नवचयनित सहायक अभियन्ता भूगर्भ जल से जुड़ी विभिन्न परियोजनाओं को तेजी से लागू कर आदर्श कार्यसंस्कृति स्थापित करें: डा. महेन्द्र सिंह

Image default
उत्तर प्रदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के जलशक्ति मंत्री डा0 महेन्द्र सिंह ने लोक सेवा आयोग इलाहाबाद से चयनित 10 सहायक अभियन्ताओं को उनकी पसंद के अनुसार तैनाती पत्र सौंपते हुए कहा कि अपने दायित्वों का निर्वहन पूरी निष्ठा एवं ईमानदारी से करते हुए भूभर्ग जल विभाग में एक नयी कार्यसंस्कृति तथा आदर्श व्यवस्था की शुरूआत करें। उन्होंने सभी सहायक अभियन्ताओं से आवंटित स्थानों पर तत्काल कार्यभार ग्रहण करके विभागीय कार्यो को तेजी से क्रियान्वयन करने के भी निर्देश दिये।

डा0 महेन्द्र सिंह आज विधान भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष में नवचयनित सहायक अभियन्ताओं जिनमें 06 सिविल तथा 04 मैकेनिकल के है, उन्हें तैनाती पत्र सौंपा। इस मौके पर उन्होंने कहा कि केंद्र की तरह उ0प्र0 देश का पहला राज्य है जहां मुख्यमंत्री जी ने जलशक्ति विभाग का गठन किया है। इसमें सिंचाई, लद्यु, भूभार्ग जल, जल संसाधन आदि विभाग शामिल किये गये है।

जलशाक्ति विभाग के अंतर्गत आने वाले सभी अधिकारियों, कर्मचारियों, का दायित्व है कि नवगठित विभाग के उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए तेजी से विभागीय योजनाओं का क्रियान्वय सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि गिरते भूभर्ग जल स्तर भविष्य के लिए चिन्ता का विषय है। इसलिए विभाग के अधिकारी जल संरक्षण एवं वर्षा जल संचयन आदि से संबंधित कार्यो को तेजी से लागू कर विभाग द्वारा दी गयी जिम्मेदारी का निर्वहन पूरी निष्ठा से करें।

डा0 सिंह ने चयनित सहायक अभियन्ताओं को बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए कहा कि जिस उद्देश्य को लेकर भूभर्ग जल विभाग मेें आये हैं उसको संकल्प के साथ पूरा करें।  इसके साथ ही अपने व्यवहार एवं कार्य प्रणाली से एक आदर्श कार्यसंस्कृति स्थापित करें। उन्होंने कहा कि ट्रांसफर एवं पोस्टिंग को लेकर अभ्यर्थियों के मन में विभिन्न प्रकार के शंकाएं रहती हैं। आज उनकों पारदर्शिता के आधार पर उनके द्वारा दिये गये विकल्प पर तैनाती दी जा रही है।

लोक सेवा आयोग से चयनित सहायक अभियन्ताओं में सर्वश्री गणेश सिंह, नैनीताल, (उत्तराखण्ड), शिवम द्धिवेदी, फतेहपुर, राहुल कुमार शर्मा, सारन ( बिहार), सौरभ शाह नैनीताल, (उत्तराखण्ड), शशांक शेखर सिंह फिरोजाबाद, श्रीमती शिप्रा चैबे गौरखपुर, आदित्य कुमार पाण्डेय मुरादाबाद, सुश्री सांची कंसल सहारनपुर, विश्वजीत सिंह फिरोजाबाद तथा अंकुर श्रीवास्तव जनपद प्रयागराज शामिल हैं।

Related posts

यूपी अब नहीं रहा ‘प्रश्न प्रदेश’, सही मायनों में बन रहा है ‘उत्तर प्रदेश’: सीएम योगी आदित्यनाथ

पिछड़ा वर्ग आयोग की बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गये

बीएचयू के पर्वतारोहियों ने गोइचा-ला पर्वत पर फहराया तिरंगा