विदेश से लौट नहीं किया क्वारनटीन का पालन, तेलंगाना पुलिस के DSP पर FIR

Image default
देश-विदेश

कोरोना वायरस पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले चुका है. भारत के अधिकतर हिस्सों में लॉकडाउन है. कई राज्यों में कर्फ्यू लागू है. इससे कोरोना वायरस संक्रमण की गंभीरता का अंदाजा लगाया जा सकता है. लेकिन कई लोग इसकी अनदेखी भी कर रहे हैं. इसी तरह की अनदेखी पर तेलंगाना पुलिस ने हाल ही में ब्रिटेन से लौटे अपने ही एक पुलिस उपाधीक्षक (DSP) और उनके बेटा के खिलाफ केस दर्ज किया है. इन्हें क्वारनटीन में रहने का निर्देश था.

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, ‘क्वारनटीन प्रोटोकॉल से जुड़े दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करने पर तेलंगाना पुलिस ने ब्रिटेन से हाल में लौटे एक पुलिस उपाधीक्षक और उनके बेटा के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. DSP का बेटा मेडिकल टेस्ट में कोरोना संक्रमित पाया गया है.’

कोरोना को लेकर लापरवाही और इसकी गंभीरता की अनदेखी करने पर इसी तरह की सख्ती कर्नाटक पुलिस को भी दिखानी पड़ रही है. बेंगलुरु सिटी के पुलिस आयुक्त भास्कर राव ने सोमवार को कहा था कि सार्वजनिक हित को देखते हुए घर में क्वारनटीन पांच हजार लोगों के हाथ पर मुहर लगाई गई है. मुझे कई फोन आए हैं कि क्वारनटीन में रखे गए कई लोग बीएमटीसी की बसों में घूम रहे हैं और रेस्तरां में बैठे हुए हैं. प्लीज 100 पर फोन कीजिए. इन्हें तुरंत उठाया जाएगा, गिरफ्तार किया जाएगा और सरकार क्वारनटीन में भेजा जाएगा.

बहरहाल, केंद्र सरकार की तरफ से अब एक निर्देश जारी किया गया है, जिसके तहत अगर कोई लॉकडाउन का पालन नहीं करता है तो उसपर कानूनी एक्शन लिया जा सकता है. देश के करीब 30 राज्यों में लॉकडाउन का ऐलान किया गया है, इसके बावजूद लोग लगातार घरों से बाहर निकल कर रहे हैं. इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी सख्ती जता चुके हैं. पीएम ने लिखा है कि लोग लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे हैं, सरकारें कानून का पालन करवाएं.

लॉकडाउन की स्थिति पर प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा, लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं. कृपा करके अपने आप को बचाएं, अपने परिवार को बचाएं, निर्देशों का गंभीरता से पालन करें. राज्य सरकारों से मेरा अनुरोध है कि वो नियमों और कानूनों का पालन करवाएं. Source Aajtak

Related posts

प्रथम महिला श्रीमती शुभ्रा मुखर्जी का निधन

पर्यटन राज्‍य मंत्री श्री के जे अल्‍फॉन्‍स दिल्‍ली के अपोला अस्‍पताल में स्विस पर्यटक युगल क्‍वेन्टिन जेरिमी क्‍लार्क और मैरी ड्रोस से मुलाकात की।

शिक्षण की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए अर्पित की सराहना की गई; यह “हर एक काम देश के नाम” की दिशा में सरकार का एक कदम है: रमेश पोखरियाल ‘निशंक’