स्वास्थ्य मंत्रालय नहीं मिलने से तेजप्रताप नाखुश! शपथ के बाद चुपचाप चले गए

देश-विदेश

नीतीश कुमार की सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार मंगलवार को हुआ. मंगलवार को 31 मंत्रियों ने शपथ ग्रहण किया. सबसे ज्यादा आरजेडी की तरफ से 16 विधायक मंत्री बने हैं. लालू प्रसाद के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव का मंत्री बनना तय माना जा रहा था और वह मंत्री बने भी. लेकिन मंत्री बनने के बाद वह खुश नहीं नजर आए. महीनों पहले चाचा से डील हो गया कहकर महागठबंधन सरकार बनने के संकेत देने वाले तेजप्रताप यादव शपथग्रहण के बाद चुपचाप चले गए.

कहा जा रहा है कि तेजप्रताप यादव स्वास्थ्य मंत्रालय नहीं मिलने से नाराज हैं. यही वजह है कि हमेशा मुखर रहने वाले तेजप्रताप यादव आरजेडी की सरकार बनने के एतिहासिक अवसर पर भी चुप नजर आए. तेजप्रताप यादव को पर्यावरण एवं वन मंत्रालय दिया गया है

स्वास्थ्य मंत्री बनने की जताई थी इच्छा

उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने अपने पास महत्वपूर्ण मंत्रालय रखे हैं. तेजस्वी यादव ने पथ निर्माण और स्वास्थ्य मंत्रालय समेत चार मंत्रालय अपने पास रखे हैं. जबकि तेजप्रताप यादव को पर्यावरण एवं वन मंत्रालय उन्हें दिया गया है. जबकि तेजप्रताप यादव ने सरकार बनने के बाद ही स्वास्थ मंत्री बनने की अपनी इच्छा जाहिर कर दी थी. और अब जब उन्हें स्वास्थ्य मंत्रालय नहीं दिया गया तो वह नाखुश बताए जा रहे हैं.

तेजस्वी के पास है स्वास्थ्य मंत्रालय

तेजप्रताप यादव का नीतीश कुमार की नई सरकार में कद कम हुआ है. इससे पहले वाली महागठबंधन सरकार में उनके पास स्वास्थ्य, लघु जल संसाधन और पर्यावरण एवं वन विभाग था. लेकिन नई सरकार में उन्हें स्वास्थ्य मंत्रालय नहीं दिया गया है. स्वास्थ्य मंत्रालय इसबार तेजस्वी यादव ने खुद अपने पास रखा है.

Related posts

एमएसएमईमंत्री श्री गडकरी ने कोविड के बाद की स्थिति से मुकाबला करने के लिए प्रौद्योगिकी उन्नयन और विदेशी निवेश आकर्षित करने पर जोर दिया

डीआरडीओ दिल्ली और हरियाणा में पांच मेडिकल ऑक्सीजन संयंत्र लगाएगा

SSC दफ्तर के बाहर पेपर लीक मामले को लेकर प्रदर्शन कर रहे छात्रों से मिलने पहुंचे अन्ना हजारे