एचआईएल ने वित्त वर्ष 2020-21 की पहली दो तिमाहियों में 40 प्रतिशत से ज्‍यादा की वृद्धि के साथ 530.10 मीट्रिक टन मैलाथियान टेक्निकल का उत्‍पादन किया

Image default
देश-विदेश

रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय के रसायन एवं पेट्रो रसायन विभाग की सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी एचआईएल (इंडिया) लिमिटेड ने वित्त वर्ष 2020-21 की पहली दो तिमाहियों में मैलाथियान टेक्निकल का अब तक का सबसे अधिक उत्‍पादन दर्ज किया। कोविड-19 महामारी के चलते लगे प्रतिबंधों के बावजूद कंपनी ने इस साल की पहली दो तिमाहियों में 530.10 मीट्रिक टन मैलाथियान टेक्निकल का उत्‍पादन किया, जबकि पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में उसने 375.5 मीट्रिक टन का उत्‍पादन किया था। इस तरह उसने 41 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की।

कंपनी ने पहली दो तिमाहियों में मैलाथियान की अब तक की सबसे अधिक बिक्री भी दर्ज की और इस उत्‍पादित माल की पूरी मात्रा को कृषि मंत्रालय के टिड्डी नियंत्रण कार्यक्रम और देश भर के नगर निगमों को कीट नियंत्रण कार्यक्रमों के लिए सप्‍लाई किया। कंपनी ने इस अवधि में मैलाथियान टेक्निकल को विदेश मंत्रालय के माध्‍यम से ‘सरकार से सरकार को’ कार्यक्रम के आधार पर ईरान भी निर्यात किया।

http://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001QOK5.jpg

केन्‍द्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री श्री डी. वी. सदानंद गौड़ा ने एचआईएल प्रबंधन को उनकी इस शानदार उपलब्धि के लिए बधाई दी। एचआईएल विभिन्‍न तकनीकी और फॉर्मूलेशन ग्रेड के कीटनाशकों का उत्‍पादन करता है। महामारी फैलने के कारण आई बहुत सी बाधाओं के बावजूद कंपनी ने अप्रैल 2020 में अपना उत्‍पादन कार्य शुरू कर दिया था। कामगारों की बहुत सीमित उपलब्‍धता और सप्‍लाई चेन की रुकावटों के बावजूद उसने सरकार द्वारा समर्थित विभिन्‍न कार्यक्रमों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करने और देश के कृषक समुदाय को कृषि रसायनों की आपूर्ति करने के उद्देश्‍य से इस कार्य को अंजाम दिया।

Related posts

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थाई सदस्यता प्राप्त करने के लिए सार्थक प्रयास जारी रखे जायें: उपराष्ट्रपति

नौसेना प्रमुख द्वारा पुनर्वास और समुदाय पहुंच उपायों की घोषणा

कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग द्वारा बच्चों की देखभाल से संबंधित अवकाश में सुधार