जरूरतमंद लोगों की मदद कर पर्यावरण की मदद कर रही है अमायरा दस्तूर

Image default
मनोरंजन

हम प्रभावित करने वालों और मशहूर हस्तियों को अनगिनत प्रयोजनों के लिए काम करते हुए देखते हैं। लेकिन वास्तव में समाज या पर्यावरण के लिए काम करने की कोशिश कर रही व्यक्ति बहुत ही दुर्लभ  है।

अमायरा दस्तूर, राजमा चावल और आगामी कंगना रनौत और राजकुमार राव की मेंटल है क्या जैसी फिल्मों में भूमिका निभाते हुए नजर आएँगी , बल्कि एक सामाजिक पुनर्जागरण लाने और दुनिया को एक बेहतर जगह बनाने के लिए उनके समर्पण के लिए भी कार्यरत हैं।

अमायरा  नहीं बोल सकने वाली  प्रजातियों का बचाव और पोषण करने वाले ‘वर्ल्ड ऑफ एनिमल्स’ नामक एक गैर-लाभकारी संगठन के साथ जुड़कर अपना योगदान देने के लिए जुडी है । अपना अच्छा काम करने के लिए अमायरा की यात्रा यहीं नहीं रुकी। एक अन्य विषय जिस पर लंबे समय से अमायरा का ध्यान है, वह खाद्य अपव्यय का मुद्दा भी है।

हालांकि हर व्यक्ति यह जानता है कि बड़े पैमाने पर भोजन बर्बाद हो रहा है और रोजमर्रा के आधार पर, अमायरा का लक्ष्य इस चिंता को अधिक सय्यम से निपटाना है। अभिनेत्री ने अब यह जीत की स्थिति बनाने के लिए बड़े खाद्य ब्रांडों के साथ जुड़ी है, जिनकी ज़रूरत है। खाद्य ब्रांड खाद्य पदार्थों के ढेर को बर्बाद कर देते हैं क्योंकि वे अगले दिन के लिए फिर से उपयोग नहीं कर सकते हैं। दूसरी ओर, गरीब पौष्टिक भोजन खरीदने का नहीं  सकते हैं। अमायरा का इरादा इन दोनों बाजुओं के साथ जुड़ना है और जरूरत के हिसाब से एक संतुलन बनाना है। वह पहले से ही विभिन्न ब्रांडों और संस्थाओं के साथ विलय करके इस पहल की दिशा में कदम उठा रही है। इस तरह, दोनों जगह कम  लागत से प्रभावी तरीके से हल हो जाएगी। वह सलाह देती है कि सीएसआर के एक हिस्से के रूप में, बड़ी संस्थाएं वंचित और दुर्भाग्यपूर्ण वर्ग को अपव्यय से अधिक मूल्य के  भोजन वितरित कर सकती हैं जो की उसका सही उपयोग होगा और भोजन व्यर्थ जायेगा।

अमायरा कहती हैं, “” मेरी मां वह है जो हमेशा समाज को वापस देने पर जोर देती है। मैं बस यह स्पष्ट करना चाहती हूं कि यह दान नहीं है लेकिन कम भाग्यशाली और हमारे पर्यावरण को एक ही समय में मदद करने के लिए एक कदम आगे का है और मैं सीधे उस स्रोत तक जा रहा हूं जो खाद्य ब्रांड है। इन ब्रांडों के साथ जुड़कर, उन्ह कम भाग्यशाली लोगों की बहुत गंभीरता से मदद करने के लिए प्रयत्नशील हु और उन्हें भोजन की आपूर्ति करने के लिए विभिन्न दान और आश्रयों के साथ असोसिएट कर रहे हैं जिसका उपयोग नहीं किया है या अतिरिक्त है उसे फेकने  बजाय उसे सभी जरूरतमंद लोगो तक पहुँचाना चाहिए। भारत एक ऐसा देश है जो अभी भी अकाल और कुपोषण की समस्याओं का सामना करता है, मेरा उद्देश्य इन श्रेणियों में संख्या को कम करना है जितना संभव हो सके। “

Related posts

फिल्म नोटबुक में 6 बच्चों की भूमिका के लिए 200 से अधिक कश्मीरी बच्चों ने दिया था ऑडिशन!

जानिए आखिर क्यों रिलीज होनी चाहिए फिल्म ‘MSG’?

मशहूर एक्ट्रेस श्रीदेवी का हार्ट अटैक से हुआ निधन