संक्रमण अभी समाप्त नहीं हुआ है इसलिए टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकाॅल का पालन अवश्य करें: अमित मोहन प्रसाद

Image default
उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव ‘सूचना’ श्री नवनीत सहगल ने लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि प्रदेश के 8,469 कन्टेनमेंट जोन में 3,28,597 लोगों को चिन्हित किया गया है। इन कन्टेनमेंट जोन में कोरोना पाॅजिटिव लोगों की संख्या 15,779 है। इंस्टीट्यूशनल क्वारेंटाइन किये गये लोगों की संख्या 3,540 है। उन्होंने बताया कि मा0 मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में प्रदेश में कोविड नियंत्रण के लिए एक विशेष अभियान चल रहा हैं। जिसके माध्यम से घर-घर जाकर लोगों से संक्रमण की जानकारी ली जा रही है। सर्विलांस अभियान के अन्तर्गत प्रदेश की 24 करोड़ जनसंख्या में से लगभग 19 करोड़ लोगों तक पहुंच कर उनका हालचाल जाना गया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश मे अब तक 3,57,54,807 कोविड-19 के टेस्ट किये जा चुके है। उन्होंने प्रदेश के सभी लोगों से अपील है कि कोविड-19 के प्रोटोकाल का अवश्य पालन करें, जैसे साबुन-पानी से नियमित हाथ धोते रहे, मास्क लगाये उसके साथ-साथ जो टीकाकरण की प्रक्रिया चल रही है उसमें बढ़-चढ़कर भाग लें।
श्री सहगल ने बताया कि आज मुख्यमंत्री जी ने अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा बैठक में जनपद लखनऊ, प्रयागराज, कानपुर नगर, वाराणसी, आगरा, मेरठ, गाजियाबाद, गोरखपुर, सहारनपुर, बरेली, झांसी तथा गौतमबुद्ध नगर में उपचार व्यवस्था को सुदृढ़ किये जाने के निर्देश दिये है। इसके साथ ही इन जिलों में स्वास्थ्य विभाग एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग में टीम भेजे जाने तथा इन जिलों में विशेष सचिव स्तर के अधिकारियों को भेजते हुए कोविड-19 से बचाव व उपचार की व्यवस्था का सतत अनुश्रवण किये जाने के भी निर्देश दिये है।
श्री सहगल ने बताया कि युवाओं के लिए प्रदेश में मिशन रोजगार चलाया जा रहा है। प्रदेश सरकार युवाओं को सरकारी नौकरी, रोजगार, स्वरोजगार, कौशल प्रशिक्षण के माध्यम से रोजगार उपलब्ध कराने की मुहिम चला रही है। उन्होंने बताया कि सभी आयोगों, विभागों, निगमों, परिषदों की रिक्त पदों की भर्तियांे को पारदर्शी ढंग से सम्पन्न कराने का कार्य किया जा रहा है। पिछले 04 साल में 04 लाख से अधिक सरकारी नौकरियां उपलब्ध कराई गयी हैं। अभियान के अन्तर्गत निजी क्षेत्रों के छोटे उद्योगों में एमएसएमई के माध्यम से अधिक से अधिक रोजगार सृजित किये गये हैं और बैंकों से समन्वय करके नई इकाइयों को ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है। वर्तमान वित्तीय वर्ष में 10 लाख नई एमएसएमई इकाइयों को बैंकों द्वारा ऋण वितरण किया गया है। इन्हीं इकाइयों से 30 लाख से अधिक निजी क्षेत्र में रोजगार के अवसर सृजित हुए हैं। 31 मार्च, 2021 तक 14.39 लाख इकाइयों को लगभग 50 हजार करोड़ रूपये से अधिक का ऋण वितरण किये गये हैं। उन्होंने बताया कि विगत 04 वर्षों में 55 लाख एमएसएमई इकाइयों के माध्यम से 1.5 करोड़ रोजगार सृजित किये गये है।
श्री सहगल ने बताया कि प्रदेश सरकार किसानों के हितों के लिए कृतसंकल्प है और किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उनकी फसल को खरीदे जाने की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। प्रदेश सरकार द्वारा धान रिकार्ड खरीद की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद किये जाने हेतु 6000 क्रय केन्द्र स्थापित किये गये हैं। उन्होंने बताया कि एक नई व्यवस्था के तहत कृषक उत्पादक संगठनों (एफ0पी0ओ0) को भी क्रय केन्द्र खोलने की अनुमति दी गयी है। इस संबंध में आज शासनादेश भी जारी कर दिया जायेगा। उन्होंने जिलाधिकारियों को निर्देशित किया है कि कृषक उत्पादक संगठनों (एफ0पी0ओ0) को भी क्रय केन्द्रों से जोड़कर गेहूं क्रय का कार्यक्रम शुरू करें। यह व्यवस्था प्रदेश में पहली बार हो रही है। उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य है, जो इस प्रकार का प्रयोग करने जा रहा है। 01 अप्रैल से 15 जून, 2021 तक गेहू खरीद का अभियान जारी रहेगा। गेहू क्रय अभियान में अब तक 5780.94 मी0 टन से अधिक गेहूं खरीदा गया है। मा0 मुख्यमंत्री जी ने सभी जिलाधिकारियों को निर्देशित किया है कि वह गेहूं क्रय केन्द्रों का लगातार स्वयं या अपने अधीनस्थ अधिकारियों के माध्यम से निरीक्षण, अनुश्रवण कराते रहें, किसानों को किसी प्रकार की असुविधा न हो।
श्री सहगल ने बताया कि मा0 मुख्यमंत्री जी ने आज समीक्षा बैठक में यह भी निर्देश दिया कि गर्मी के मौसम में आग लगने की दुर्घटनाओं को ध्यान में रखते हुए अतिरिक्त सजगता बरती जाए। आग लगने की दुर्घटना होने पर प्रभावित लोगों को 24 घण्टे में अनुमन्य मुआवजा राशि वितरित किये जायें। सभी जनपदों में अग्निशमन केन्द्रों को पूरी तरह सक्रिय रखने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि आग लगने की दुर्घटना होने पर प्रभावित लोगों को अविलम्ब राहत व अन्य आवश्यक सामग्री उपलब्ध करायी जाए।
अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में गत एक दिन में कुल 1,79,417 सैम्पल की जांच की गयी।  प्रदेश में अब तक कुल 3,57,54,807 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना सेे संक्रमित 5,928 नये मामले आये हैं। प्रदेश में 27,509 कोरोना के एक्टिव मामले में से 14,637 लोग होम आइसोलेशन में हैं। निजी चिकित्सालयों में 550 मरीज अपना इलाज करा रहे है तथा शेष मरीज सरकारी चिकित्सालयों में निःशुल्क इलाज भी करा रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक 6,03,495 लोग कोविड-19 से ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 1,91,401 क्षेत्रों में 5,19,011 टीम दिवस के माध्यम से 3,17,62,662 घरों के 15,40,97,625 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि कल प्रदेश में 05 लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण करने का बेंचमार्क स्थापित किया गया है। प्रदेश में 45 वर्ष सेे अधिक आयु वालों का कोविड वैक्सीनेशन किया जा रहा है। अब तक 60,47,805 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज तथा 11,25,255 लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज दी गयी हैं। इस प्रकार कुल 71,73,063 लोगों को वैक्सीन की डोज दी जा चुकी है।
श्री प्रसाद ने बताया कि कल 07 अप्रैल, 2021 को विश्व स्वास्थ्य दिवस पर 03 अप्रैल, 2021  तक जिन व्यक्तियों ने कोविड वैक्सीन की दोनों डोज ली है उन्हें लाॅटरी के माध्यम से उपहार दिया जायेगा। 1.50 से पौने 02 लाख कोविड टेस्ट करने का लक्ष्य प्रदेश में रखा गया है। कोविड संक्रमण को देखते हुए अत्यधिक सावधान रहना जरूरी है। सभी लोग मास्क पहने, सुमन-के (ैन्ड।छ.ज्ञ) फार्मूले का उपयोग करते हुए हाथ धोेये। इस फार्मूले में हाथ को सीधा, उल्टा, मुट्ठी, नाखून, कलाई को 30 से 40 सेकेण्ड तक धोना आवश्यक है। मास्क का प्रयोग समाज के प्रति जिम्मेदारी व सामाजिक उत्तरदायित्व का पालन है। इसे जन आंदोलन बनाना होगा।
श्री प्रसाद ने बताया कि इस समय विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है। संक्रमण अभी समाप्त नहीं हुआ है इसलिए टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकाॅल का पालन अवश्य करें। अपने हाथ को साबुन-पानी से निरन्तर धोते रहें। कम से कम 30 सेकण्ड तक हाथ धोते रहें, जिससे विषाणु नष्ट हो जायें और अन्य लोगों से दो-गज की दूरी अवश्य बनाएं और भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। उन्होंने कहा कि घर के बड़े-बुजुर्गों का टीकाकरण अवश्य कराएं। संक्रमण अभी समाप्त नहीं हुआ है इसलिए टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकाॅल का पालन अवश्य करें।

Related posts

देश का हर नागरिक राष्ट्र का निर्माता है: राष्ट्रपति

जेल के अधिकारियों व कर्मचारियों के लिए मोबाइल का उपयोग निषिद्ध

मुख्यमंत्री ने परमहंस योगानन्दजी की 125वीं जयन्ती पर आयोजित समारोह को सम्बोधित किया