सहारनपुर में विकास की अपार सम्भावनाएं, जिन्हें प्रदेश सरकार ऊंचाइयों तक पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध: मुख्यमंत्री

उत्तर प्रदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज जनपद सहारनपुर के महाराज सिंह डिग्री कॉलेज में प्रबुद्धजन सम्मेलन को सम्बोधित किया और 145 करोड़ रुपये लागत की 243 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इन विकास परियोजनाओं में नगर निकायों की लगभग 79 करोड़ रुपये लागत की 142 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं लगभग 66 करोड़ रुपये लागत की 101 विकास परियोजनाओं का शिलान्यास शामिल हैं। मुख्यमंत्री जी द्वारा जनप्रतिनिधियों से संवाद भी किया गया।
लोकार्पण एवं शिलान्यास कार्यक्रम के अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने जनपद सहारनपुर के प्रबुद्धजनों-उद्योगपतियों, व्यापारियों, चिकित्सकों, अधिवक्ताओं, शिक्षकों और प्रगतिशील किसान व युवाओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि जनपद सहारनपुर में विकास की अपार सम्भावनाएं हैं, जिन्हें प्रदेश सरकार ऊंचाइयों तक पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है। जनपद सहारनपुर प्रदेश का सीमावर्ती जनपद है, जहां माँ शाकुम्भरी सिद्ध पीठ तथा माता त्रिपुरेश्वरी बाला सुन्दरी सिद्ध पीठ हैं। माँ गंगा और यमुना का आशीर्वाद इस जनपद में निरन्तर बना हुआ है। यहां का अन्नदाता किसान अपनी मेहनत से अपने खेतों में पूरी ऊर्जा के साथ कृषि उपज को सोने में उगलने का कार्य करता है। जनपद के हस्तशिल्पी काष्ठकला के माध्यम से वैश्विक स्तर पर पहचान बना रहे हैं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि विकास का कोई विकल्प नहीं है, लेकिन विकास के इस विकल्प के लिए सुरक्षा आवश्यक है और सुरक्षा के लिए अच्छी सरकार आवश्यक है। वर्तमान में प्रदेश दंगों से मुक्त हो चुका है। आज प्रदेश ईज ऑफ डूइंग के लक्ष्य को प्राप्त करते हुए देश में निवेश के सबसे अच्छे गंतव्य के रूप में दुनिया का निवेश अपनी ओर आकर्षित कर रहा है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि विगत कुछ माह पूर्व जनपद सहारनपुर में माँ शाकुम्भरी के नाम पर विश्वविद्यालय का शिलान्यास किया गया था। माँ शाकुम्भरी विश्वविद्यालय प्रारम्भ हो चुका है। विश्वविद्यालय का भव्य भवन निर्मित हो रहा है। जब अगले वर्ष विश्वविद्यालय का भव्य भवन बनेगा तो सहारनपुर के नौजवानों के लिए अपने ही जनपद में एक विश्वविद्यालय होगा।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश सरकार ने बिना भेदभाव के हर क्षेत्र में विकास कार्यों को आगे बढ़ाया है। जनपद सहारनपुर की रोड एवं एयर कनेक्टिविटी के लिए बेहतर कार्य किए हैं। राज्य सरकार ने एयर कनेक्टिविटी के लिए सरसावा एयरपोर्ट हेतु भूमि मुहैया करा दी है। कार्य प्रारम्भ हो चुका है। शीघ्र ही सहारनपुर देश और दुनिया के साथ एयर कनेक्टिविटी के साथ जुडे़गा और यहां के उद्योगपतियों, व्यापारियों और नागरिकों को बेहतर सुविधाएं प्राप्त होंगी।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सहारनपुर की रोड कनेक्टिविटी में अभूतपूर्व सुधार हुआ है। वर्ष 2017 के पूर्व मुजफ्फरनगर से सहारनपुर आने के लिए 02 घण्टे से अधिक का समय लगता था। सहारनपुर से शामली मार्ग एवं सहारनपुर से देहरादून मार्ग की स्थिति अच्छी नहीं थी। मुजफ्फरनगर से सहारनपुर मार्ग के लिए 753 करोड़ रुपये खर्च किए गए। मुजफ्फरनगर से सहारनपुर आने में अब मात्र 45 मिनट लगते हैं। इसी प्रकार सहारनपुर से शामली मार्ग का कार्य 612 करोड़ रुपये की लागत से लगभग पूर्ण हो चुका है, यह यथाशीघ्र जनसेवा में समर्पित कर दिया जायेगा। लगभग 1200 करोड़ रुपये की लागत से सहारनपुर-देहरादून मार्ग का निर्माण कराया जा रहा है, जो देश के बेहतरीन मार्गों में से एक है। जनपद सहारनपुर में लगभग 1000 करोड़ रुपये की लागत से सड़कों एवं पुलों का निर्माण हुआ है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जनपद सहारनपुर के किसानों को माँ यमुना का आशीर्वाद प्राप्त हो रहा है। साथ ही, जल जीवन मिशन के माध्यम से हर घर नल की योजना प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के विजन के अनुरूप साकार हो रही है। तेजी से कार्य कराते हुए यहां जनपद की हर बस्ती व हर घर को शुद्ध पेयजल के साथ जोड़ने का कार्य किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि नौजवानों, व्यापारी, उद्यमी, महिलाओं, किसानों के कल्याण के लिए प्रदेश सरकार प्रतिबद्ध है। राज्य सरकार के लिए सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है। देवबंद में ए0टी0एस0 सेण्टर की स्थापना करायी जा रही है। प्रदेश में विगत 05 वर्ष पहले निवेश के लिए कोई आना नहीं चाहता था। जिन लोगों ने पहले से निवेश किया था, वह पलायन कर रहे थे। आज उत्तर प्रदेश में निवेशक, उद्यमी, व्यापारी वापस आ चुके हैं। अपराधी प्रदेश छोड़कर भाग रहे हैं। अपराध और अपराधियों तथा भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारियों के लिए प्रदेश सरकार प्रारम्भ से ही जीरो टॉलरेंस की नीति के साथ कार्य कर रही है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि मिशन रोजगार के अन्तर्गत ईमानदारी, पारदर्शी एवं निष्पक्ष भर्ती प्रक्रिया द्वारा हमारे नौजवानों को सरकारी नौकरी प्राप्त हो रही हैं। आज 1354 स्टाफ नर्सों को नियुक्ति पत्र प्रदान किए गए, जिनमें सहारनपुर की बेटियां भी शामिल हैं। प्रदेश सरकार ने 05 लाख नौजवानों को सरकारी नौकरियां दी हैं। जनपद सहारनपुर में हुए निवेश से विगत 05 वर्षों में यहां के 01 लाख नौजवानों को रोजगार प्राप्त हुआ है तथा ‘एक जनपद एक उत्पाद योजना’ (ओ0डी0ओ0पी0) के माध्यम से यहां के उत्पादों की डिजाइनिंग, ब्राण्डिंग एवं बेहतर मार्केटिंग करके वैश्विक मंच तक पंहुचाया जा रहा है। जब ओ0डी0ओ0पी0 उत्पाद वैश्विक मंच पर अपनी पहचान बनाता है तो सहारनपुर का नाम इसके साथ जुड़ता हुआ दिखायी देता है। अब अमेजन एवं फ्लिपकार्ट के माध्यम से भी ओ0डी0ओ0पी0 उत्पादों को बेचा जा रहा है। कारीगरों, शिल्पकारों को प्रशिक्षण एवं टूलकिट उपलब्ध करवायी जा रही हैं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि डबल इंजन की सरकार द्वारा प्रदेश में विकास, सुरक्षा, सुशासन एवं निवेश का माहौल निर्मित हुआ है, लेकिन जब नगर निकाय एवं पंचायतीराज में समान विचारधारा के लोग चुनकर आते हैं तो विकास की गति तीन गुनी हो जाती है। वर्तमान में स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत हर नगर निकाय में स्वच्छता की नयी प्रतिस्पर्धा प्रारम्भ हुई है। सहारनपुर ने स्वच्छता के नये मानक गढ़े हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना में हर गरीब को बिना भेदभाव के आवास की सुविधा उपलब्ध हो रही है। प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण और शहरी) के अन्तर्गत विगत पांच वर्षों में डबल इंजन की सरकार द्वारा 45 लाख गरीब परिवारों (2.5 करोड़ लोगों) को एक-एक आवास की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है। जनपद सहारनपुर में प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत प्रदेश सरकार ने 25,944 लोगों को एक-एक आवास उपलब्ध कराया है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के अंतर्गत स्ट्रीट वेण्टर डिजिटल पेमेंट के साथ जुड़ता है तो उसे ब्याज मुक्त ऋण उपलब्ध कराया जाता है। प्रदेश में लगभग 09 लाख स्ट्रीट वेण्डर्स को प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना का लाभ दिया जा चुका है। जनपद सहारनपुर में 18 हजार से अधिक स्ट्रीट वेण्डर्स प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना का लाभ प्राप्त कर चुके हैं। जनपद सहारनपुर में ओ0डी0ओ0पी0 के अंतर्गत 2225 कारीगरों को प्रशिक्षण प्रदान करने के साथ-साथ टूलकिट वितरण किया गया है। 960 उद्यमियों को मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना के अंतर्गत बैंक से मार्जिन मनी उपलब्ध कराने का कार्य भी किया गया है। इससे लगभग 5000 युवाओं को रोजगार प्राप्त हुआ है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यह नया उत्तर प्रदेश है। सहारनपुर के प्रबुद्धजनों, चिकित्सकांे एवं उद्यमियों को निवेश के क्षेत्र में संभावनाएं तलाशनी चाहिए और इस दिशा में आगे आना चाहिए। प्रदेश सरकार द्वारा 25 सेक्टरों के लिए निवेशोन्मुखी नीतियां बनाई गई हैं। प्रदेश में सिंगल विंडो पोर्टल के माध्यम से 340 से अधिक सेवाओं का ऑनलाइन लाभ प्राप्त किया जा सकता है। सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एम0एस0एम0ई0) के अंतर्गत 1,000 दिनों तक किसी प्रकार की एन0ओ0सी0 की आवश्यकता नहीं है। प्रत्येक सेक्टर में निवेश की अनंत संभावनाएं हैं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश की वर्तमान औद्योगिक, टेक्सटाइल एवं बायोफ्यूल की नीतियां, इन क्षेत्रों में देश की सबसे अच्छी नीतियों में से हैं। प्रत्येक सेक्टर के लिए जो पॉलिसी है, उसकी सीमा में रहकर निवेश करने से लाभान्वित होने के साथ-साथ बड़ी संख्या में रोजगार का सृजन होगा। प्रदेश में फरवरी, 2023 में ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट का आयोजन इसी उद्देश्य से किया जा रहा है। इससे सहारनपुर समेत सम्पूर्ण प्रदेश विकास के पथ पर अग्रसर होगा।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोई भी ऐसा कार्य, जिससे रोज़गार सृजन हो और विकास प्रक्रिया आगे बढ़े, वह निवेश की श्रेणी में आता है। स्कूल, हॉस्पिटल निर्माण एवं उद्योग की स्थापना निवेश की श्रेणी में आती है। उद्यमी, व्यापारी एवं प्रत्येक तबके के लोग निवेश की प्रकिया से जुडें। उत्तर प्रदेश वर्तमान में देश का सबसे सुरक्षित प्रदेश एवं सबसे अच्छा निवेश गंतव्य है। प्रधानमंत्री जी के विजन के अनुरूप प्रदेश की वन ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए सबको अपना योगदान देना होगा। विगत पांच वर्षांे में केंद्र व राज्य सरकार ने स्मार्ट सिटी मिशन, अमृत योजना एवं पं0 दीन दयाल उपाध्याय नगर विकास योजना के अंतर्गत विभिन्न कार्य किए हैं। सरकार जिन योजनाओं के माध्यम से विकास की प्रक्रिया को आगे बढ़ा रही है, उनसे आगामी समय में हमारी नगरीय व्यवस्था एक आदर्श व्यवस्था के रूप में सभी बुनियादी सुविधाओं से आच्छादित होती हुई दिखाई देगी।
इससे पूर्व, मुख्यमंत्री जी द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के 10 लाभार्थियों को आवास की प्रतीकात्मक चाभी, पी0एम0 स्वनिधि के 10 लाभर्थियों को स्वीकृत ऋण के प्रमाण पत्र, ओ0डी0ओ0पी0 के 05 लाभार्थियों को ऋण के चेक वितरित किये गये। नगर विकास एवं औद्योगिक विकास विभाग की प्रगति तथा योजनाओं से संबंधित लघु फिल्मों का प्रदर्शन किया गया।
इस अवसर पर संसदीय कार्य तथा औद्योगिक विकास राज्य मंत्री श्री जसवन्त सिंह सैनी, लोक निर्माण राज्य मंत्री श्री बृजेश सिंह सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण तथा प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री, गृह एवं सूचना श्री संजय प्रसाद एवं शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Related posts

खनन पट्टाधारक त्रैमास जनवरी 2020 की देय धनराशि को 30 सितंबर 2020 तक जमा कर सकते हैं

कोविड-19 के रोगियों के लिए ऑक्सीजन की उपलब्धता अनिवार्य रूप से सुनिश्चित की जाए

आधुनिकीकरण योजना के अंतर्गत दो जिला होमगार्डस् कार्यालय को धन मंजूर