नाबालिग नही बेच पांएगे तंबाकू उत्पाद

Image default
उत्तराखंड

देहरादून: देशभर में तंबाकू उत्पादों की बिक्री नाबालिगों से करने और कराने वालों परकिशोर न्याय अधिनियम के तहत् कड़ी कार्यवाही होगी जिसमें 7

साल की सजा और एक लाख रुपएतक का जुर्माना हो सकेगा। इसलिए 16 जनवरी से नाबालिगों से तंबाकू उत्पादों की बिक्री कराना औरकरना आसान नही होगा। देश में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय का किशोर न्याय( बाल देखभालऔर संरक्षण)अधिनियम 2015, 15 जनवरी, 2016 से लागू हो गया है। इस तरह का कठोरअधिनियम बनाने वाला भारत दुनिया को पहला राष्ट्र बन गया है जहां बच्चों को तंबाकू उत्पाद बेचनेऔर बचचों द्वारा तंबाकू उत्पाद बेचवाने के लिए इस तरह के भारी जर्माने का प्रावधान किया गयाहै।

यह अधिनियम बच्चों से संबंधित अधिनियम में बाल समर्थित सोच को अपनाकर बच्चों कीबुनियादी जरूरतों को सही देखभाल,संरक्षण की जरूरत को उचित देखभाल,संरक्षण,विकास उपचारऔर उनके सामाजिक पुर्नएकीकरण के जरिये समेकित और संशोधन करने का अधिनियम है। यहअधिनियय तंबाकू  के हानिकारक प्रभाव और इस उद्योग की, खासकर कमजोर बच्चों को अपने नएउपभोक्ता के बनाने की भयावह डिजायन को पहचानता है। तंबाकू के बढ़ते खतरे को रोकने के लिएअधिनियम में धारा 77 को निम्न तरह से महत्वपूर्ण संशोधन किया गया गया है।

जिसके तहत अगर कोई व्यक्ति किसी येाग्य डाक्टर के परामर्श के किसी बच्चे को मादक या नशीलीदवा या तंबाकू उत्पाद या नशीला पदार्थ देता है या देने का कारण बनता है तो उसे अधिनियम केतहत सात साल तक की कठोर सजा हो सकती है और साथ ही उसे एक लाख रुपए तक का जुर्मानाभी हो सकता है।

टाटा मेमोरियल अस्पताल के प्रोफेसर और सर्जन डा. पंकज  चतुर्वेदी बतातें है कि इससे पहले का काकानून जिसे सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद 2003 कोटपा के नाम से जाना जाता था, वह छोटेबच्चों के बीच मादक पदार्थों की बिक्री पर रोक लगाने में पूरी तरह विफल रहा क्योंकि इसके तहतकिया जाने वाला जुर्माना सिर्फ 200 रुपए था।  इस बार मेनका गांधी के अथक प्रयासों की सराहनाकरने की जरूरत है क्योकि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तंबाकू समुदाय में इसे परिवर्तनकारीके रूप में पहले से ही  देख जा रहा है।

वे बतातें है कि करीब 27.5 करोड़ भारतीय तंबाकू का सेवन करते हैं और इनमें एक बड़ी संख्या उनलोगों की है जिन्हें बचपन में ही इसकी लत लग जाती है। ग्लोबल एडल्ट टोबेको के सर्वे के अनुसारभारत में तंबाकू की लत 17 साल की उम्र में लग जाती है। ग्लोबल यूथ टोबेको के सर्वे में सामने आयाकि भारत के 20 प्रतिशत बच्चे तंबाकू के उत्पादों का प्रयोग करते हैं। 5500 बच्चे, किशोर प्रति दिनतंबाकू का सेवन करते हैं। यह अधिनियम हमारी आने वाली पीढ़ी को इस खतरनाक लत से बचाएगा।यह बिना किसी संदेह के यह साबित हो चुका है कि कैंसर, हृद्वय रोग और हृद्वघात के रूप मेंप्रत्येक तीसरे व्यक्ति की अकालमृत्यु तंबाकू सेवन के सेवन से हो रही है।

वीओटीवी सरंक्षक व स्वामी रामा हिमालयन यूनिवर्सिटी देहरादून के डॉ. सुनील सैनी ने बताया किबताया कि तंबाकू उद्योग द्वारा तंबाकू की दुनिया के प्रति युवकों को आकर्षित करने के प्रतिदिनप्रयास किये जा रहे है। ‘युवास्वस्था में ही उन्हें पकड़ो’ उनका उद्देश्य है, तंबाकू  उत्पादों को उनकेसमक्ष व्यस्कता, आधुनिकता, अमीरी और वर्ग मानक और श्रेष्ठता  के पर्याय के रूप में पेश कियाजाता है। बिक्री गिरने का भय, प्रतिकूल लेखों और मीडिया रिपोर्ट ने तंबाकू  उद्योग को अपनेउत्पादों को बच्चों के बीच खाद्य उत्पादों और लेखन सामग्री के जरिये बढ़ावा  देने का नया रास्ताढूंढ़ने प्रेरित किया है। इस तरह यह अधिनियम 18 साल से कम उम्र के बच्चों को तंबाकू से दूर रखनेऔर उनकी पूर्ण संरक्षण सुनिश्चित करता है। क्योंकि यह अनेक अध्ययनों से यह स्पष्ट है कि अगर18 साल तक इसकी लत न पड़े तो आगे भी इसकी लत पड़ने की आशंका बहुत कम होती है।

शेखसरीया इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक हेल्थ के डॉ. पीसी गुप्ता बतातें है कि तंबाकू को सभी ने बच्चेां वकिशेारों के लिए हानिकारक माना है। लेकिन अभी भी अधिकतर तंबाकू सेवन करने वालों को तंबाकूकी लत उनके बचपन में ही लग जाती है वरना वे जीवन कभी भी इसका सेवन नहीं करते।

गुप्ता बतातें है कि भारत सहित लगभग सभी देशों में नाबालिगों को तंबाकू बेचने पर प्रतिबंध काकानून है। बहरहाल, इस कानून को सफलतापूर्वक लागू करना बहुत कठिन है। धनी देशों में जहांकानूनी तंत्र इजाजत देता है वहां अपराधियों को पकड़ने के लिए ‘स्टिंग आपरेशन’ का तरीकाअपनाया गया है। भारत में बिक्री के अधिकांश स्थानों पर कानूनी रूप से जरूरी मुंह के कैसंर कीतस्वीर के साथ बच्चों को तंबाकू पदार्थ न बेचे जाने का नोटिस भी नहीं लगाया जाता।

वायसॅ ऑफ टोबेको विक्टिमस के संजय सेठ ने बताया कि इस कानून के उल्लंघन के लिए लगायाजाने वाला जुर्माना भी बहुत कम था। साथ ही उल्लंघनकर्ताओं  को पकड़ पाना बहुत ही कठिन है।

क्या है अधिनियम

ऽ इस अधिनियम की धारा 107(1) के तहत बाल कल्याण पुलिस अधिकारी नामित कियागया है।

ऽ 7 साल की सजा व एक लाख रुपए जुर्माना

ऽ 107. (1) पुलिस , स्वैच्छिक  और गैर सरकारी संस्थाओं के सहयोग से तंबाकू उत्पादों केशिकार बच्चों और इसके अपराधियों से समस्या को विशेष रूप से सुलझाने के लिए प्रत्येक थाने मेंबाल पुलिस अधिकारी की नियुक्ति की जाए। यह अधिकारी किसी भी रूप में उप निरीक्षक के ओहदेसे कम न हो और जिसे उचित प्रशिक्षण प्राप्त हो।

 तंबाकू के बारे में कुछ भयावह तथ्य

  1. मृत्यु के 6 से 8 कारणों में तंबाकू का सेवन प्रमुख खतरों में से है। कैंसर, कार्डियो दृवेस्कुलररोगों और फेफड़े की बीमारी सहित कई अप्रसारी रोगों से मरने वाले 40 प्रतिशत लोगों का सीधा संबंधतंबाकू के सेवन से है।
  2. एक पुराने अनुमान के अनुसार भारत में प्रति वर्ष तंबाकू के कारण दस लाख लोगों की मृत्यु होतीहै। इनमें से 70 प्रतिशत लोग(90,000महिला और 580,000 पुरुष) की मृत्यु उनके सबसे कमाऊ उम्र30 से 69 साल की उम्र में होती है। (प्रभात झा अध्ययन , भारत में धूम्रपान और मृत्यु पर राष्ट्रीयस्तर पर किए गए केस कंट्रोल स्टडी का प्रकाशन मार्च के 2008 में इंग्लैंड के जर्नल ऑफ मेडिसिन मेंप्रकाशित हुआ था। ) तंबाकू के सेवन के चलते कैंसर से 50 प्रतिशत पुरुष और 20 प्रतिशत महिलाएंपीड़ित पाई गई हैं।

Related posts

वीडियों कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश में आपदा से हुई क्षति एवं आपदा राहत हेतु चलाये जा रहे कार्यों की समीक्षा करते हुएः सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत

हर्षाेल्लास से मनाया जाएगा गणतंत्रता दिवस

मसूरी देहरादून विकास प्राधिकारण द्वारा निर्मित इन्दिरा अम्मा भोजनालय की प्रथम वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित धन्यवाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुएः मख्यमंत्री

Leave a Comment