मुख्यमंत्री जी द्वारा आरटीपीसीआर के टेस्ट 90 हजार से बढ़ाकर 1.50 लाख टेस्ट प्रतिदिन किये जाने के लिए निर्देश दिये गये

Image default
उत्तर प्रदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव ‘सूचना’ श्री नवनीत सहगल ने लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि प्रदेश में कोविड संक्रमण को देखते हुए सभी को सावधान व सर्तक रहने की आवश्यकता है। उन्होने लोगो से भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में न जाने तथा घर से निकलने पर मास्क पहने के लिए अपील की है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी द्वारा स्वयं पूरे कोविड-19 के नियंत्रण की समीक्षा की जा रही है। हर तरह से कोविड-19 के संक्रमण को नियंत्रित की रणनीति करने के लिए व्यवस्था की जा रही है। मुख्यमंत्री जी के निर्देश में बेडों की संख्या बढ़ायी गयी। इसके अतिरिक्त प्रदेश में आॅक्सीजन की पर्याप्त व्यवस्था है। उन्होंने लोगों से किसी भी प्रकार की अफवाह में न आने के लिए कहा है। उन्होंने बताया कि सभी जनपदों में कोविड के दृष्टिगत इंटीग्रेटेड कंट्रोल कमाण्ड सेंटर सक्रिय करते हुए फोन नं0 जारी किये गये है। जिस पर कोविड से संबधित समस्या का समाधान किया जा रहा है।

श्री सहगल ने बताया कि कोविड-19 के संक्रमण के दृष्टिगत टेस्ट अधिक से अधिक की जा रही है। मुख्यमंत्री जी द्वारा आरटीपीसीआर के टेस्ट 90 हजार से बढ़ाकर 1.50 लाख टेस्ट प्रतिदिन किये जाने के लिए निर्देश दिये गये है। प्रदेश में सर्विलांस का नया प्रयोग कर प्रत्येक परिवार तक पहंुच कर उनका हालचाल लेते हुए कोविड संक्रमण की जानकारी ली जा रही है। इस अभियान के तहत 15.54 करोड़ लोगों से संक्रमण की जानकारी ली गयी है तथा 3.69 करोड़ कोविड-19 के टेस्ट किये गये है। इतनी बड़ी संख्या में टेस्ट पूरे देश के किसाी राज्य में नहीं हुए है। इस प्रकार सर्विलांस अभियान के अन्तर्गत उत्तर प्रदेश की 24 करोड़ जनसंख्या में से लगभग 19 करोड़ लोगों तक सरकारी मशीनरी पहुची है। उन्होंने बताया कि 11 अप्रैल से ‘टीका उत्सव’ 6000 केन्द्रों मनाया जा रहा था जिसे बढ़ाकर 8000 केन्द्र कर दिया गया है। अब तक 75.76 लाख लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी गयी तथा पहली डोज देने वालों में से 12.70 लाख लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज दी गयी हैं। इस प्रकार कुल 88 लाख वैक्सीन की डोज लगायी जा चुकी है। उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन के लिए लक्षित आयु वर्ग के लोग अपने नजदीकी टीकाकरण केन्द्र पर जाकर अपना टीकाकरण अवश्य करवायें।

श्री सहगल ने बताया कि प्रदेश में 23,937 कन्टेमेंट जोन है। उन्होंने लोगों को सलाह दी है कि सरकारी मशीनरी का सहयोग करे तथा उनके द्वारा लगाये जा रहे प्रतिबन्धों का पूर्णता पालन करे। उन्होंने बताया कि सभी औद्योगिक संस्थानों में कोविड हेल्प डेस्क स्थापित करने के लिए कहा गया है। जिससे इन संस्थानों में आने वाले कर्मचारियों का शारीरिक तापमान नापते हुए कोविड संक्रमण को नियंत्रण रखा जा सके। उन्होंने बताया कि प्रदेश के सभी नगरीय तथा ग्रामीण निकायों मे विशेष सफाई व सैनेटाइजेशन अभियान चलाया जा रहा है। इस सफाई अभियान के माध्यम से किसी प्रकार के संक्रमण को कम किया जा रहा है।

श्री सहगल ने बताया कि प्रदेश सरकार किसानों के हितों के लिए कृतसंकल्प है और किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उनकी फसल को खरीदे जाने की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। प्रदेश सरकार द्वारा धान की रिकार्ड खरीद की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीद किये जाने हेतु 6000 क्रय केन्द्र स्थापित किये गये हैं। उन्होंने बताया कि एक नई व्यवस्था के तहत कृषक उत्पादक संगठनों (एफ0पी0ओ0) को भी क्रय केन्द्र खोलने की अनुमति दी गयी है। उन्होंने बताया कि किसान उत्पादक संगठन 150 केन्द्रों के माध्यम से संचालित किया जायेगा। उन्होंने जिलाधिकारियों के द्वारा कृषक उत्पादक संगठनों (एफ0पी0ओ0) को भी क्रय केन्द्रों से जोड़कर गेहूं क्रय का कार्यक्रम शुरू कर दिया गया है। यह व्यवस्था प्रदेश में पहली बार हो रही है। 01 अप्रैल से 15 जून, 2021 तक गेहू खरीद का अभियान जारी रहेगा। गेहू क्रय अभियान में अब तक 01 लाख मी0 टन से अधिक गेहूं खरीदा गया है। मुख्यमंत्री जी ने सभी जिलाधिकारी गेहूं क्रय केन्द्रों का लगातार स्वयं या अपने अधीनस्थ अधिकारियों के माध्यम से निरीक्षण करने के निर्देश दिये गये है। किसानों को किसी प्रकार की असुविधा न हो। उन्होंने बताया कि किसानों की सुविधा के लिए इस वर्ष आॅनलाइन टोकन की व्यवस्था की गयी है। किसान अपनी सुविधा के अनुसार अपने राजस्व ग्राम से सम्बद्ध नजदीकी क्रय केन्द्र पर गेहूं विक्रय हेतु टोकन स्वयं आॅनलाइन प्राप्त कर सकते है। इसके अलावा क्रय केन्द्रों पर बिना टोकन के भी किसानों से गेहूॅ की खरीद की जा रही है।

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में बड़ी संख्या में टेस्टिंग का कार्य करते हुए, टेस्टिंग की क्षमता बढ़ायी गयी है। गत एक दिन में कुल 1,93,379 सैम्पल की जांच की गयी। प्रदेश में अब तक कुल 3,69,54,537 सैम्पल की जांच की गयी है। इसमें 89,000 सैम्पलों की जांच आरटीपीसीआर के माध्यम से की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना सेे संक्रमित 13,685 नये मामले आये है। प्रदेश में 81,576 कोरोना के एक्टिव मामले में से 44,196 लोग होम आइसोलेशन में हैं। शेष मरीज चिकित्सालयों में निःशुल्क इलाज भी करा रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में विगत 24 घंटे में 3,197 तथा अब तक 6,14,819 लोग कोविड-19 से ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 1,98,220 क्षेत्रों में 5,27,395 टीम दिवस के माध्यम से 3,20,46,990 घरों के 15,53,95,497 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। प्रदेश में 45 वर्ष सेे अधिक आयु वालों का कोविड वैक्सीनेशन किया जा रहा है। अब तक 75,76,365 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी गयी तथा पहली डोज लेने वालों में से 12,70,243 लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज दी गयी हैं। इस प्रकार कुल 88,46,608 वैक्सीन की डोज लगायी जा चुकी है।

श्री प्रसाद ने बताया कि 11 अप्रैल, 2021 से 14 अप्रैल, 2021 तक टीका उत्सव मनाया जा रहा है। सभी सरकारी कार्यालयों व निजी कार्यालयों में भी 45 वर्ष से अधिक लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि कोविड संक्रमण नियंत्रित करने के लिए शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम निगरानी समिति, मोहल्ला निगरानी समिति को पुनः सक्रिय किया गया है। इन समितियों के माध्यम से संक्रमण वाले प्रदेशों से आने वाले लोगों की पहचान कर, उनसे संक्रमण की जानकारी लेते हुए आवश्यक कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने बताया कि कोविड के वो मरीज जिन्हें होम आइसोलेशन के लिए स्वीकृति प्रदान की गयी है वे होम आइसोलेशन की शर्ताें का पूर्णतः पालन करे। होम आइसोलेशन की अवधि पूर्ण होने के पश्चात ही घर से बाहर निकले। उन्होंने बताया कि होम आइसोलेशन में रहने वाला मरीज अगर बाहर घूमता हुआ पाया जाता है तो उसे सीधे अस्पताल में भर्ती करने तथा उसके खिलाफ दण्डनात्मक कार्यवाही की जायेगी।

श्री प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में कोविड संक्रमण को देखते हुए अत्यधिक सावधान रहना जरूरी है। मास्क का प्रयोग समाज के प्रति जिम्मेदारी व सामाजिक उत्तरदायित्व का पालन है। उन्होंने बताया कि मास्क सही तरीके से पहने, जब भी किसी से मिले या किसी से बात करे तो मास्क जरूर पहने रहे। उन्होंने बताया कि संक्रमण अभी समाप्त नहीं हुआ है इसलिए विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है। टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकाॅल का पालन अवश्य करें। अपने हाथ को साबुन-पानी से निरन्तर धोते रहें। भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। उन्होंने कहा कि घर के बड़े-बुजुर्गों का टीकाकरण अवश्य कराएं।

Related posts

हथकरघा बुनकरों को देय सुविधाओं का लाभ दिलाने के निर्देश

गोण्डा के प्राथमिक विद्यालय की छत गिरने से प्रभावित बच्चों को तुरन्त राहत पहुंचाने के निर्देश दिये: सीएम

मुख्यमंत्री 13 अप्रैल, 2016 को एच0सी0एल0 आई0टी0 सिटी लखनऊ के पहले बैच को सम्बोधित करेंगे