वितरण की अन्तिम तिथि 31 जुलाई को मोबाइल ओ.टी.पी. वेरीफिकेशन के माध्यम से वितरण

Image default
उत्तर प्रदेश

लखनऊः प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत आवश्यक वस्तुओं का वितरण 21 जुलाई, 2021 से प्रारम्भ होकर 31 जुलाई, 2021 तक सम्पन्न होगा।  इस अवधि में अन्त्योदय तथा पात्र गृहस्थी लाभार्थियों से सम्बद्ध यूनिटों पर 05 किग्रा0 प्रति यूनिट खाद्यान्न (03 किग्रा0 गेहूँ व 02 किग्रा0 चावल) का निःशुल्क वितरण लाभार्थियों में सुनिश्चित कराया जायेगा। राशन कार्डधारकों को पोर्टेबिलिटी के अन्तर्गत खाद्यान्न प्राप्त करने की सुविधा अनुमन्य रहेगी। इस संबंध में प्रदेेश के खाद्य आयुक्त, श्री मनीष चौहान ने आवश्यक दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं।
यह जानकारी प्रदेश के अपर खाद्य आयुक्त, श्री अनिल कुमार दुबे ने आज यहां देते हुए बताया कि वितरण की अन्तिम तिथि 31 जुलाई, 2021 होगी, जिस दिन आधार प्रमाणीकरण के माध्यम से खाद्यान्न प्राप्त न कर सकने वाले उपभोक्ताओं हेतु मोबाइल ओ.टी.पी. वेरीफिकेशन के माध्यम से वितरण सम्पन्न किया जा सकेगा।
अपर आयुक्त ने बताया कि इस बार प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना तहत मिलने वाला राशन, बैग में वितरित करने का निर्णय लिया गया है। इस संबंध में पात्र लाभार्थियों में वितरण कराये जाने हेतु प्रदेश के समस्त जिलाधिकारियों और जिला पूर्ति अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश भी जारी कर दिये गये हैं।
श्री दुबे ने बताया बैग पर योजना के नाम के साथ प्रधानमंत्री योगी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की फोटो है। इसकी शुरूआत आज शाहजहांपुर से कर दी गयी है। उन्होंने बताया कि जिला पूर्ति अधिकारी/जिला सूचना अधिकारी द्वारा यह सुनिश्चित किया जायेगा कि जनपद के प्रत्येक राशन की दुकान से जनपद के प्रभारी मंत्री, स्थानीय सांसद, विधायक एवं जनप्रतिनिधि गण द्वारा प्रत्येक लाभार्थी को बैग का वितरण हो। इसके लिए जिलाधिकारी द्वारा किसी अपर जिलाधिकारी को इस कार्य का नोडल अधिकारी नामित किया जायेगा, जो प्रत्येक दिन बैग की उपलब्धता एवं वितरण की वास्तविक स्थिति से शासन को अवगत करायेंगे।

Related posts

नए प्रधानाचार्य प्राप्त होने से पठन-पाठन के कार्य में गति प्रदान होगी तथा शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार होगा: डॉ दिनेश शर्मा

कोविड मरीजो के बेहतर इलाज हेतु ई-सीसीएस प्रणाली सफल

संविधान के 126वें संशोधन विधेयक-2019 के अनुसमर्थन के लिए आहूत राज्य विधान मण्डल के विशेष सत्र के तहत विधान सभा में मुख्यमंत्री का सम्बोधन