नागालैंड की राज्य सरकार की मांग पर रेलवे ने आज दीमापुर में 10 आइसोलेशन कोच तैनात किया

Image default
देश-विदेश

कोविड के खिलाफ एकजुट लड़ाई में राष्ट्र की क्षमताओं को मजबूत करते हुए रेल मंत्रालय ने अपनी बहु-आयामी पहलों के बीच करीब 64,000 बेड साथ लगभग 4,000 आइसोलेशन कोचों को तैनात किया है।

राज्यों के साथ साझा रूप से काम करने और यथासंभव सामंजस्यपूर्ण जल्द कार्यवाही के लिए एक आदेश को लेकर अपने समझौता ज्ञापन को पूरा करने के लिए रेलवे ने जोनों और डिवीजनों को सशक्त बनाने की एक विकेंद्रीकृत कार्य योजना तैयार की है। इन आइसोलेशन कोचों को आसानी से स्थानांतरित और भारतीय रेल नेटवर्क पर मांग के स्थानों पर इन्हें तैनात किया जा सकता है।

वहीं राज्यों की मांग के अनुसार वर्तमान में कोविड मरीजों की देखभाल के लिए विभिन्न राज्यों कोलगभग 3400 बेड की क्षमता के साथ 213कोच सौंपे गए हैं। मौजूदा समय में आइसोलेशन कोचों का इस्तेमाल दिल्ली, महाराष्ट्र (अजनी आईसीडी, नंदुरबार), मध्य प्रदेश (इंदौर के करीब तीही) में किया जा रहा है। नवीनतम मांग नागालैंड की राज्य सरकार की ओर से आइसोलेशन कोचों के लिए आया है।इसके अनुरूप रेलवे ने दीमापुर में 10 आइसोलेशन कोचों को तैनात किया है।

इसके अलावा रेलवे ने उत्तर प्रदेश के बड़े शहरों जैसे; फैजाबाद, भदोही, वाराणसी, बरेली और नजीबाबाद में भी 50 कोच लगाए हैं। वहीं जिला प्राधिकारियों की मांग पर आइसोलेशन कोचों को नंदुरबार से पालघर स्थानांतरित किया गया है। जबलपुर के लिए भी आइसोलेशन कोच तैनात किए जा रहे हैं।

दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र में तैनात इन कोचों की उपयोगिता की अद्यतन स्थिति निम्नलिखित है –

आज की तिथि में महाराष्ट्र के नंदुरूबार में पिछले कुछ दिनों में 6 नए मरीजों को भर्ती किया किया है, जबकि 3 मरीज को आइसोलेशन अवधि के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया।अभी इस सुविधा में 35 कोविडमरीज आइसोलेशन में हैं। अब तक राज्य स्वास्थ्य प्राधिकारियों द्वारा 95 भर्ती पंजीकृत किए गए हैं, जबकि 60 मरीजों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। अभी भी 330 बेड उपलब्ध हैं। इसके अलावा रेलवे ने अजनी इनलैंड कंटेनर डिपो (आईसीडी) में 11 कोविड केयर कोचों (चिकित्सा कर्मियों एवं आपूर्ति के लिए विशेष रूप से सेवा देने वाले एक कोच के साथ) को लगाया है।

मध्य प्रदेश राज्य सरकार द्वारा 2 कोचों की मांग के संबंध में पश्चिमी रेलवे के रतलाम डिवीजन ने इंदौर के पास तीही स्टेशन पर 320 बेड की क्षमता वाले 22 कोच तैनात किए हैं। अब तक यहां 12 मरीज भर्ती हो चुके हैं। इस सुविधा में अभी 308 बेड उपलब्ध हैं। वहीं भोपाल में 20 कोच तैनात किए गए हैं। नवीनतम आंकड़ों के अनुसारइनमें4 डिस्चार्ज के साथ 21मरीजों को भर्ती किया गया। यहां अभी 275बेड उपलब्ध हैं।

रेलवे ने दिल्ली में 1200 बिस्तरों की क्षमता के साथ 75 कोविड केयर कोचों की राज्य सरकार की मांग को पूरा किया है। इनमें से 50 कोच शकूरबस्ती और 25 कोच आनंद विहार स्टेशन पर तैनात हैं। अब तक इनमें 1 मरीज को डिस्चार्ज किए जाने के साथ 4भर्ती पंजीकृत किए गए हैं। 1196 बेड अभी भी उपलब्ध हैं।

नवीनतम रिकॉर्ड के अनुसार, उपरोक्त राज्यों में कुल मिलाकर 123 मरीजों को भर्ती किया गया। इनमें से 62को डिस्चार्ज किया जा चुका है। वर्तमान में 61कोविड मरीज इन आइसोलेशन कोचों का उपयोग कर रहे हैं। इन सुविधाओं में अभी भी 3200 बेड उपलब्ध हैं। इनमें दीमापुर में नए कोचों की तैनाती भी शामिल है।

हालांकि उत्तर प्रदेश राज्य सरकार द्वारा अब तक कोचों की मांग नहीं की गई है, फैजाबाद, भदोही, वाराणसी, बरेली और नजीबाबाद में कुल 800 बिस्तरों (50 कोच) की क्षमता के साथ प्रत्येक स्थान में 10 कोच रखे गए हैं।

वहीं असम की सरकार ने भी विभिन्न स्टेशनों पर 150 कोविड कोचों को तैयार रखने के लिए अनुरोध किया है। हालांकि इन कोचों को छह स्टेशनों कामख्या/गुवाहाटी, लामडिंग, न्यू बंगाईगांव, सिलचर, बदरपुर और डिब्रुगढ़ के लिए अनुरोध नहीं किया है। इसकी जगह यह सुझाव दिया गया है कि जरूरत पड़ने पर इन कोचों को लगाया जाए।

Related posts

केन्द्रीय वित्त एवं कॉर्पोरेट कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने कोविड-19 महामारी के दौरान लेखा महानियंत्रक के योगदान की प्रशंसा की

शिक्षा मंत्री ने 77 कर्मचारियों के वारिसों को अनुकम्पा के आधार पर नियुक्ति पत्र बांटे

किसानों ने रिकॉर्ड उत्‍पादन कर प्रमाणित किया है कि वे सरकार की किसान हितैषी नीतियों में विश्वास रखते हैं: श्री राम विलास पासवान