पीएमजीएसवाई के तहत ग्रामीण मार्गों का हो रहा है कायाकल्प: केशव प्रसाद मौर्य

Image default
उत्तर प्रदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने पीएमजीएसवाई योजना के तहत चयनित मार्गों के कार्यो में तेजी लाने के निर्देश लोक निर्माण विभाग  अधिकारियों को दिए हैं। उन्होंने निर्देश दिये है कि पीएमजीएसवाई के तहत लोक निर्माण विभाग द्वारा सड़कों का जो कार्य कराया जा रहा है, उसमें तीव्रता लाई जाए तथा सभी सड़कों का निरीक्षण कर लिया जाए।
श्री मौर्य ने बताया कि पीएमजीएसवाई के तहत वर्तमान सरकार के पिछले
3 वर्षों के कार्यकाल में लोक निर्माण विभाग द्वारा रु० 1842.72 करोड़  की लागत से 486 मार्गों का चैड़ीकरण एवं सुदृढीकरण का किया गया है, जिनकी लंबाई 3655.35 किलोमीटर है ।
लो0नि0वि0 से प्राप्त जानकारी के अनुसार चालू वित्तीय वर्ष में लोक निर्माण विभाग के अधीन 84 मार्गों (लम्बाई 772 किलोमीटर), जिसकी लागत रू० 450 करोड़ है, को पूरा करने का लक्ष्य है। इसके अतिरिक्त जनपद सोनभद्र के नक्शल प्रभावित क्षेत्र के विकास हेतु रू० 285 करोड़ की लागत से 12 मार्गो (लम्बाई 287 किमी) एवं
11 सेतुओं के कार्य प्रारम्भ हो चुके हैं।
लोक निर्माण विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना फेस-3 की महत्वाकांक्षी योजना भी शुरू हो रही है, जिसमें लोक निर्माण विभाग के अन्तर्गत इस वर्ष 5078 किमी० के चैड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण कार्य  प्रस्तावित है। इसके डीपीआर के गठन का कार्य अन्तिम चरण में है। उपमुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं सभी औपचारिकताएं पूरी करते हुए कार्य प्रारम्भ किये जांए।
उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के उत्कृष्ट प्रदर्शन के कारण भारत सरकार से पुरस्कार स्वरूप इन्सेन्टिव मद में प्राप्त रू० 103.63 करोड़ की धनराशि से पीएमजीएसवाई द्वारा पूर्व में निर्मित और स्टेट खंडों को हस्तान्तरित 420 मार्गों जिनकी लंबाई 1100 किलोमीटर है, के नवीनीकरण का भी कार्य होना है।

Related posts

खादी एवं ग्रामोद्योग प्रदर्शनी में आयुर्वेदिक दवाओं की बिक्री

रक्षाबंधन पर इस साल है 12 घंटे का मुहूर्त, जाने पूजा विधि

बुन्देलखण्ड क्षेत्र में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्ड धारकों को जून से सितम्बर, 2016 तक निःशुल्क खाद्यान्न वितरण किया जाए: मुख्यमंत्री