एसबीआई कार्ड ने गूगल के साथ साझेदारी की, अब कार्ड धारक गूगल पे के जरिए कर सकेंगे भुगतान

Image default
उत्तराखंड

देहरादून: भारत की सबसे बड़ी क्रेडिट कार्ड कंपनी एसबीआई कार्ड ने आज गूगल के साथ अपनी साझेदारी की घोषणा की है। इस सहयोग के अंतर्गत कार्डधारक गूगल पे प्लेटफार्म पर एसबीआई क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल कर सकेंगे। एसबीआई क्रेडिट कार्ड के उपयोगकर्ता अब अपने एंड्रॉइड स्मार्टफोन पर गूगल पे एप का उपयोग करे कार्ड से भुगतान कर सकते हैं। कार्डधारक फिजिकल क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल किए बगैर गूगल पे के जरिए तीन मोड्स (तरीकों) से सुरक्षित भुगतान कर सकते हैं। वे एनएफसी इनेबल्ड पीओएस टर्मिनल्स पर टैप एंड पे की मदद से या फिर दुकानदारों के पास भारत क्यूआर कोड स्कैन करके भुगतान कर सकते हैं या ऑनलाइन भुगतान का विकल्प अपना सकते हैं। यह लॉन्च ग्राहकों को एक सुरक्षित एवं बेहतर अनुभव देने के लिए संपर्करहित, डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के एसबीआई कार्ड के प्रयास के अनुरूप हैं।

टोकन के जरिए एक बेहद सुरक्षित भुगतान अनुभव प्रदान किया जाता है, जहां कार्डधारक गूगल पे का उपयोग अपने फोन से जुड़े डिजिटल टोकन के माध्यम से भुगतान करने के लिए करते हैं। इसमें कार्डधारक को मर्चेंट के साथ अपनी किसी भी तरह की फिजिकल कार्ड जानकारी साझा नहीं करनी पड़ती। गूगल पे भारत में व्यापक रूप से व्यापारियों के बीच एक स्वीकृत पेमेंट ऐप है। साथ ही महानगरों व गैर-महानगरों में भी इसकी मजबूत उपस्थिति है। इस सहयोग के माध्यम से, एसबीआई कार्ड का उद्देश्य कार्डधारकों को गूगल पे के माध्यम से भुगतान करने का विकल्प देना और उनके मोबाइल फोन पर भुगतान का सुरक्षित अनुभव प्रदान करना है। फिलहाल यह सुविधा वीजा प्लेटफॉर्म पर एसबीआई क्रेडिट कार्डधारकों के लिए उपलब्ध है।

कार्डधारकों को कुछ आसान से चरणों का पालन करके गूगल पे प्लेटफॉर्म पर उनके एसबीआई कार्ड का एक बार रजिस्ट्रेशन करना होगा –

  1. एंड्राइडमोबाइल फोन पर श्गूगल पेश् ऐप का लेटेस्ट वर्जन डाउनलोड करें।
  2. सेटिंग्समें पेमेंट मेथड्स पर जाएं और ‘ऐड कार्ड दबाएं।
  3. कार्डधारकका नाम, कार्ड नंबर, एक्सपायरी, सीवीवी डालें और ओटीपी कन्फर्म करें।
  4. ओटीपीप्रमाणीकरण के बाद कार्ड भुगतान के लिए पंजीकृत है और इसका उपयोग एनएफसी-इनेबल्ड टर्मिनलों, भारत क्यूआर इनेबल्ड व्यापारियों और चुनिंदा ऑनलाइन व्यापारियों के लिए किया जा सकता है।

इस साझेदारी पर टिप्पणी करते हुए एसबीआई कार्ड के एमडी और सीईओ श्री अश्विनी कुमार तिवारी ने कहा, “एसबीआई कार्ड में हम अपने उपभोक्ता के जीवन को आसान और बेहतर बनाने के लिए नवाचार की सीमाओं को आगे बढ़ाने का निरंतर प्रयास करते हैं। गूगल पे के साथ सहयोग इस दिशा में एक और सकारात्मक कदम है। भुगतान के प्रमुख प्रदाताओं में से एक श्गूगल पेश् के साथ हमारा जुड़ाव हमें एक विशाल उपयोगकर्ता आधार के लिए सुरक्षित, सुविधाजनक डिजिटल भुगतान समाधान प्रदान करने में सक्षम करेगा। भारत में स्मार्टफोन की पहुंच बढ़ रही है, ऐसे में क्रेडिट कार्ड ने भी मोबाइल फोन पर सुरक्षित रूप से रहने के लिए अपना स्वररूप बदल लिया है और गूगल के साथ हमारी साझेदारी स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने वाले हमारे ग्राहकों के लिए एक नया, सुरक्षित और सुचारू भुगतान मार्ग खोलती है।ष्

गूगल पे और नेक्स्ट बिलियन यूजर्स – इंडिया के बिजनेस हेड श्री सजीथ शिवनंदन ने कहा, श्श्हमें एसबीआई कार्ड के साथ सहयोग करके खुशी हो रही है। इसके अंतर्गत हम भारतीय उपयोगकर्ताओं के लिए टोकेनाइजेशन जैसे वैश्विक मानकों के साथ सुरक्षा के उच्चतम मानदंडों को लेकर आ रहे हैं। हम आने वाले सालों में भुगतान को अधिक सुरक्षित, सुविधाजनक और सहज बनाने के लिए प्रतिबद्ध बने हुए हैं।

एसबीआई कार्डधारक गूगल पे का उपयोग करके तीन मोड्स में भुगतान कर सकते हैंरू

टैप एंड पे 

  • उपयोगकर्ता बस अपने एंड्रॉयड स्मार्टफोन को अनलॉक करें और भुगतान करने के लिए एनएफसी इनेबल्ड पीओएस पर टैप करें।
  • उपयोगकर्ता के एंड्रॉइड स्मार्टफोन में टैप भुगतान के लिए एनएफसी क्षमता होनी चाहिए।
  • 2000 रुपये तक की लेनदेन राशि के लिए पिन आवश्यक नहीं है।

भारत क्यूआर

  • उपयोगकर्ता गूगल पे का उपयोग करके ऑनलाइन या ऑफलाइन मर्चेंट पर भारत क्यूआर कोड को स्कैन करें।
  • उपयोगकर्ता भुगतान करने के लिए व्यापारी का नाम, राशि और ओटीपी की पुष्टि करें।

ऑनलाइन भुगतान

  • गूगल पे से मोबाइल रिचार्ज और जहां क्रेडिट कार्ड भुगतान के लिए गूगल पे को सपोर्ट किया जाता हो, वहां थर्ड पार्टी मर्चेंट्स पर ऑनलाइन भुगतान।
  • उपयोगकर्ता को भुगतान करने के लिए ओटीपी कन्फर्म करना होगा। 

Related posts

महामहिम राष्ट्रपति के भ्रमण कार्यक्रम के दौरान विभिन्न व्यवस्थओं के संम्बन्ध में बैठक लेते जिलाधिकारी रविनाथ रमन

वीवीपैट मशीन के बारे में जानकारी उपलब्ध कराते हुएः विशेषज्ञ ईसीआईएल

सीमावर्ती क्षेत्रों से पलायन को रोकने के लिए मुख्यमंत्री हरीश रावत ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखकर अनुरोध किया