एक भारत श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना को पूरा करने में युवाओं की सहभागिता बढ़ाने के लिए इस वर्ष कई नए कदम उठाए गएः किरेन रीजीजू

Image default
देश-विदेश

लोकसभा अध्यक्ष श्री ओम बिड़ला ने सोमवार को राष्ट्रीय युवा संसद 2021 के अंतिम चरण के उद्घाटन सत्र को संबोधित किया। संसद भवन के सेंट्रल हॉल में आयोजित इस कार्यक्रम का आयोजन युवा मामले एवं खेल मंत्रालय और लोकसभा सचिवालय के संयुक्त तत्वावधान में किया गया था।

इस अवसर पर केन्द्रीय युवा कार्यक्रम और खेल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री किरेन रीजीजू, सांसद सुश्री रूपा गांगुली, लोकसभा के महासचिव श्री उत्पल कुमार सिंह, युवा कार्यक्रम की सचिव सुश्री उषा शर्मा, खेल सचिव श्री रवि मित्तल, राज्य स्तरीय युवा संसद के अंतिम दौर में पहुँचे 84 प्रतिभागी और युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय और लोकसभा सचिवालय के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।इस वर्ष राष्ट्रीय युवा संसद का आयोजन राष्ट्रीय युवा महोत्सव के अंतर्गत किया जा रहा है। राष्ट्रीय युवा महोत्सव का आयोजन हर वर्ष 12 से 16 जनवरी तक किया जाता है।

http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001F8J7.jpg

http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0026FIH.jpg

http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image003FRXU.jpg

लोकतंत्र के प्रति लोगों के बढ़ते विश्वास का उल्लेख करते हुए श्री ओम बिड़ला ने कहा कि पिछले सात दशकों में भारतीय लोकतंत्र ने लगातार ख़ुद को मज़बूत किया है। उन्होंने कहा कि भारतीय लोकतंत्र की मज़बूती का पता इस बात से लगाया जा सकता है कि यहाँ हमेशा से ही सत्ता का हस्तांतरण काफी सुचारू तरीके से और लोकतांत्रिक परंपराओं के अनुरूप होता रहा है।

राष्ट्र निर्माण में युवाओं के योगदान के बारे में बोलते हुए श्री बिड़ला ने कहा कि आज़ादी से पहले भारत के स्वतंत्रता संग्राम में भारतीय युवा सबसे आगे थे। इसी तरह आज भी युवाओं को भारत की समृद्धि और प्रगति की दिशा में काम करना चाहिए। श्री बिड़ला ने कहा कि राष्ट्र की समृद्धि में युवाओं का महत्वपूर्ण योगदान अनिवार्य है। ये युवाओं की ज़िम्मेदारी ही नहीं, बल्कि कर्तव्य भी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने साल 2017 में मन की बात कार्यक्रम के दौरान उन युवाओं को एक महत्वपूर्ण दिशा दिखाई थी, जो विभिन्न क्षेत्रों में नवाचार और नई सोच के ज़रिए भारत को मज़बूत बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं। श्री बिड़ला ने भरोसा जताया कि आने वाले सालों में भारत का युवा अपने तकनीकी ज्ञान और कौशल के दम पर नवाचार आधारित विश्व में सबसे आगे होगा।

श्री बिड़ला ने यह भी कहा कि लोकतंत्र में हम अपने विचारों और अनुभवों को साझा करते हैं, वाद-विवाद करते हैं और फिर विस्तृत चर्चा के बाद किसी निर्णय पर पहुँचते हैं। ये लोकतांत्रिक व्यवस्था की ताकत है, जो हर एक व्यक्ति को अपने विचारों को अभिव्यक्त करने का अधिकार देता है। उन्होंने उम्मीद जताई कि युवा संसद “राष्ट्र प्रथम (नेशन फर्स्ट)” के आदर्श वाक्य को ध्यान में रखते हुए लोकतंत्र की भावना को मज़बूत करने की दिशा में मील का पत्थर साबित होगी।

इससे पहले श्री ओम बिड़ला ने पूर्व प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री की पुण्य तिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। श्री बिड़ला ने कहा कि सादगी और दृढ़ संकल्प के मूल्यों को अपनाने वाले शास्त्री जी ने भारत के जवानों और किसानों के सम्मान में ‘जय जवान जय किसान’ का नारा दिया। ये जवान और और किसान हमारे सुरक्षित रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।श्री बिड़ला ने कहा कि जिस तरह शास्त्रीजी ने खाद्य सुरक्षा के क्षेत्र में भारत की आत्मनिर्भरता की नींव रखी थी, उसी तरह प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी भी आत्मनिर्भर भारत की दिशा में निरंतर काम कर रहे हैं।

श्री बिड़ला ने राष्ट्रीय युवा संसद 2021 में हिस्सा लेने वाले प्रतिभागियों से मुलाकात कर उनसे बातचीत की और बेहतर प्रदर्शन करने के लिए प्रोत्साहित किया।श्री बिड़ला ने लोकसभा सचिवालय को निर्देश दिया कि वे इन युवा प्रतिभागियों को लोकसभा की कार्यप्रणाली से रूबरू कराएं, ताकि लोकतांत्रिक व्यवस्था के बारे में इनकी बेहतर समझ विकसित हो सके।

http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image004SNK8.jpg

http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0059UE0.jpg

इस अवसर पर अपने विचार रखते हुए श्री किरेन रिजिजू ने कहा कि यह एक ऐतिहासिक मौका है जब देश के युवा भारतीय लोकतंत्र के मंदिर में आयोजित होने वाले इस राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव में हिस्सा ले रहे हैं।युवाओं को ये मौका प्रदान करने के लिए उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष श्री ओम बिड़ला का आभार व्यक्त किया।12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद के जन्मदिवस को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाते हुए श्री किरेन रिजिजू ने कहा कि इस साल ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ की परिकल्पना को पूरा करने में युवाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए कई नए कदम उठाए गए हैं। उन्होंने इस बात पर बल देते हुए कहा कि इस बार राष्ट्रीय युवा संसद 2021 में देशभर के युवाओं ने काफी उत्साह के साथ प्रतिभागिता की है। उन्होंने भरोसा जताया कि यह कार्यक्रम प्रतिभागी युवाओं को अपने सामाजिक और आर्थिक विचारों को साझा करने और लोकतांत्रिक मूल्यों की गहराई को समझने के लिए एक मंच प्रदान करेगा। मंत्री ने कहा कि यह कार्यक्रम प्रतिभागियों के लिए ज़िंदगीभर याद रहने वाला कार्यक्रम बन जाएगा।

श्री रिजिजू ने आगे कहा कि “यह राष्ट्रीय युवा संसद राष्ट्रीय युवा महोत्सव का ही एक हिस्सा है, जिसे हर साल 12 से 16 जनवरी तक मनाया जाता है। वर्ष 1995 से अब तक युवा कार्यक्रम विभाग 23 बार राष्ट्रीय युवा महोत्सव मना चुका है। इस महोत्सव का उद्देश्य देशभर के युवाओं को एक मंच पर लाना है, जहाँ वे अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर सकें। इस वर्ष महोत्सव की थीम ‘युवा- उत्साह नए भारत का’ है, जो यह बताता है कि युवा नए भारत के जश्न को जीवंत बनाते हैं। इसका मुख्य उद्देश्य एक भारत, श्रेष्ठ भारत की भावना, सार और अवधारणा को आगे बढ़ाना है।”

सेंट्रल हॉल के महत्व पर प्रकाश डालते हुए लोकसभा के महासचिव श्री उत्पल कुमार सिंह ने कहा कि युवा संसद कार्यक्रम के पीछे प्रधानमंत्री का यह विचार था कि भविष्य के सांसदों को संसद की कार्यवाही से रूबरू कराया जाए और वाद-विवाद के प्रति उन्हें प्रेरित किया जाए। उन्होंने उम्मीद जताई कि युवा सांसद दो दिन के इस अनुभव का लाभ उठाएँगे और भविष्य में इनमें से कुछ युवा सांसद लोकतांत्रिक प्रणाली के तहत संसद के सदनों में से कुछ सीटों पर काबिज होंगे।

http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image006NJ6X.jpg

श्रीमती उषा शर्मा ने अपने स्वागत भाषण में कहा कि देश में विपरीत परिस्थितियाँ होने के बावजूद राष्ट्रीय युवा संसद का आयोजन किया गया। सचिव ने कहा कि युवा संसद का आयोजन विपरीत परिस्थितियों से निपटने और ज़िंदगी को फिर से पटरी पर लाने के प्रति हमारे संकल्प और दृढ़ निश्चय को दर्शाता है। श्रीमती उषा शर्मा ने कहा कि युवा संसद को ज़िला और राज्य स्तर पर आभासी माध्यम से और अंतिम चरण की प्रतियोगिता को संसद के सेंट्रल हॉल में आयोजित करना एक अलग तरह का अनुभव रहा है।

खेल विभाग के सचिव श्री रवि मित्तल ने संसद के सेंट्रल हॉल को उपलब्ध कराने और युवा प्रतिभागियों को संसद और इसकी कार्यप्रणाली से परिचित कराने के लिए लोकसभा अध्यक्ष श्री ओम बिड़ला और लोकसभा सचिवालय का आभार व्यक्त किया।

आज के कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्ज्वलन के साथ हुई। समापन सत्र का आयोजन मंगलवार को किया जाएगा। समापन सत्र के दौरान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी आभासी माध्यम से युवा प्रतिभागियों को संबोधित करने के साथ-साथ उनसे बातचीत भी करेंगे। राष्ट्रीय युवा संसद महोत्सव में इस बार देशभर से बड़ी संख्या में युवाओं ने हिस्सा लिया और ज़िला और राज्य स्तर पर सफल होने के बाद अब अंतिम चरण की प्रतियोगिता में कुल 84 प्रतिभागी भाग ले रहे हैं। अंतिम चरण की प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में राज्य सभा सांसद श्रीमती रूपा गांगुली, लोकसभा सांसद श्री प्रवेश साहिब सिंह वर्मा और वरिष्ठ पत्रकार एवं लेखक श्री प्रफुल्ल केतकर शामिल हैं।

एनवाईपीएफ और एनवाईएफ की विस्तृत जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।

Related posts

राष्ट्रपति ने उपराष्ट्रपति श्री मोहम्मद हामिद अंसारी द्वारा लिखित पुस्तक ‘सिटिजन एंड सोसायटी’ का विमोचन किया

उपराष्ट्रपति ने अलग-अलग भाषाओं की उत्कृष्ट साहित्यिक कृतियों का जितना संभव हो सके उतनी भाषाओं में अनुवाद का आह्वान किया

कोविड महामारी के कारण लॉकडाउन अवधि के दौरान देश में ‘प्रत्यक्ष विपणन‘ का प्रभाव