केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने कर्नाटक के भद्रावती में आरएएफ की 97 वीं बटालियन की आधारशिला रखी

Image default
देश-विदेश

केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने कर्नाटक के शिवमोगा जिले में भद्रावती में आरएएफ की 97 वीं बटालियन की आधारशिला रखी। इस अवसर पर केंद्रीय कोयला और खान एवं संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदयुरप्पा, उप मुख्यमंत्री गोविंद करजोल, डॉ सीएन अश्वथ नारायण, कर्नाटक के गृह मंत्री बसवराज बोम्मई, सीआरपीएफ के महानिदेशक डॉ एपी माहेश्वरी सहित केंद्र और राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।   

  

     केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि यह बटालियन पूरे दक्षिण भारत में और गोवा तक के क्षेत्र के अंदर शांति स्थापना के लिए हमेशा जनता के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी रहेगी। श्री अमित शाह ने बताया कि लगभग 230 करोड़ की लागत से होने वाले इस निर्माण के लिए कर्नाटक सरकार ने लगभग 50 एकड़ भूमि दी है। यहां पर प्रशासनिक भवन, कर्मियों के निवास केंद्र, अस्पताल, केंद्रीय स्कूल के साथ-साथ खेलकूद के स्टेडियम का भी निर्माण किया जाएगा। श्री शाह ने कहा कि आज 97 वीं बटालियन के इस शिलान्यास के साथ ही आरएएफ के इतिहास में एक नया अध्याय जुड़ गया है।

     श्री अमित शाह ने कहा कि आज का दिन एक दूसरी दृष्टि से भी बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि लगभग 1 साल से कोरोना के खिलाफ चल रही लड़ाई निर्णायक मोड़ पर आ गई है। पूरी दुनिया में कोरोना के खिलाफ सरकारें लड़ी लेकिन भारत में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ-साथ 130 करोड़ की जनता भी कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़कर यशस्वी होकर बाहर निकले। श्री शाह ने कहा कि सबको साथ रखने का जो संस्कार मोदी जी ने पूरे कर्मचारियों के अंदर भरा है इसके कारण ही हम सफल हुए।

     श्री अमित शाह ने कहा कि आज हम सब भारतवासियों के लिए आनंद का विषय है कि अपने ही देश में बनी हुई दो वैक्सीन के माध्यम से लड़ाई को अंतिम चरण में ले जाने में सफल हुए हैं। आज सुबह ही मोदी जी ने वर्चुअल तरीके से टीकाकरण प्रोग्राम की शुरुआत की। श्री शाह ने कहा कि देशभर में 3000 से भी अधिक सेंटरों पर लोगों को आज टीका लगाया जाएगा और कल से यह गति 5 गुना और बढ़ेगी।

     श्री अमित शाह ने कहा कि चाहे नक्सलवाद हो या माओवाद के खिलाफ लड़ना हो, हर जगह देश की सुरक्षा के लिए सीआरपीएफ का जवान प्रथम पंक्ति में खड़ा है। आज ढाई सौ से ज्यादा बटालियन में तीन लाख से ज्यादा जवानों का एक कार्यबल देश की सीमाओं की सुरक्षा, आंतरिक सुरक्षा और देश की जनता के मनोबल को बढ़ाने के लिए हमेशा तत्पर है। श्री अमित शाह ने कहा कि आज जनता की नजर में सुरक्षा बलों को देखने का नजरिया बदलने के लिए श्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्रीय पुलिस स्मारक का निर्माण किया गया है जिसमें शहीदों की स्मृतियाँ सरंक्षित की गई हैं। श्री शाह ने यह भी कहा कि मोदी जी ने पुलिस आधुनिकीकरण के लिए 800 करोड़ की राशि का आवंटन किया है। सीआरपीएफ के जवानों के शहीद होने पर उनके परिवारों की चिंता के लिए भारत सरकार ने अच्छी व्यवस्था की है और उनको एकमुश्त राशि दी जाती है। श्री अमित शाह ने यह भी कहा कि देश में कहीं भी दंगाफ़साद होने की स्थिति मेँ तत्काल नियंत्रण कर सीआरपीएफ के जवानों ने अपनी उपस्थिति से शांति स्थापित कर अपनी स्थापना के उद्देश्य को सफल किया है। हमारे केंद्रीय सुरक्षाबलों ने 1.5 करोड़ से अधिक वृक्षारोपण किया है साथ ही अगर पौधा मरता है तो उसके रिप्लेसमेंट की व्यवस्था भी की है। इसके लिए मैं उनका अभिनंदन करता हूँ। मुझे विश्वास है जो बीज हमारे जवानों ने बोया है, 5 साल के अंदर वो एक वटवृक्ष बनकर पूरे भारत के पर्यावरण की सेवा करेगा।

     केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि मोदी जी के नेतृत्व में सुरक्षा को मजबूत करने के लिए राष्ट्रीय फारेंसिक साइंस और राष्ट्रीय रक्षा यूनिवर्सिटी की स्थापना की गई है और कर्नाटक में दोनों से जुड़े कालेजों को खोलने का काम होना चाहिए।

     श्री अमित शाह ने कहा कि फ्रंटलाइन के सुरक्षाकर्मी और राज्य के पुलिसकर्मियों के साथ ढेर सारे यातायात से जुड़े हुए लोग, सफाई कर्मचारी अपनी-अपनी जान की परवाह करे बगैर कोरोना के खिलाफ लड़ाई के अंदर बहुत बड़ा योगदान दिया है इसलिए उनका अधिकार बनता है सबसे पहले टीका उनको लगाया जाए। मगर कुछ लोग इसको भी वक्रदृष्टि से देखते हैं और अलग-अलग गलतफहमियां फैलाने का प्रयास कर रहें हैं। श्री शाह ने कहा कि टीका लगाने का सबसे पहला अधिकार उन लोगों का है जिन्होंने कोरोनावायरस के समय में फ्रंटलाइन में अपनी सेवाएं दी है और इस उपलब्धि को दर्ज कराने में बड़ा योगदान दिया है। कर्नाटक राज्य के अंदर भी लगभग 14 लाख टीके आ गए हैं और मुझे विश्वास है कि कर्नाटक पुलिस के सभी 90000 पुलिसकर्मियों और सभी स्वास्थ्यकर्मियों को जल्द ही टीका लगाया जाएगा।

     श्री अमित शाह ने कहा कि मोदी जी के वोकल फॉर लोकल के नारे के तहत केंद्रीय पुलिस कल्याण भंडार के अंदर अब से स्वदेशी चीजें ही मिलेंगी जिससे आत्मनिर्भर भारत का संकल्प सिद्ध होगा। अगर 130 करोड़ भारतवासी भारत में बनी वस्तुओं का इस्तेमाल करेंगे तो 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनामी बनने से हमें कोई नहीं रोक सकता।

     श्री अमित शाह ने कहा कि रैपिड एक्शन फोर्स सार्वजनिक व्यवस्था बनाए रखने और दंगों की स्थिति को संभालने के लिए सीआरपीएफ की एक विशेष फोर्स है। आरएएफ एक तटस्थ पेशेवर बल है जो शून्य प्रतिक्रिया समय में संकट स्थल पर पहुंचता है। आरएएफ समाज के कमजोर वर्गों के लिए तुरंत प्रतिक्रिया देता है और पीड़ितों को ‘आदर्श पुलिसिंग के साथ मानवता की सेवा करने’ का आदर्श प्रस्तुत करता है।

Related posts

15.12.2016 को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में भारतीय बास्केट के कच्चे तेल का मूल्य 52.04 अमरीकी डॉलर प्रति बैरल रहा

व्‍हाइट हाउस की कम्‍युनिकेशन डायरेक्‍टर होप हिक्‍स का इस्‍तीफा, डोनाल्‍ड ट्रंप को लगा बड़ा झटका

इनोवेशन व स्टार्टअप के गांव-गांव तक पहुंचने से छोटे किसानों का कल्याण होगा: श्री तोमर