कर्मचारी राज्य बीमा निगम लाभार्थियों के लिए दो नई सुविधाओं की शुरुआत

Image default
देश-विदेश

नई दिल्ली: बीमाकृत व्यक्तियों तथा उनके लाभार्थियों को सशक्त बनाने तथा अन्य हित-धारकों में जागरुकता पैदा करने के उद्देश्य से कर्मचारी राज्य बीमा निगम ने दो नई उपयोगकर्ता अनुकूल पहलें शुरू की हैं। इन पहलों में आईवीआर (इन्टरेक्टिव वाइस रेसपोंस)/हेल्प डेस्क, ईएसआईसी हेतु निःशुल्क (टोल फ्री) नंबर 1XXX-XX-2526तथा ईएसआईसी के फायदों संबंधी सात श्रव्य-दृश्य क्लिप तैयार करना है।

कर्मचारी राज्य बीमा निगम ने हाल ही में ईएसआईसी हेतु ‘आईवीआर/हेल्प डेस्क’ निःशुल्क नंबर 1XXX-XX-2526 की प्रमुख सुविधा शुरू की है। इस सुविधा के तहत पूछताछकर्ता के द्वारा मांगी गई सूचना तुरन्त उपलब्ध कराने के अलावा इसके साथ-साथ शिकायतें भी दर्ज की जाती हैं। जिन शिकायतों के निपटारों में अधिक समय लगने की संभावना हो उनके लिए एक अलग से टिकट नंबर दिया जाता है और शीघ्र निपटान के लिए ईएसआईसी के पीजी पोर्टल पर डाल दिया जाता है। पूछताछकर्ता पहली बार इस ‘हेल्प डेस्क’ परस्पर बातचीत के अनुभव से संतुष्ट एवं प्रसन्न हैं। औसतन एक हजार से अधिक पूछताछ प्रतिदिन होती हैं और उन्हें पूर्ण संतुष्टी कर निपटाया जाता है।

हित-धारकों मुख्यतः कर्मीदल को ईएसआई के फायदों के बारे में शिक्षित करने और जागरूक बनाने के लिए ईएसआईसी ने ग्राफिक सूचना और सरल भाषा का प्रयोग करते हुए सात श्रव्य-दृश्य क्लिप तैयार की हैं जो यू-ट्यूब (ईएसआईसी मुख्यालय यू-ट्यूब चैनल) पर पहले ही उपलब्ध हैं और इसका प्रयोग उत्साहवर्धक।

श्रव्य-दृश्य क्लिपें भारत सरकार के ‘उमंग’ द्वारा तैयार की गई हैं जो कि ईएसआईसी मोबाइल ऐप ‘चिंता से मुक्ति’ का आयोजन करेगा। ये ऐप शीघ्र ही शुरू किया जाएगा। श्रव्य-दृश्य क्लिपें पूरे देश में ईएसआईसी बीमाकृत व्यक्तियों के लाभार्थ अंग्रेजी तथा सभी अन्य प्रमुख क्षेत्रीय भाषाओं में भी तैयार की जा रही हैं।

इन क्लिपों से सभी हित-धारकों, बीमाकृत व्यक्तियों, उनके परिवार के सदस्यों, कर्मचारियों तथा ईएसआईसी कर्मचारियों को ईएसआई योजना के अंतर्गत मिलने वाले विभिन्न लाभों को समझने में मदद मिलेगी।

श्रम और रोजगार राज्य मंत्री श्री संतोष कुमार गंगवार ने आशा व्यक्त की है कि ईएसआईसी उपयोगकर्ता  अनुकूल पहलों की शुरूआत से देश का कर्मीदल निश्चित रूप से सशक्त होगा।

Related posts

‘मेक इन इंडिया’ पहल के तहत दो रेल इंजन कारखाने लगाने के लिए बोलियों को अंतिम रूप दिया गया

केन्‍द्रीय बिजली मंत्री ने सहरसा, बिहार में किशनगंज-दरभंगा 400 केवी ट्रांसमिशन लाइन के लीलो निर्माण की आधारशिला रखी

उप-राष्ट्रपति ने इसरो को 104 उपग्रहों के सफल प्रक्षेपण पर बधाई दी