अगले माह से शुरू होने वाली चारधाम यात्रा में आने वाले श्रद्धालुओं को RTPCR निगेटिव रिपोर्ट लाना अनिवार्य

Image default
उत्तराखंड

उत्तराखंड में अगले माह से शुरू होने वाली चारधाम यात्रा में आने वाले श्रद्धालुओं को कोरोना के रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पॉलिमरेस चेन रिएक्शन (आरटीपीसीआर) टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट अथवा वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट लाना अनिवार्य होगा। धार्मिक स्थल की यात्री क्षमता के हिसाब से ही श्रद्धालुओं को आने की अनुमति दी जाएगी।

इसके लिए प्रदेश सरकार द्वारा जल्द मानक संचालन कार्यविधि (एसओपी) जारी की जाएगी। प्रदेश में हर वर्ष होने वाली चारधाम यात्रा में लाखों श्रद्धालु बद्रीनाथ, केदारनाथ, यमुनोत्री और गंगोत्री के दर्शन करने आते हैं। बीते वर्ष कोरोना संक्रमण के चलते यह यात्रा जून के बाद शुरू की गई थी। उस समय भी यात्रियों का कोरोना टेस्ट और निगेटिव रिपोर्ट लाना अनिवार्य किया गया था। इस वर्ष यह यात्रा 15 मई से प्रस्तावित है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए अब सरकार कुंभ की तर्ज पर ही श्रद्धालुओं की आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट अथवा वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट लाना अनिवार्य कर रही है।

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज का कहना है कि चारधाम यात्रा शुरू होने वाली है। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के दिशा-निर्देशों का अनुपालन करते हुए यात्रा को शुरू किया जाएगा। आने वाले सभी श्रद्धालुओं को मास्क पहनना, शारीरिक दूरी के मानक का अनुपालन कराना और सैनिटाइजेशन कराना सुनिश्चित किया जाएगा। नईदुनिया

Related posts

छात्र पुलिस कैडेट योजना के बारे में गठित राज्य स्तरीय अनुश्रवण समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुएः उत्पल कुमार सिंह

प्रदेश में रोजगार सृजन व युवा शक्ति सम्मेलन के सम्बन्ध में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुएः सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत

श्रीनगर में आयोजित राष्ट्रीय पंचायत पुस्तक मेला एवं सम्मान समारोह के अवसर पर उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेम चंद अग्रवाल