एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय की स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुएः सीएम – Online Latest News Hindi News , Bollywood News
Breaking News
Home » उत्तराखंड » एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय की स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुएः सीएम

एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय की स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुएः सीएम

देहरादून: मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कालसी स्थित एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय के छात्रों के कल्याण के लिए 15 लाख रूपये का कारपस फण्ड स्थापित करने, विद्यालय के छात्रों का भोजन व्यय 100 रूपये से बढाकर 150 रूपये करने, विद्यालय में सोलर हीटिंग सिस्टम लगाने के साथ ही विद्यालय में संगीत का संग्रहालय कक्ष स्थापित करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र विद्यालय की व्यवस्थाओं व छात्रों के कल्याण संबंधी कार्यों के लिये अपने व्यक्तिगत एकाउन्ट से 05 लाख रूपये देने की भी घोषणा की। इसके लिये उन्होंने विद्यालय के प्रधानाचार्य को प्रस्ताव बनाकर प्रेषित करने को कहा है। उन्होंने इसके तहत होने वाले कार्यों का निर्धारण भी विद्यालय के प्रधानाचार्य के विवेक पर छोड़ा है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने पुरानी कालसी स्थित इन्टर कॉलेज के भवन की मरम्मत हेतु 25 लाख रूपये की घोषणा भी की।

शनिवार को एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय की स्थापना दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने विद्यालय के बहुउद्देशीय हॉल, डिस्पेन्सरी तथा अतिथि कक्ष का शिलान्यास किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने विद्यालय परिसर में वृक्षारोपण भी किया। इससे पूर्व उन्होंने विद्यालय का निरीक्षण कर विद्यालय में चल रही शैक्षणिक व शिक्षणेत्तर गतिविधियों की जानकारी भी ली। मुख्यमंत्री ने शिक्षकों व छात्रों को विद्यालय की स्थापना दिवस की शुभकानायें देते हुए कहा कि इस विद्यालय ने शिक्षा के क्षेत्र में जो कीर्तिमान स्थापित किये हैं वह सराहनीय है।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि शिक्षक का कार्य मूर्तिकार की तरह है। जिस प्रकार तमाम कठिनाइयों व परिश्रम के बाद मूर्तिकार पत्थर को तरासकर आकर्षक मूर्ति का निर्माण कर उसे जीवन्त बनाता है, उसी प्रकार शिक्षक भी छात्रों को कड़ी मेहनत व समर्पित भाव से उन्हें शिक्षित करने का कार्य करते हैं। छात्रों के जीवन में शिक्षक का बड़ा महत्व है। उन्होंने कहा कि गांधी जी ने सही कहा था कि विद्यालय में भवन व लाइब्रेरी आदि अन्य सुविधाओं की कमी को एक योग्य शिक्षक ही दूर कर सकता है। एकलव्य विद्यालय  इसका जीता जागता उदाहरण है। छात्रों को शिक्षित करने, उनके व्यक्तित्व विकास का जो समर्पित भाव व दृढ़ इच्छा शक्ति इस विद्यालय के प्रधानाचार्य व शिक्षकों में है वह निसंदेह सराहनीय है।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि कोई भी संस्था आसानी से खड़ी नहीं होती है। इसके लिये कड़ी मेहनत व समर्पण का भाव होना जरूरी है। अत्यधिक फीस लेकर शिक्षा देने वाले स्कूलों से बेहतर शिक्षा का माहौल छात्रों को एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय में मिल रहा है।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय के बच्चों के पिछले दो वर्ष में विभिन्न आईआईटी, एमबीबीएस व प्रमुख उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश पर भी प्रसन्नता व्यक्त की है। उन्होंने विद्यालय को जनजाति क्षेत्र के बच्चों की शिक्षा का प्रमुख केन्द्र बताया है। स्कूल के शिक्षकों को भी जनजाति छात्रों को बेहतर शैक्षणिक माहौल प्रदान करने के लिये बधाई दी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि छात्रों को गुणात्मक शिक्षा उपलब्ध कराना समाज के व्यापक हित में है, हमारे छात्र बेहतर गुणात्मक शिक्षा के बल पर ही देश के कर्मठ शिक्षित नागरिक बन सकेंगे।

मुख्यमंत्री ने विद्यालय के 7 छात्रों को विभिन्न संस्थानों आई0आई0टी0, एन0आई0टी0 एवं आईआईआईटी में, दो छात्रों का एमबीबीएस, 4 छात्रों को दिल्ली विश्वविद्यालय के विभिन्न कालेजां में प्रवेश मिलने को विद्यालय की गौरवपूर्ण उपलब्धि बताया। उन्होंने इसके लिये छात्रों के साथ ही विद्यालय के प्रधानाचार्य डॉ. जी.सी.बडोनी व शिक्षकों को भी बधाई दी।

इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री श्री यशपाल आर्य ने कहा कि एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय की स्थापना के अभी सिर्फ 9 साल पूर्ण हुए, इस अल्प समय में विद्यालय ने शिक्षा के क्षेत्र में तेजी से प्रगति की है। सीमित संसाधन व शिक्षकों की संख्या कम होने के बावजूद भी विद्यालय में शैक्षणिक गतिविधियों के साथ ही, विभिन्न प्रकार के हुनर बच्चों को सिखाये जा रहे हैं, यह एक सराहनीय प्रयास है। देश की तरक्की के लिए बेहतर शिक्षा का होना जरूरी है। इस दिशा में जनजातीय क्षेत्रों के बच्चों को शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ाने का सराहनीय प्रयास किया जा रहा है।

विधायक श्री मुन्ना सिंह चौहान ने कहा कि जब इस विद्यालय की स्थापना हुई तब यहां पर छात्र संख्या 46 थी, जबकि आज विद्यालय में लगभग 400 छात्र-छात्राएं हैं। इस विद्यालय के छात्रों को आईआईटी, एमबीबीएस व अन्य उच्च संस्थानों में यहां के छात्रों को प्रवेश मिला है। एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय अन्य स्कूलों के लिए रोल मॉडल बन सकता है।

कार्यक्रम में अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष श्री बी.आर.आर्य, उपाध्यक्ष जनजातीय आयोग श्री मूरत राम शर्मा, सचिव एल फैनई, अपर सचिव श्री रामविलास यादव, निदेशक जनजातीय कल्याण श्री सुरेश जोशी, ब्लाक प्रमुख कालसी श्री अर्जुन सिंह, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती मधु चौहान सहित विद्यालय के शिक्षक व छात्र आदि उपस्थित थे।

About admin