ट्रीय सर्वेक्षणों के परिणामों द्वारा स्थापित किया हुआ जैसे राष्ट्रीय उपलब्धि सर्वेक्षण (एनएएस): शिक्षा का अल्प दर; बीच में पढ़ाई छोड़ने की दर में वृद्धि; और अनुपयुक्त भाषा और गणितीय कौशल।
  • एफएलएन का सार्वभौमिक उद्देश्य – छात्रों को कक्षा 3 में प्रवेश करते समय सार्थक रूप से पठन-पाठन और लेखन में सक्षम बनाना; कक्षा 2 तक युवा छात्रों के बीच संख्यात्मक और इसके संबंधित अवधारणाओं से संबंधित बुनियादी समझ और दक्षताओं का विकास करना; और छात्रों के बीच कौशल का विकास करने के लिए उनके द्वारा कक्षा के बाहर से प्राप्त अनुभवों को उनकी कक्षा में प्राप्त शिक्षा के साथ मिश्रित करके एक बेहतर मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता प्राप्त करना।
  • प्रारंभिक कक्षा यानी, ‘बालवाटिका’ के लिए 3 महीने के खेल-आधारित ‘स्कूल तैयारी मॉड्यूल’ के तत्वों को शामिल करना: ध्वनियों, शब्दों, वर्णमालाओं, रंगों, आकृतियों और संख्याओं के आसपास की गतिविधिओं और कार्यपुस्तिकाओं और हमउम्र और माता पिता के सहयोग को शामिल करना।
  • मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता का प्रभावी कार्यान्वयन-  साक्षरता और संख्यात्मकता का एकीकरण बहुत ही महत्वपूर्ण है, गणितीय विचारों को समझने के लिए दैनिक भाषा का उपयोग और भाषा के हिस्से के रूप में गणितीय शब्दावली का उपयोग करने के साथ।
  • ईएलपीएस दृष्टिकोण को अपनाने के महत्व पर बल दिया गया, जिसमें ई का मतलब भौतिक वस्तुओं के साथ अनुभव प्राप्त करना, एल का मतलब बोली जाने वाली भाषा है जो अनुभव का वर्णन करती है, पी का मतलब ऐसे अनुमानों से हैं जो अनुभव का प्रतिनिधित्व करते हैं और एस का मतलब प्रतीकों से है जो अनुभव को व्यापक बनाते हैं।
  • बच्चों के पोषण और स्वास्थ्य को नियमित स्वास्थ्य परीक्षण के माध्यम से संबोधित किया जाना चाहिए, मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को बढ़ाने और दोपहर के भोजन के अलावा नाश्ते पर बल दिया जाना चाहिए।
  • एनईपी 2020 में शिक्षकों द्वारा मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता प्रदान करने के लिए प्रशिक्षण के महत्व पर बल दिया गया है। सार्वभौमिक मूलभूत साक्षरता और संख्यात्मकता प्राप्त करने के लिए इस मिशन में शिक्षकों का समर्थन करने के लिए सभी व्यवहार्य उपायों का पता लगाया जाएगा।
  • पढ़ने का कौशल उन लोगों के लिए बहुत सहज और स्वाभाविक होता है जिन्हें पढ़ने के अवसर प्रदान किए जाते हैं। मूलभूत साक्षरता के अंतर्गत पठन से जुड़े हुए तीन महत्वपूर्ण संकेतक हैं: अक्षरों के आकार और उनसे जुड़ी हुई ध्वनियाँ (ग्राफोनिक्स); वाक्य संरचना (सिंटेक्स) और शब्दों का अर्थ (सेमांटिक्स)।
  • विचारों की सुसंगतता के साथ लेखन, जो कि मूलभत साक्षरता के लिए महत्वपूर्ण है और इसके अंतर्गत यह अच्छी तरह से स्थापित किया गया है कि 85 प्रतिशत समय इस बात को सोचने में खर्च किया जाता है कि लिखना क्या है।
  • एक राष्ट्रीय पुस्तक संवर्धन नीति का गठन पुस्तकों की उपलब्धता, पहुंच, गुणवत्ता और पाठकों को सुनिश्चित करने के लिए। इसके लिए सार्वजनिक और स्कूली पुस्तकालयों का महत्वपूर्ण विस्तार और डिजिटल पुस्तकालयों की स्थापना आवश्यक होगी।

Related posts

विराट कोहली को मिली अब तक की सबसे फास्ट ऑडी आर 8

बीएसएफ ने दो पाकिस्तानी घुसपैठिये को मार गिरा

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में भारतीय बॉस्केट के कच्चे तेल की कीमत 23-07-2015 को 55.39 अमरीकी डॉलर प्रति बैरल रही