एफसीआई ने एक दिन में खाद्यान्नों की ढुलाई का नया कीर्तिमान बनाया – Online Latest News Hindi News , Bollywood News
Breaking News
Home » देश-विदेश » एफसीआई ने एक दिन में खाद्यान्नों की ढुलाई का नया कीर्तिमान बनाया

एफसीआई ने एक दिन में खाद्यान्नों की ढुलाई का नया कीर्तिमान बनाया

नई दिल्ली: देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान, देश के सभी हिस्सों में पर्याप्त खाद्यान्न भंडार उपलब्ध कराने वाले अपने प्रयासों को जारी रखते हुए, भारतीय खाद्य निगम ने एक दिन की गतिविधि में एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है, जिसमें 03 अप्रैल 20 और 04 अप्रैल 20 को लगातार दो दिनों तक, 70 रैकों में 1.93 लाख मीट्रिक टन (एलएमटी) खाद्यान्न ले जाया गया है। 24.03.2020 को लॉकडाउन शुरू होने के बाद से लेकर अब तक, 12 दिनों के दौरान, भारतीय खाद्य निगम ने प्रतिदिन 1.41 लाख मीट्रिक टन खाद्यान्नों का औसत आवागमन किया है, जबकि लगभग 08 लाख मीट्रिक टन का दैनिक औसत लॉकडाउन से पहले का रहा है। इस अवधि के दौरान, पूरे देश में लगभग 16.94 लाख मीट्रिक टन खाद्यान्न ले जाने वाले कुल 605 रैकों का परिवहन किया गया है।

पंजाब में कुल खाद्यान्नों का लगभग 46%, 7.73 एलएमटी आवागमन किया गया है और इसके बाद हरियाणा (3.02 एलएमटी), तेलंगाना (2.04 एलएमटी) और छत्तीसगढ़ (1.15 एलएमटी) आते हैं। ओडिशा, आंध्र प्रदेश आदि जैसे अन्य राज्यों में बाकी आवागमनों को आगे बढ़ाया गया है। सबसे ज्यादा खपत वाले राज्यों में, जहां पर अधिकतम समावेशन किया गया, वह उत्तर प्रदेश (2.07 एलएमटी), बिहार (1.96 एलएमटी), पश्चिम बंगाल (1.65 एलएमटी) और कर्नाटक (1.57 एलएमटी) हैं। उत्तर पूर्व की ओर विशेष रूप से ध्यान देते हुए, लॉकडाउन की अवधि में, खाद्यान्न की 1.4 एलएमटी मात्रा को पूर्वोत्तर राज्यों में समावेशित किया गया है। भारतीय खाद्य निगम यह सुनिश्चित कर रहा है कि प्रत्येक राज्यों की आवश्यकताओं को बिना किसी कमी के साथ पूरा किया जाए। 04 अप्रैल 2020 तक, भारतीय खाद्य निगम के केंद्रीय पूल में 55.47 मिलियन मीट्रिक टन खाद्यान्न (31.23 एमएमटी चावल और 24.24 एमएमटी गेहूं) उपलब्ध हैं।

नियमित आवश्यकताओं, जैसे राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (एनएफएसए) के अंतर्गत खाद्यान्न की आवश्यकताओं को पूरा करने और प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेवाई) के अंतर्गत अतिरिक्त आवंटन को पूरा करने के अलावा, भारतीय खाद्य निगम खुले बाजार में खाद्यान्न की निरंतर आपूर्ति को सुनिश्चित करने के लिए ई-नीलामी के माध्यम से जाने के बजाए गेहूं और चावल सीधे उपलब्ध करवा रहा है। गेहूं का आटा और अन्य गेहूं उत्पादों के लिए निर्माताओं की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए गेहूं का वितरण संबंधित जिला मजिस्ट्रेटों द्वारा आवश्यकताओं के लिए किए गए मूल्यांकन के आधार पर किया जाता है। राज्य सरकारों को चावल उनके चैनलों के माध्यम से वितरण करने के लिए दिया जाता है। अब तक भारतीय खाद्य निगम ने इस मॉडल के अंतर्गत, 13 राज्यों में 1.38 एलएमटी गेहूं और 8 राज्यों में 1.32 एलएमटी चावल आवंटित किए हैं।

About admin