विकास कार्यों एवं कोविड-19 के सम्बन्ध में किए जा रहे बचाव कार्यों की समीक्षा करते हुएः सीएम – Online Latest News Hindi News , Bollywood News
Breaking News
Home » उत्तर प्रदेश » विकास कार्यों एवं कोविड-19 के सम्बन्ध में किए जा रहे बचाव कार्यों की समीक्षा करते हुएः सीएम

विकास कार्यों एवं कोविड-19 के सम्बन्ध में किए जा रहे बचाव कार्यों की समीक्षा करते हुएः सीएम

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि कोविड की चुनौतियां अभी खत्म नहीं हुई हैं। इसके विरुद्ध लड़ाई बाकी है। इसके दृष्टिगत सावधानियां, सजगता एवं बचाव के सभी उपायों का पालन करते हुए निरन्तर आर्थिक गतिविधियों को भी तेजी से आगे बढ़ाना है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण से बचते हुए विकास कार्यों को गति देनी है। उन्होंने कार्य स्थलों पर अनिवार्य रूप से कोविड हेल्प डेस्क स्थापित कराते हुए, वहां इन्फ्रारेड थर्मामीटर, पल्स आॅक्सीमीटर, फुट/सेन्सर आॅपरेटेड सैनेटाइजर मशीन की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। प्रत्येक स्थल पर ‘क्या करंे-क्या न करें’ का डिस्प्ले बोर्ड भी लगाया जाए। ‘दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी’ की वाॅल पेन्टिंग/डिस्प्ले बोर्ड के माध्यम से अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार कराया जाए। उन्होंने कहा कि ट्रूनैट मशीनों का अधिक से अधिक प्रयोग किया जाए, जिससे जरूरतमन्दों को तुरन्त इलाज की सुविधा उपलब्ध हो सके।
मुख्यमंत्री जी आज जनपद अयोध्या में विकास कार्यों एवं कोविड-19 के सम्बन्ध में किए जा रहे बचाव कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से खतरा उसी को है, जिसकी समय से पहचान नहीं हो पायी है। बैठक में कोविड-19 के सम्बन्ध में उठाए गए कदमों की जानकारी देते हुए जिलाधिकारी ने मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया कि जनपद में 7953 सैम्पलिंग करायी गई थीं, जिनमें से 264 संक्रमित व्यक्ति मिले थे तथा 6934 व्यक्तियांे की रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई थी। जबकि 178 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। जनपद में आज की तिथि में 82 सक्रिय केस हैं। जनपद में राजर्षि दशरथ मेडिकल काॅलेज में एल-2 में कुल 300 बेड के सापेक्ष वर्तमान में 86 मरीज भर्ती हैं, जबकि 526 बेड रिक्त हैं। इसके अलावा, जनपद में स्थापित कोविड केयर केन्द्रों में 1000 अतिरिक्त बेडों की व्यवस्था की गई है। उन्होंने प्रशासन व स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा करायी जा रही अन्य व्यवस्थाओं व प्रयासों की विस्तार से जानकारी दी। जिलाधिकारी ने मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया कि राज्य सरकार के निर्देशों का पालन करते हुए जनपद अयोध्या में कम्युनिटी किचन के माध्यम से सभी निर्धन, असहाय, जरूरमन्दों को भोजन वितरित किया गया और बाहर से आए सभी श्रमिकों को राशन किट प्रदान की गई।
मुख्यमंत्री जी ने जनप्रतिनिधियों के साथ लगातार समन्वय बनाते हुए समयबद्ध ढंग से विकास कार्यों को पूरा कराने के निर्देश दिए। जुलाई, 2020 के प्रथम सप्ताह में होने वाले वृक्षारोपण महाभियान के अवसर पर 25 करोड़ पौधों को रोपित करने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए प्रत्येक बूथ तक 10-10 पौधे जनप्रतिनिधियों के माध्यम से पहुंचाए जाएं। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लाभार्थियों को पौधे दिए जा रहे हैं। सभी संगठन लगकर पौधे रोपित कराएं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोई भी पात्र लाभार्थी राशन कार्ड से वंचित नहीं रहना चाहिए, पात्र लाभार्थियों के तुरन्त राशन कार्ड बनवाए जाएं। किसी को राशन कार्ड के लिए इंतजार न करना पड़े। राशन कार्ड का आवेदन प्राप्त होते हुए प्रक्रिया प्रारम्भ कर दी जाए। खाद्यान्न की चोरी कतई न हो, सरकारी गोदाम से तौल कराकर ही कोटेदारों को राशन दिया जाए। कोटेदार कार्डधारकों के राशन में किसी प्रकार की कटौती न करने पाएं, इसका विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे। यदि किसी बीमार के पास इलाज के पैसे नहीं हैं या किसी की मृत्यु होने पर, उसकी अन्त्येष्टि के लिए पैसे नहीं हैं, तो उनकी पंचायत निधि से तत्काल सहायता करायी जाए।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अयोध्या की सुरक्षा पूरी मुस्तैदी से की जाए। अयोध्या के विकास कार्यों में कोई अवरोध हो, तो तत्काल मुख्यमंत्री कार्यालय को पत्र लिखकर अवरोध को दूर कराएं, जिससे विकास कार्य तेज गति से हो सके। सोशल मीडिया पर भड़काऊ बयान देने वालों पर प्रभावी कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। बरसात के मौसम में चोरी/डकैती आदि की घटनाओं के दृष्टिगत पेट्रोलिंग बढ़ाई जाए। प्लास्टिक केे विरुद्ध अयोध्या में विशेष रूप से अभियान चलाएं। गौकशी, गौ-तस्करी, कच्ची शराब आदि पर कड़ाई से रोक लगाई जाए। उन्होंने कहा कि बरसात के मद्देनजर बाढ़ के सम्बन्ध में समस्त तैयारियां गुणवत्ता पूर्ण ढंग से समय के साथ पूर्ण कर ली जाएं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश में बाहर से आए श्रमिकों/कामगारों को रोजगार उपलब्ध कराना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसके लिए सभी विभाग समन्वय स्थापित करते हुए कार्य करें, जिससे सभी को रोजगार मिल सके। ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण रोजगार अभियान’ से प्रेरित ‘आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार कार्यक्रम’ का क्रियान्वयन किया जाए, जिससे इसके तहत भी अधिक से अधिक लोगों को रोजगार मिल सके। जनप्रतिनिधियों एवं बैंकों के साथ अच्छा समन्वय बनाएं और जो स्वरोजगार करना चाहते हैं उन्हें ऋण उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव के दृष्टिगत कानून व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त रखी जाए। राजस्व एवं पुलिस की ज्वाइण्ट टीम द्वारा विवादों का निरन्तर मौके पर जाकर प्रभावी निस्तारण कराया जाए।
जनपद अयोध्या भ्रमण के दौरान मुख्यमंत्री जी ने जिला अस्पताल पहुंचकर ओ0पी0डी0 संचालन, इमरजेंसी व्यवस्थाओं, वार्डांे की स्थिति का जायजा लिया और वहां भर्ती मरीजों का हालचाल जाना। उन्होंने मरीजों से उनकी समस्याओं के विषय में भी जानकारी प्राप्त की।
मुख्यमंत्री जी ने सर्किट हाउस पहुंचकर जिला प्रशासन द्वारा कराए जा रहे विकास कार्यों के बारे में जानकारी ली। बैठक में जिलाधिकारी श्री अनुज कुमार झा ने जनपद में कराए जा रहे विकास कार्यों का ब्यौरा प्रस्तुत किया। मुख्यमंत्री जी को अधिकारियों ने जनपद में कराए जा रहे विकास कार्यों की जानकारी से अवगत कराया। उन्होंने भूमि समतलीकरण, सड़क निर्माण आदि की जानकारी प्राप्त की। जिलाधिकारी द्वारा अयोध्या धाम के विकास कार्यों की अद्यतन प्रगति यथा-रानी हो पार्क, रामकथा गैलरी, राम की पैड़ी के शेष कार्यों, लक्ष्मण घाट, बस स्टेशन, पेयजल, अयोध्या सीवेज आदि योजनाओं का प्रस्तुतीकरण किया गया।
मुख्यमंत्री जी ने जनप्रतिनिधियों से कोविड-19 के दौरान किए गए कार्यों की भी जानकारी प्राप्त की। उन्होंने अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट की भूमि क्रय व मेडिकल काॅलेज निर्माण की प्रगति की समीक्षा की। मुख्यमंत्री जी ने जिला प्रशासन, स्वास्थ्य एवं पुलिस विभाग द्वारा कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए उठाए गए कदमों की सराहना करते हुए जिला प्रशासन, पुलिस व स्वास्थ्य विभाग के कोविड वाॅरियर्स का मनोबल बढ़ाया। उन्होंने नक्षत्र वाटिका में रीठे का वृक्ष रोपित किया। नक्षत्र वाटिका में 27 प्रकार के पौधे रोपित किए गए।

About admin