आकस्मिकता/इमर्जेन्सी के मरीजों को कोरोना पाॅजिटिव मानते हुए संक्रमण से पूरे बचाव की प्रक्रिया के साथ इलाज किया जाये

Image default
उत्तर प्रदेश

लखनऊ: प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री सुरेश कुमार खन्ना ने बताया कि कोविड-19 के मरीजों के उपचार हेतु राजकीय मेडिकल कालेजों में समर्पित एल-2 व एल-3 कोविड केयर सेन्टर स्थापित किए गये हैं। उन्होंने कहा कि नान कोविड मरीजों के लिए मेडिकल कालेजों में जिन मरीजों को आकस्मिकता/इमर्जेन्सी होती है, उनमंे कोविड-19 की रिपोर्ट की प्रतीक्षा किए बिना ही इलाज प्रारम्भ करने की अपरिहार्यता रहती है। ऐसे मरीजों को पाॅजिटिव मानते हुए संक्रमण से पूरे बचाव की प्रक्रिया के साथ इलाज किया जाये। उन्होंने बताया कि नान कोविड मरीज जिनमें इमर्जेन्सी नहीं होती है, उनके स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं के निदान हेतु टेलीमेडिसिन ओ0पी0डी0 के माध्यम से स्वास्थ्य सम्बन्धी परामर्श प्रदान किया जाये।
चिकित्सा शिक्षा मंत्री द्वारा हाल ही में चिकित्सालयों की इमर्जेन्सी व मेडिकल कालेजों के भ्रमण में पाया गया कि कई मरीज जो इमर्जेन्सी की श्रेणी में नहीं आते हैं और उनका उपचार स्थगित किया जा रहा है, जैसे कि हार्निया, अपेन्डिक्स, गालब्लेडर, कैटरैक्ट अािद। उन्होंने कहा कि समय तक उन्हें लम्बित रखना ठीक नहीं है, अतः उन्हें पूरे बचाव के साथ सेमी-इमर्जेन्सी के रूप में चिकित्सीय परामर्श एवं उपचार दिया जाये।
श्री खन्ना ने बताया कि टेलीमेडिसिन ओ0पी0डी0 के माध्यम से चुने गये ऐसे मरीजों जिनका चिकित्सीय परीक्षण व सामान्य (पेशाब, रक्त व एक्सरे आदि) जाॅंच आवश्यक है, उनको एक रजिस्ट्रेशन नंबर देते हुए चिकित्सालय की सेमी-इमर्जेन्सी सर्विसेज में बुलाया जाएगा। क्योंकि हर मरीज व तीमारदार में कोरोना इन्फेेक्शन की सम्भावना रहती है, जिसकी पुष्टि न होने से स्वयं मरीज एवं तीमारदार के साथ-साथ चिकित्सालय में उपस्थित अन्य मरीज व चिकित्सीय दल में भी संक्रमण फैलने का खतरा रहता है। ऐसे मरीज जिन्हें सेमी-इमर्जेन्सी में बुलाया जा रहा है, यदि वे अपनी कोरोना की जाॅंच कराकर निगेटिव रिपोर्ट के साथ आते हैं तो संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है तथा उनके परीक्षण, सामान्य जाॅंच व आवश्यकतानुसार कोई प्रोसीजर अथवा आॅपरेशन करने की स्थिति में सुगमता से उपचार करना सम्भव हो सकता है। उन्होंने कहा कि सेमी इमर्जेसी सर्विसेज प्रारम्भ होने से नान कोविड मरीजों को अपना उपचार कराने में काफी सुविधा हो जाएगी।

Related posts

रक्षाबंधन पर इस साल है 12 घंटे का मुहूर्त, जाने पूजा विधि

विभाग की खाली जमीनों पर टेक्सटाइल्स पार्क की स्थापना की जायेगी: रेशम उद्योग मंत्री

वीरशैव महाकुम्भ के हीरक महोत्सव को सम्बोधित करते हुएः सीएम