लाइफलाइन उड़ान सेवा के अंतर्गत देशभर में 161 टन सामग्री की ढुलाई – Online Latest News Hindi News , Bollywood News
Breaking News
Home » देश-विदेश » लाइफलाइन उड़ान सेवा के अंतर्गत देशभर में 161 टन सामग्री की ढुलाई

लाइफलाइन उड़ान सेवा के अंतर्गत देशभर में 161 टन सामग्री की ढुलाई

नई दिल्ली: लाइफलाइन उड़ान सेवा के अंतर्गत एयर इंडिया, एलायन्स एयर, भारतीय वायुसेना, पवन हंस एवं निजी विमान सेवाओं द्वारा कुल 116 उड़ानें भरी गयीं हैं। इनमें से 79 उड़ानें एयर इंडिया और एलायन्स एयर ने भरी हैं। अब तक लगभग 161 टन सामग्री की ढुलाई की गयी है। लाइफलाइन उड़ान सेवा द्वारा अब तक 112,178 किलोमीटर की हवाई दूरी तय की गयी है। अंतरराष्ट्रीय मोर्चे पर,  नागरिक उड्डयन मंत्रालय और एयर इंडिया ने जरूरी चिकित्सा आपूर्तियों के हस्तांतरण के लिए चीन के साथ मिलकर दोनों देशों के बीच एक हवाई मालवाहक पुल बनाया है। भारत और चीन के बीच पहली मालवाहक उड़ान एयर इंडिया द्वारा 4 अप्रैल, 2020 को भरी गयी, जिसमें चीन से 21 टन जरूरी चिकित्सा आपूर्तियों की ढुलाई की गयी।

कोविड–19 के खिलाफ भारत की जंग में सहयोग देने के उद्देश्य से देश के दूरदराज के इलाकों में आवश्यक चिकित्सा कार्गो की ढुलाई के लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा लाइफलाइन उड़ान सेवा का परिचालन किया जा रहा है।

लाइफलाइन उड़ान सेवाओं का तिथिवार विवरण इस प्रकार है:

क्र. सं.

दिनांक एअर इंडिया एलायंस आईएएफ इंडिगो स्पाइसजेट कुल परिचालित उड़ानें
1 26.3.2020 02 02 04
2 27.3.2020 04 09 13
3 28.3.2020 04 08 06 18
4 29.3.2020 04 10 06 20
5 30.3.2020 04 03 07
6 31.3.2020 09 02 01 12
7 01.4.2020 03 03 04 10
8 02.4.2020 04 05 03 12
9 03.4.2020 08 02 10
10 04.4.2020 04 03 02 09
कुल उड़ानें 46 40 22 06 02 116

पूर्वोत्तर क्षेत्र (एनईआर) द्वीपीय क्षेत्रों और पहाड़ी राज्यों पर विशेष ध्यान केंद्रित किया गया है। नागरिक उड्डयन मंत्रालय, एयर इंडिया और भारतीय वायुसेना (आईएएफ) ने लद्दाख, दीमापुर, इंफाल, गुवाहाटी, और पोर्ट ब्लेयर के आखिरी मील तक आपूर्ति के लिए मिलकर काम किया है।

ढुलाई की गयी सामग्रियों में से अधिकांश मास्क, दस्ताने एवं अन्य उपभोक्ता सामग्री जैसे हल्के और भारी वजन वजन वाले उत्पाद शामिल हैं जो विमान में प्रति टन के हिसाब से ज्यादा स्थान की जरूरत होती है। यात्रियों के बैठने वाली जगहों और ओवरहेड कैबिनों में उचित सावधानी के साथ सामानों को रखने के लिए विशेष अनुमति ली गयी है। सड़क मार्ग से सामानों को हवाईअड्डों तक लाने और वहां से ले जाने की कठिन चुनौतियों, उत्पादन संबंधी बाधाओं और विमानन कर्मियों के आंदोलन के बावजूद लाइफलाइन उड़ान सेवाओं का परिचालन किया जा रहा है।

लाइफलाइन उडान सेवाओं से संबंधित सार्वजनिक जानकारी प्रतिदिन लाइफलाइन उड़ान की वेबसाइट पर अपलोड की जाती है। लाइफलाइन उड़ान सेवाओं के समन्वय के लिए एक पोर्टल नेशनल इन्फार्मेटिक्स सेंटर (एनआईसी) और नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा विकसित किया गया है। लाइफलाइन उड़ान पोर्टल का लिंक नागरिक उड्डयन मंत्रालय (एमओसीए) की वेबसाइट (www.civilaviation.gov.in) पर उपलब्ध है।

घरेलू कार्गो परिचालक स्पाइसजेट, ब्लू डार्ट और इंडिगो वाणिज्यिक आधार पर उड़ानों का परिचालन कर रहे हैं। स्पाइसजेट ने 24 मार्च से 4 अप्रैल 2020 के बीच 166 मालवाहक उड़ानों का परिचालन किया, जिसमें 2,23,241 किलोमीटर की दूरी तय की गई और 1,327 टन माल की ढुलाई की गयी। इनमें से 46 अंतर्राष्ट्रीय कार्गो उड़ानें थीं। ब्लू डार्ट ने 52 घरेलू मालवाहक उड़ानें संचालित कीं, जिसमें 50,086 किलोमीटर की दूरी तय की गई और 25 मार्च से 4 अप्रैल 2020 के बीच 761 टन माल ढोया गया। इंडिगो ने 3-4 अप्रैल 2020 के दौरान 8 मालवाहक उड़ानों का संचालन किया और 6,103 किलोमीटर की दूरी तय करते हुए लगभग 3 टन माल ढोया। इसमें सरकार के लिए नि: शुल्क चिकित्सा आपूर्ति शामिल है।

About admin