कोरोना टेस्टिंग हेतु अब तक 33,14,435 लोगों के सैम्पल टेस्ट किये गये

Image default
उत्तर प्रदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी ने आज यहां लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि कोविड-19 के दृष्टिगत प्रदेश में स्थापित कोविड चिकित्सालयों के माध्यम से संक्रमित लोगों के उपचार की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है। उन्होंने कोविड चिकित्सालयों की व्यवस्था को सुदृढ़ बनाए रखने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री जी द्वारा लखनऊ के कोविड अस्पतालों के निरीक्षण के आदेशों के क्रम में आज उनके द्वारा अपर मुख्य सचिव, चिकित्सा शिक्षा एवं अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य के साथ के0जी0एम0यू0 में बन रहे 319 बेड के कोविड अस्पताल का निरीक्षण किया गया और इसका निर्माण शीघ्र पूर्ण करते हुए इसी माह के अंत तक चालू किये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा है कि कोरोना एक वैश्विक महामारी है, जिसकी वर्तमान में कोई कारगर दवा अथवा वैक्सीन उपलब्ध नहीं है। इस महामारी से बचाव ही इससे सुरक्षा है। इसके दृष्टिगत हमें कारगर रणनीति बनाकर उसे प्रभावी ढंग से लागू करना होगा। उन्होंने कहा कि आमजन को कोरोना से बचाव के लिए जागरूकता कार्यक्रम को निरन्तर जारी रखना होगा।
श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने पूरे प्रदेश में सर्विलान्स व्यवस्था को और बेहतर किए जाने के निर्देश देते हुए कहा है कि काॅन्टेक्ट ट्रेसिंग तथा डोर-टू-डोर सर्वे गतिविधियां प्रभावी ढंग से सुनिश्चित किया जाए। जनपद स्तर पर इन्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेण्टर द्वारा दूरभाष के माध्यम से होम आइसोलेशन में गये प्रत्येक व्यक्ति से नियमित रूप से संवाद बनाते हुए उनके स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त की जाए। इस कार्य में मुख्यमंत्री हेल्पलाइन का भी उपयोग किया जाए। उन्होंने मास्क के अनिवार्य उपयोग के सम्बन्ध में प्रवर्तन कार्रवाई में तेजी लाने के निर्देश भी दिये है। उन्होंने जनपद लखनऊ, कानपुर नगर, बरेली, प्रयागराज, गोरखपुर तथा वाराणसी के एल-2 तथा एल-3 कोविड अस्पतालों में बेड्स की संख्या बढ़ाने के विशेष निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री सुरेश खन्ना आज जनपद वाराणसी तथा मिर्जापुर का भ्रमण कर चिकित्सा व्यवस्था की मौके पर समीक्षा करेंगे। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी के निर्देश के क्रम में मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश आज कानपुर के भ्रमण पर है जो जिलाधिकारी एवं अन्य अधिकारियों से मिलकर वहां की स्थिति का जायजा लेंगें।
श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिए है कि चिकित्सा कर्मियों तथा पुलिस कर्मियों को संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए सभी प्रबन्ध किए जाएं। उन्होंने कहा है कि स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार की आॅनलाइन ओ0पी0डी0 सेवा ई-संजीवनी के माध्यम से अधिक से अधिक लोग लाभान्वित हो सकें, इसके लिए इस सुविधा का व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जाए। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिए है कि बाढ़ग्रस्त व जलमग्न इलाकों में प्रभावित लोगों को राशन किट सहित सभी प्रकार की सहायता समय से उपलब्ध कराई जाए। गौ-आश्रय स्थलों पर सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं। किसानों के लिए यूरिया खाद की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। उन्होंने स्वच्छता अभियान को और गति प्रदान करने के निर्देश देते हुए कहा है कि साफ-सफाई को अपनाने से कोविड-19 तथा संचारी रोगों को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।
श्री अवस्थी ने बताया कि पुलिस विभाग द्वारा की गयी कार्यवाही में अब तक धारा 188 के तहत 1,81,249 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज की गई। प्रदेश में अब तक 1,20,97,061 वाहनांे की सघन चेकिंग में 67,190 वाहन सीज किये गये। चेकिंग अभियान के दौरान 61,25,04,779 रूपए का शमन शुल्क वसूल किया गया। आवश्यक सेवाओं हेतु कुल 3,48,292 वाहनों के परमिट जारी किये गये हैं। उन्होंने बताया कि कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले 1,063 लोगों के खिलाफ 786 एफआईआर दर्ज करते हुए 390 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार फेक न्यूज पर कड़ाई से नजर रख रही है। फेक न्यूज के तहत अब तक 2188 मामलों का संज्ञान में लेते हुए साइबर सेल को सूचित किया गया है जो जांच के बाद कार्यवाही सुनिश्चित करेगा।
श्री अवस्थी ने बताया कि प्रदेश के 10,684 हाॅट स्पाॅट के 1,099 थानान्तर्गत 14,21,368 मकानों के 85,06,138 लोगों को चिन्हित किया गया है। इन हाॅटस्पाॅट क्षेत्रों में कोरोना पाॅजिटिव लोगों की संख्या 43,433 है। इंस्टीट्यूशनल क्वारेंटाईन किये गये लोगों की संख्या 20,075 है। मुख्यमंत्री कोविड केयर फण्ड में अब तक 429.50 करोड़ रूपये प्राप्त हुये है जिसमें से 361 करोड़ रूपये कोविड-19 से बचाव हेतु आवश्यक उपकरणों एवं अन्य संसाधनों हेतु विभिन्न चिकित्सा संसाधनों को निर्गत किये गये हैं। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम की 6,700 बसों से कल लगभग 9 लाख लोगों ने यात्रा की।
अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में कोविड-19 टेस्टिंग का कार्य तेजी से किया जा रहा है। प्रदेश में कल एक दिन में 1,01,039 सैम्पल की जांच की गयी। इस प्रकार कोविड-19 की जांच में 33 लाख का आकड़ा पार करते हुए प्रदेश में अब तक 33,14,435 सैम्पल की जांच की गयी है। डब्लू0एच0ओ0 द्वारा निर्धारित मानक से तीन गुना अधिक टेस्ट वर्तमान मंे प्रदेश में किये जा रहे है। प्रतिदिन टेस्ट क्षमता में उत्तर प्रदेश देश में प्रथम स्थान पर है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में विगत 24 घंटंे में कोरोना के 5,130 नये मामले आये है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 48,998 कोरोना के एक्टिव मामले हैं, जिसमें 20,818 मरीज होम आइसोलेशन, 1533 लोग प्राइवेट हास्पिटल में तथा 197 मरीज सेमी पेड फैसिलिटी में तथा इसके अतिरिक्त शेष कोरोना संक्रमित एल-1, एल-2, एल-3 के कोरोना अस्पतालों में है। प्रदेश में अब तक 80,589 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि पूल टेस्ट के अन्तर्गत कल 3489 पूल की जांच की गयी, जिसमें 3248 पूल 5-5 सैम्पल के तथा 241 पूल 10-10 सैम्पल की जांच की गयी।
श्री प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में सर्विलांस की कार्यवाही के अन्तर्गत 2,37,058 सर्विलांस टीम द्वारा 1,67,07,379 घरों के 8,41,00,169 लोगों का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि अब तक प्रदेश में 61,794 कोविड हेल्प डेस्क स्थापित कर दिये गये है। इन कोविड हेल्प डेस्क के माध्यम से 6,36,000 से अधिक लक्षणात्मक लोग चिन्हित किये गये हैं।

Related posts

प्रदेश के 11,929 हज यात्रियों को एनसीएनटीजेड रिहाइशी श्रेणी से अजीजिया श्रेणी में किया गया

प्रदेश की 101 नयी कंगारू मदर केयर यूनिट का प्रो0 रीता जोशी ने किया लोकार्पण

राजेन्द्र प्रताप सिंह, ‘मोती सिंह’ ने जनपद प्रतापगढ़ में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु विधायक निधि से 10 लाख रूपये अवमुक्त करने की संस्तुति की