जल जीवन मिशन के अन्तर्गत सभी योजनाएं समय से और मानक के अनुसार पूरी की जाएं: सीएम

Image default
उत्तर प्रदेश

लखनऊउत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के समक्ष आज यहां उनके सरकारी आवास पर ‘जल जीवन मिशन: हर घर जल’ व ‘अटल भूजल योजना’ के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण किया गया।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जल जीवन मिशन के अन्तर्गत सभी योजनाएं समय से और मानक के अनुसार पूरी की जाएं। उन्होंने कहा कि जो पेयजल योजनाएं पूर्ण हो चुकी हैं, उनमें त्वरित गति से कनेक्शन देने की कार्यवाही भी की जाए, जिससे लोगों को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध हो।  उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन के तहत बुन्देलखण्ड की सम्पूर्ण आबादी, विन्ध्य क्षेत्र की सम्पूर्ण आबादी, आर्सेनिक/फ्लोराइड तथा जे0ई0/ए0ई0एस0 से प्रभावित आबादी, 08 आकांक्षात्मक जनपदों तथा शेष प्रदेश में वर्ष 2022 तक हर हाल में पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित कर ली जाए।
मुख्यमंत्री जी ने लक्षित क्षेत्रों में तेजी से कार्यवाही के निर्देश देते हुए कहा कि प्रत्येक 15 दिन पर कार्य की प्रगति की अद्यतन स्थिति से उन्हें अवगत कराया जाए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ग्रामीण और दुरूह क्षेत्रों में कठिनाइयों के साथ रहने वाले नागरिकों की समस्याओं के प्रति अत्यंत संवेदनशील है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ पेयजल हर नागरिक का अधिकार है। राज्य सरकार, केन्द्र सरकार के सहयोग से हर घर स्वच्छ पेयजल की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए कटिबद्ध है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अटल भूजल योजना के अन्तर्गत सभी कार्याें को तेजी से पूरा किया जाए। उन्होंने कहा कि वर्षा का जल संचयन करके खारे पानी की समस्या को समाप्त किया जा सकता है। इसलिए लोगों को जल संचयन के महत्व को बताना भी आवश्यक है।
इस अवसर पर जल शक्ति मंत्री डाॅ0 महेन्द्र सिंह, कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आलोक सिन्हा, अपर मुख्य सचिव वित्त श्री संजीव मित्तल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री श्री संजय प्रसाद, प्रमुख सचिव नमामि गंगे, ग्रामीण जल संसाधन श्री अनुराग श्रीवास्तव सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Related posts

समाजवादी विचारधारा को अपनाकर समाज में खुशहाली लायी जा सकती है: मुख्यमंत्री

खादी मंत्री ने रोजगारपरक योजनाओं के व्यापक प्रचार-प्रसार हेतु सभी सांसदों एवं विधायकों को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में लापता बच्चों की तलाश में बेहतर प्रदर्शन करने वाले गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर व झांसी के 15 पुलिसकर्मी भारत सरकार द्वारा पुरुस्कृत