राष्ट्रीय डाक सप्ताह में मेल दिवस पर उत्कृष्ट ग्राहकों का हुआ सम्मान, पोस्टमास्टर जनरल केके यादव ने किया सम्मानित

उत्तर प्रदेश

डाक विभाग नवीन सेवाओं और नई टेक्नोलॉजी के साथ अपनी सेवाओं के क्षितिज का निरंतर विस्तार करते हुए नित्य समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंच रहा है। मोबाइल, ईमेल और सोशल मीडिया के इस दौर में भी पत्रों की अपनी अहमियत है। आज भी तमाम महत्वपूर्ण दस्तावेज – सरकारी व कोर्ट संबंधी पत्रों के साथ आधार कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आई कार्ड, पैन कार्ड, विभिन्न बैंकों की चेक बुक व एटीएम कार्ड डाकघरों से ही भेजे जाते हैं। ‘राष्ट्रीय डाक सप्ताह’ के अंतर्गत ‘मेल दिवस’ पर आयोजित ‘ग्राहक सम्मेलन’ को संबोधित करते हुए वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने उक्त उद्गार व्यक्त किये। इस दौरान डाक विभाग को स्पीड पोस्ट सेवा में सर्वाधिक बिजनेस देने हेतु भारतीय जीवन बीमा निगम, मंडलीय कार्यालय, भेलूपुर, फर्स्ट फॉरेन सर्विस और क्षेत्रीय कर्मचारी भविष्य निधि कार्यालय, पहड़िया को पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने सम्मानित भी किया।

पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव  ने कहा कि डाक विभाग विभिन्न व्यवसाय समूहों के हिसाब से विभिन्न प्रकार की योजनाएं संचालित कर रहा है। इसमें स्पीड पोस्ट, बिजनेस पार्सल, बिजनेस पोस्ट, मीडिया पोस्ट, बिल मेल सर्विस, रिटेल पोस्ट, लॉजिस्टिक्स पोस्ट, डायरेक्ट पोस्ट, ई-पोस्ट, ई-पेमेंट, इत्यादि  प्रमुख हैं। वाराणसी में कैंट प्रधान डाकघर परिसर में इंटरनेशनल बिजनेस सेंटर की स्थापना के बाद विदेशों में डाक भेजने में भी काफी सहूलियत हुई है।

श्री यादव ने बताया कि, डाक विभाग ने तमाम कस्टमर फ्रेंडली सेवाएं आरंभ करके ग्राहकों  को अपनी तरफ आकर्षित किया है। श्री काशी विश्वनाथ सहित तमाम प्रसिद्ध मंदिरों के प्रसाद और पवित्र गंगा जल स्पीड पोस्ट से लोगों के पास पहुँच रहे हैं। पार्सल वितरण हेतु नोडल डिलीवरी सेंटर तो ई-कॉमर्स उत्पादों हेतु कैश ऑन डिलीवरी की सुविधा दी जा रही है। लेटर बॉक्स से नियमित निकासी हेतु ‘नन्यथा’ एप और डाक वितरण हेतु पोस्टमैन मोबाइल एप के माध्यम से डाकिया को हाईटेक बनाया गया है। आज डाकिया सिर्फ पत्र ही नहीं लाता, वह चलता-फिरता बैंक बनकर वित्तीय समावेशन में भी अहम भूमिका निभा रहा है।

इस अवसर पर वाराणसी पूर्वी मंडल के प्रवर अधीक्षक डाकघर राजन, डाक अधीक्षक श्री संजय वर्मा, सहायक निदेशक राम मिलन, सीनियर पोस्टमास्टर चंद्रशेखर सिंह  बरुआ, इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक मैनेजर मुक्ता, सहायक अधीक्षक अजय कुमार, आरके चौहान, निरीक्षक श्रीकांत पाल, वीएन द्विवेदी, इन्द्रजीत पाल, शशिकांत कन्नौजिया सहित तमाम अधिकारी और विभिन्न संस्थानों के प्रतिनिधि शामिल हुए।

Related posts

500 और 1000 रूपये के नोट बंद होने पर कानून व्यवस्था बनाये रखते हुए कड़ी सतर्कता के निर्देश

उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने किया राज्य स्तरीय कन्ट्रोल एवम् मानीटरिंग सेंटर का शुभारम्भ

लोक निर्माण मंत्री को जनता ने सुनाई समस्याएं