मैक्स हेल्थकेयर राजस्व के मामले में भारत की दूसरी सबसे बड़ी हेल्थकेयर श्रृंखला – Online Latest News Hindi News , Bollywood News
Breaking News
Home » उत्तराखंड » मैक्स हेल्थकेयर राजस्व के मामले में भारत की दूसरी सबसे बड़ी हेल्थकेयर श्रृंखला

मैक्स हेल्थकेयर राजस्व के मामले में भारत की दूसरी सबसे बड़ी हेल्थकेयर श्रृंखला

देहरादून: मैक्स हेल्थकेयर इंस्टीट्यूट लिमिटेड (एमएचआईएल / मैक्स हेल्थकेयर) ने आज घोषणा की कि समायोजन एवं व्यवस्थापन की समग्र योजना को माननीय नेषनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) से मंजूरी मिलने के आदेश मिलने के फलस्वरूप अनुमोदित योजना के अनुसार समायोजन एवं डिमजर्स की प्रक्रिया आज सफलतापूर्वक पूरी हो गई। समायोजन और व्यवस्थापन की समग्र योजना में मैक्स इंडिया लिमिटेड (मैक्स इंडिया) की सहायक स्वास्थ्य एवं सहयोगी गतिविधियों का रिसिडुअल मैक्स इंडिया (डीमर्जन के बाद) के एक समामेलन, अद्वैत एलाइड हेल्थ सर्विसेज लिमिटेड में डिमर्जर तथा रेडिएंट लाइफ केयर प्राइवेट लिमिटेड (रेडियंट) के हेल्थकेयर व्यवसाय का मैक्स हेल्थकेयर में डिमर्जर षामिल है। श्री अभय सोई अब एमएचआईएल के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेषक होंगे।

मैक्स इंडिया बिना किसी क्षति के आज से प्रभावी तौर पर भंग हो जाएगा और परिणामस्वरूप एमएचआईएल के इक्विटी शेयरों को संबंधित नियमों एवं विनियमों के अनुसार निर्धारित प्रक्रियाएं पूरी होने के बाद बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज लिमिटेड (बीएसई) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (एनएसई) दोनों में सूचीबद्ध किया जाएगा। अनुमोदित षेयर विनिमय अनुपात के अनुसार मैक्स हेल्थकेयर के इक्विटी शेयरों को मैक्स इंडिया को आबंटित करने की रेकार्ड तारीख 15 जून, 2020 निर्धारित की गई है।

एमएचआईएल में रेडिएंट के हेल्थकेयर व्यवसाय के डिमर्जर की योजना में यह एक महत्वपूर्ण कदम है, जिसके परिणामस्वरूप श्री अभय सोई और कोहलबर्ग क्रविस रॉबर्ट्स एंड कंपनी एल.पी. (केकेआर) मैक्स हेल्थकेयर में महत्वपूर्ण बहुमत हिस्सेदारी प्राप्त करेंगे और अंततः बीएसई और एनएसई की संयुक्त सूची में सूचीबद्ध होंगे।

एमएचआईएल के अध्यक्ष श्री अभय सोई ने इस घटनाक्रम पर टिप्पणी करते हुए कहा, “हम एक संयुक्त इकाई के रूप में अपने भविष्य को लेकर बहुत उत्साहित हैं जो देश में सर्वोत्कृश्ट स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने के लिए हमारे आकार, पैमाने और क्षमताओं को बढ़ाएगा। एमएचआईएल भारत में दूसरी सबसे बड़ी अस्पताल श्रृंखला के रूप में उभरेगा, जिसमें प्रमुख रूप से स्थापित महानगरों, विशेष रूप से दिल्ली-एनसीआर और मुंबई में इसकी क्षमताओं के महत्वपूर्ण हिस्से के साथ उच्च दक्षता वाली चतुष्कोणीय देखभाल के लिए पूर्ण दृढ़ता से स्थापित ब्रांड इक्विटी और उत्कृष्टता के केंद्र होंगे। हमारी संचालन संस्कृति चिकित्सा और सेवा उत्कृष्टता, उच्च गुणवत्ता वाले रोगी अनुभव, नैतिक प्रथाओं और अत्याधुनिक तकनीक को अपनाने के आधार पर टिकी हुई है। मुझे विश्वास है कि हम गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाओं के विकास में निरंतर योगदान देंगे और अपने देश की बढ़ती चिकित्सा आवश्यकताओं को पूरा करेंगे।

उन्होंने कहा, ‘‘हम विकास के पथ पर अग्रसर रहते हुए, विकास में निवेश करके और परिसंपत्ति परिचालन दृष्टिकोण का लाभ उठाकर अपने परिचालन का विस्तार करने की योजना बना रहे हैं। इस सौदे की घोषणा के बाद से, पिछली कुछ तिमाहियों में एमएचआईएल ने एक मजबूत व्यवसाय सुधार योजना लागू की है, जिसके परिणाम एमएचआईएल के वित्तीय प्रदर्शन में दिखाई दे रहे हैं। मेरा मानना है कि अगले 2 से 3 वर्षों में कई तालमेल होंगे, जो हमें एक साथ हमारे महत्वपूर्ण लाभों को महसूस कराने में सक्षम होंगे।”

एमएचआईएल राजस्व के मामले में भारत के दूसरे सबसे बड़े अस्पताल नेटवर्क के रूप में उभरेगा और बिस्तर क्षमता के मामले में देश के शीर्ष तीन अस्पताल श्रृंखलाओं में से एक होगा। एमएचआईएल देष भर में 3,500 से अधिक बिस्तरों का संचालन करेगा, जिसमें तृतीयक और चतुर्धातुक देखभाल सुविधाएं शामिल हैं। यह उच्च दक्षता वाली अत्यंत महत्वपूर्ण और सुपर स्पेशियलिटी देखभाल सुविधाएं प्रदान करता है, जो कि बीएलके अस्पताल, मैक्स हॉस्पिटल – साकेत, मैक्स स्मार्ट हॉस्पिटल – साकेत, मैक्स हॉस्पिटल – पटपड़गंज, मैक्स हाॅस्पिटल – शालीमार बाग, नानावती अस्पताल आदि मजबूत स्थानीय ब्रांडों द्वारा समर्थित है। एमएचआईएल, बेड की क्षमता के विस्तार के माध्यम से महानगरों में अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज करेगा, अपने चिकित्सा कार्यक्रमों को विस्तार देगा और इन हाई एंड बाजारों में अपने नेतृत्व की स्थिति को बढ़ाएगा।

श्री अभय सोई द्वारा समर्थित और स्थापित तथा केकेआर द्वारा समर्थित रेडिएंट ने जून 2019 में अधिकतम 2,136 करोड़ रुपये के विचार के लिए मैक्स हेल्थकेयर में 49.7 प्रतिषत की हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया था। पिछले कुछ तिमाहियों में, एमएचआईएल ने राजस्व बढ़ाने और लागत को तर्कसंगत बनाने के लिए कई पहलें लागू की हैं, जिसके परिणामस्वरूप चिकित्सा और सेवा उत्कृष्टता के आधार पर एक स्वस्थ वित्तीय और परिचालन प्रदर्शन का निर्माण हुआ है। आगे बढ़ते हुए, एमएचआईएल कई सहक्रियाओं को चलाने और निम्नलिखित क्षेत्रों में अपनी मौजूदगी एवं विस्तार के प्रति आश्वस्त है: हाई-एंड क्वाटर्नरी केयर के लिए मेट्रो-सेंट्रिक सेंटर्स ऑफ एक्सीलेंस बनाना।

  • एसेस्ट लाइट मॉडल के माध्यम से क्षमता का विस्तार करने के लिए ब्रांड की ताकत का लाभ उठाने का अवसर
  • दिल्ली और मुंबई के सबसे आकर्षक महानगरों के प्रमुख अस्पतालों में महत्वपूर्ण ब्राउनफील्ड विस्तार का अवसर
  • लागत अनुकूलन रणनीतियां
  • एसबीयू का स्पिनऑफ और केंद्रित विकास

योजना के अनुसार निम्नलिखित चरणों के माध्यम से लेनदेन पूरा किया जा रहा है:

  • डिमर्जर के बाद, रैडिएंट की स्वास्थ्य देखभाल की संपत्ति मैक्स हेल्थकेयर में विलय हो गई, साथ ही मैक्स हेल्थकेयर में रेसिडुअल मैक्स इंडिया का विलय हो गया।
  • इस विलय के परिणामस्वरूप, मैक्स इंडिया के शेयरधारकों को विलयित इंटिटी (एमएचआईएल) के 99 प्रतिषत इक्विटी शेयर हासिल होंगे और प्रासंगिक रिकार्ड तिथि पर रेडिएंट के 10 रूपए के फेस वैल्यू के हर 10 इक्विटी षेयरों के लिए मैक्स हेल्थ केयर में प्रत्येक के 10 रूपए फेस वैल्यू होंगे।
  • रेडिएंट के शेयरधारकों को अधिकतम रिकॉर्ड तिथि के अनुसार रेडिएंट में आयोजित प्रत्येक 10 रुपये के फेस वैल्यू के प्रत्येक 10 इक्विटी शेयरों के लिए मैक्स हेल्थकेयर में प्रत्येक के लिए 10 रूपए के फेस वैल्यू के 9,074 इक्विटी शेयर प्राप्त होंगे।
  • मर्जर के बाद मैक्स इंडिया भंग हो गया है और एमएचआईएल, जो नव विलयित इकाई है, जिसमें रेडिएंट और मैक्स हेल्थकेयर की संयुक्त स्वास्थ्य संपत्ति शामिल है, बीएसई और एनएसई दोनों पर आवश्यक नियामक आवश्यकताओं को पूरा करने के बाद सूचीबद्ध होगी।
  • श्री अभय सोई विलय की गई इकाई (एमएचआईएल) के प्रमोटर और केकेआर के सह-प्रमोटर होंगे

About admin