Online Latest News Hindi News , Bollywood News

डॉ. हर्षवर्धन ने प्राथमिक चिकित्सा सेवा में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को यूएचसी पुरस्कार प्रदान किए

देश-विदेश

नई दिल्ली: केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा आयोजित यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज (यूएचसी) दिवस कार्यक्रम में केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री श्री अश्विनी कुमार चौबे, सचिव (स्वास्थ्य) श्रीमती प्रीति सूदन और एनएचए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. इंदु भूषण की उपस्थिति में राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों की प्राथमिक चिकित्सा सेवा प्रदान करने वाली टीमों को सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए यूएचसी पुरस्कार से सम्मानित किया ।

यूएचसी दिवस 2019 के अवसर पर मंत्रालय ने तीन विषयों पर मंथन और विचार-विमर्श के लिए तीन नीति प्रयोगशालाओं का आयोजन किया जिसमें शहरी क्षेत्रों में सीएचपीसी, सेवा प्रणाली को मजबूत करना और स्वास्थ्य के लिए सामुदायिकरण शामिल हैं।

डॉ. हर्षवर्धन ने पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी और देश के विभिन्न हिस्सों में यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज के विस्तार के लिए उनकी मेहनत और समर्पण की सराहना की। इस कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि हम यूएचसी के लक्ष्य की ओर तेजी से बढ़ने की इच्छा रखते हैं, हमें निवारक, प्रोत्साहक और सकारात्मक स्वास्थ्य संकल्पनाओं को मजबूत करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सबके लिए स्वास्थ्य को पाने के लिए बड़े बदलावों और नवाचारों की जरूरत हैं। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य एक बहु-क्षेत्रीय, बहु-आयामी, बहुस्तरीय और एक जटिल क्षेत्र है, हमें सबके लिए स्वास्थ्य के एजेंडे को हासिल करने के लिए कई भागीदारों की आवश्यकता है।

श्री अश्विनी कुमार चौबे ने कहा कि इस वर्ष की शुरुआत में संयुक्त राष्ट्र महासभा में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के संबोधन से स्पष्ट है कि वे ‘सबके लिए स्वास्थ्य’ के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने यूनिवर्सल हेल्थ केयर के लिए चार स्तंभों को रेखांकित किया और भारत ने उसी लक्ष्य को हासिल करने की योजना का खाका तैयार किया।

सचिव (स्वास्थ्य) श्रीमती प्रीति सूदन ने उन सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को उनके प्रयासों के लिए बधाई दी और जिन्होंने स्वास्थ्य एवं वेलनेस केन्द्र (एचडब्ल्यूसी) और प्रधानमंत्री जन औषधि योजना (पीएमजेएवाई) के तहत प्रगति की है। उन्होंने कहा कि भारत ने नेशनल हेल्थ पोर्टल 2017, आयुष्मान भारत (एचडब्ल्यूसी एवं पीएमजेएवाई के साथ), नेशनल मेडिकल कमीशन एक्ट, ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगाने, 22 नए एम्स को मंजूरी देने, 157 जिला अस्पतालों के मेडिकल कॉलेज के रूप में उन्नयन के माध्यम से यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज (यूएचसी) की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं।

नीति आयोग के सदस्य डॉ. विनोद पॉल ने आयुष्मान भारत के तहत की गई प्रगति की सराहना की।

पुरस्कार प्रदान करने के साथ ही इस कार्यक्रम में एबी-एचडब्ल्यूसी के लिए सीपीएचसी पुस्तिका, एबी-एचडब्ल्यूसी पर क्षेत्रीय कार्यशालाओं की एक सिन्थिसिस रिपोर्ट, ओरल हेल्थकेयर दिशा-निर्देश, एबी-पीएमजेएवाई 2020 कैलेंडर का लोकार्पण किया और पुनर्निर्मित एबी-एचडब्ल्यूसी पोर्टल को लांच किया।

इस पुरस्कार समारोह में डीजीएचएस डॉ. संजय त्यागी, आरडी-डब्ल्यूएचओ एसईएआरओ डॉ. पूनम खेत्रपाल सिंह, डब्ल्यूएचओ के भारत के प्रतिनिधि डॉ. हेन्क बेकेदम और एएस एंड एमडी (एनएचएम) श्रीमती वंदना गुरनानी के साथ राज्यों के स्वास्थ्य सचिव और मिशन निदेशकों, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अऩ्य वरिष्ठ अधिकारी तथा एनजीओ, सीएसओ के प्रतिनिधि एवं डेवलेपमेंट पार्टनर भी उपस्थित थे।

Related posts

श्री पीयूष गोयल ने हरित पहल और रेलवे विद्युतीकरण पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्घाटन किया

admin

श्री नितिन गडकरी ने ब्रिटेन के भारतीय उद्यमियों से स्‍वच्‍छ गंगा परियोजना में शामिल होने की अपील की

admin

आईएनएस विक्रमादित्य में दुर्घटना

admin