अनावश्यक आवागमन को रोकने तथा मास्क के अनिवार्य उपयोग के लिए लोगों को जागरूक किया जाए

Image default
उत्तर प्रदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना श्री अवनीश कुमार अवस्थी ने आज यहां लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री जी ने अनावश्यक आवागमन को रोकने तथा मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग करने के लिए लोगों को जागरूक किए जाने पर बल दिया है। उन्होंने कहा है कि कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए ऐसा किया जाना जरूरी है। उन्होंने कहा है कि लोगों को अवगत कराया जाए कि घर से बाहर अत्यन्त आवश्यक होने पर ही निकलें। जनता को ‘दो गज की दूरी मास्क है जरूरी’ को अपने दैनिक जीवन का अनिवार्य हिस्सा बनाने के लिए प्रेरित व प्रोत्साहित किया जाए। उन्होंने कहा है कि अगर सार्वजनिक स्थान पर कोई बगैर मास्क लगाए मिले तो उस पर जुर्माना राशि में बढ़ोत्तरी की जा सकती है। स्वास्थ्य विभाग को इस सम्बन्ध में आवश्यक दिशा-निर्देश जारी करने के निर्देश दिए।

श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने प्रदेश में अब तक 33,000 से अधिक कोविड हेल्प डेस्क की स्थापना पर संतोष व्यक्त करते हुए कोविड हेल्प डेस्क के सुचारु संचालन पर बल दिया है। उन्होंने बाल संरक्षण गृह, महिला संरक्षण गृह तथा वृद्धाश्रम के निवासियों का नियमित स्वास्थ्य परीक्षण कर संक्रमण की जानकारी प्राप्त करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि यदि कोई संक्रमित व्यक्ति मिले तो उसके उपचार की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया है कि प्रदेश में जनपद स्तर पर एम्बुलेंस की अतिरिक्त व्यवस्था सुनिश्चित करे। उन्होंने कहा है कि निजी अस्पतालों में ट्रूनैट मशीन की स्थापना व इनके उपयोग को प्रोत्साहित किया जाए। टेस्टिंग क्षमता में वृद्धि के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा है कि रैपिड एन्टीजन टेस्ट के अतिरिक्त, त्ज्च्ब्त् से 30,000 टेस्ट प्रतिदिन किए जाएं। उन्होंने कोविड अस्पतालों मेें भर्ती रोगियों के परिजनों से नियमित संवाद कर उन्हें रोगी के स्वास्थ्य की स्थिति की जानकारी उपलब्ध कराने के निर्देश भी दिए हैं।

श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि संक्रमण को रोकने के लिए स्वच्छता व सेनिटाइजेशन को व्यवस्था का अंग बनाना होगा। कोविड-19 के संक्रमण सहित संचारी रोगों से बचाव के लिए ऐसा करना आवश्यक है। उन्होंने स्वच्छता कार्यक्रम को आगे बढ़ाने के निर्देश देते हुए कहा है कि सभी ग्राम पंचायतों में सामुदायिक शौचालयों का निर्माण कराया जाए। शुद्ध पेयजल की उपलब्धता के लिए पाइप पेयजल योजनाओं का प्रभावी संचालन किया जाए। आमजन को पानी उबालकर पीने तथा स्वच्छता के सम्बन्ध में लगातार जागरूक किया जाए। उन्होंने कहा है कि इन उपायों को अपनाकर विषाणुजनित तथा जीवाणुजनित बीमारियों पर रोक लगाने पर बड़ी मदद मिलेगी। उन्होंने जनपदों में तैनात नोडल अधिकारियों को स्वच्छता एवं शुद्ध पेयजल के सम्बन्ध में मिशन मोड पर कार्य करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि टिड्डी दल के प्रकोप को रोकने के लिए गन्ना विभाग, कृषि विभाग तथा उद्यान विभाग सहित अन्य सम्बन्धित विभागों के आपस में समन्वय से प्रभावी कार्य योजना बनाई जाए। आकाशीय बिजली से होने वाली जनहानि को न्यूनतम करने के लिए उन्हांेने समय से एलर्ट जारी करने तथा इसका व्यापक प्रचार-प्रसार किए जाने पर बल दिया। उन्होंने कहा है कि इसके लिए समाचार चैनलों तथा एफ0एम0 रेडियो चैनलों का आवश्यकतानुसार उपयोग किया जाए। यदि आकाशीय बिजली के सम्बन्ध में 24 घण्टे पूर्व जानकारी मिल सके तो समाचार पत्रों के माध्यम से भी एलर्ट का प्रचार-प्रसार किया जाएं। उन्होंने इस सम्बन्ध में ग्राम पंचायत स्तर पर पब्लिक एड्रेस सिस्टम को अपनाए जाने की भी बात कही। उन्होंने बाढ़ नियंत्रण के सम्बन्ध में सिंचाई विभाग तथा राहत उपलब्ध कराने के उद्देश्य से राजस्व विभाग को कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिए हैं।

श्री अवस्थी ने बताया कि गृह विभाग की धारा 188 के तहत 85,696 एफआईआर दर्ज करते हुये 2,19,935 लोगों को नामजद किया गया है। प्रदेश में अब तक 86,45,100 वाहनांे की सघन चेकिंग में 61,282 वाहन सीज किये गये। चेकिंग अभियान के दौरान 40,68,70,127 रूपए का शमन शुल्क वसूल किया गया। कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले 977 लोगों के खिलाफ 733 एफआईआर दर्ज करते हुए 352 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि फेक न्यूज के तहत अब तक 1714 मामलों को संज्ञान में लेते हुए कार्यवाही की गई है। 07 जुलाई को कुल 16 मामले, जिनमें ट्विटर के 14, फेसबुक के 02 मामले को संज्ञान में लिया गया हंै तथा साइबर सेल को आवश्यक कार्यवाही हेतु प्रेषित। उन्होंने बताया कि शस्त्र अनुज्ञा के विरूद्ध कार्यवाही के तहत इस सप्ताह में 127 शस्त्र लाइसेंस के निलम्बन/निरस्तीकरण की कार्यवाही करते हुए 01 जनवरी, 2020 से निलम्बन/निरस्तीकरण कुल 5925 शस्त्र अनुज्ञा के निलम्बन की कार्यवाही की गयी है। उन्होंने बताया कि इस सप्ताह 105 शस़्त्रों का लाइसेंस निरस्तीकरण के वाद दर्ज करते हुए जनवरी, 2020 से अब तक कुल 1271 शस्त्र लाइसेंस निरस्तीकरण के वाद दर्ज किये गये है। सप्ताह में 78 शस्त्र लाइसेंस निलम्बित करते हुए जनवरी, 2020 से कुल 1131 लाइसेंस निलम्बित किये गये है। जबकि सप्ताह में 51 शस्त्र निरस्त करते हुए 01 जनवरी, 2020 से अब तक कुल 318 शस्त्र निरस्त किये गये है एवं सप्ताह में 265 शस्त्र जमा करते हुए जनवरी, 2020 से अब तक कुल 1292 शस्त्र जमा करायेे गये है।

श्री अवस्थी ने बताया कि कानून व्यवस्था एवं शान्ति व्यवस्था को बनाये रखने के लिए धारा 107 तथा 116 के तहत कार्यवाही की जाती है। उन्होंने बताया कि इसके तहत इस सप्ताह में 53048 लोगों के चालान करते हुए 01 जनवरी, 2020 से अब तक कुल 288392 लोगों के चालान किये गये है। उन्होंने बताया कि इस सप्ताह में 53108 जबकि जनवरी, 2020 से अब तक 281030 वाद दर्ज करते हुए धारा 111 के अन्तर्गत नोटिस निर्गत किये गये है। इस सप्ताह 20927 जबकि 01 जनवरी, 2020 से अब तक 110469 वादों में धारा 116/117 के अन्तर्गत पाबंद किये गये हैं। उन्होंने बताया कि गम्भीर अपराध एवं आम जन से जुड़े हुए अपराधों के विरूद्ध 67 मामलों मे ंरासूका लगाते हुए 88 लोगो ंके खिलाफ कार्यवाही की गयी है। इसके तहत गौकशी के विरूद्ध 63 बालिकाओं के विरूद्ध अपराध में 03, गम्भीर अपराध में 13 व अन्य अपराधों के 32 मामलें में रासूका लगाते हुए कुल 120 अपराधों के विरूद्ध रासूका लगायी गयी है। उन्होंने बताया कि धारा 188 के अन्तर्गत इस सप्ताह प्रभावी कार्यवाही करते हुए जनवरी, 2020 से अब तक 64340 मामलों में अभियोग पंजीकृत किये गये। महामारी अधिनियम के अन्तर्गत धारा 15(3) (मास्क हेतु) तहत दिनांक 14 जून से 04 जुलाई, 2020 तक 117838 मामले दर्ज करते हुए 6,52,43,562 रूपये का जुर्माना वसूल किया गया है। महामारी अधिनियम के अन्तर्गत धारा 15(4) के अन्तर्गत 1,45,16,240 रूपये जुर्माने की धनराशि वसूल की गयी है। गैंगस्टर एवं गिरोहबन्द एक्ट के तहत प्रभावी कार्यवाही करते हुए समस्त जिलाधिकारियों द्वारा इस सप्ताह 197 मामले, जबकि 01 जनवरी, 2020 से अब तक 1889 मामले अनुमोदित किये गये है। इन मामलों में न्यायालयों में वाद चल रहे है। गैंगस्टर वादों में इस सप्ताह में 2,65,85,714 जबकि जनवरी, 2020 से अब तक 18,69,31,192 की सम्पत्ति जब्त की गयी है।

श्री अवस्थी ने बताया कि प्रदेश के 3027 हाॅट स्पाॅट के 823 थानान्तर्गत 8,54,813 मकानों के 49,59,956 लोगों को चिन्हित किया गया है। इन हाॅट स्पाॅट क्षेत्रों में कोरोना पाॅजीटिव लोगों की संख्या 8,882 है। इंस्टीट्यूशनल क्वारेंटाइन किये गये लोगों की संख्या 10,096 है। उन्होंने  बताया कि प्रदेश में हाॅटस्पाॅट वाले बस्तियों में 4650 डोर स्टेप डिलिवरी मिल्क बूथ/मैन के द्वारा दूध वितरित किया गया है। डोर स्टेप डिलिवरी ‘फल, सब्जी आदि’ कुल 6939 वाहन लगाये गये हैं। डोर स्टेप डिलिवरी वाले प्रोविजन स्टोर की संख्या 5504 है। हाॅट स्पाॅट क्षेत्रों में कुल 36 प्रचलित सामुदायिक किचन हैं। इन बस्तियों में 7,14,153 राशन कार्डों पर खाद्यान्न का वितरण किया गया है।

श्री अवस्थी ने बताया कि निर्माण कार्यों से जुडे़ 18.16 लाख श्रमिकों, नगरीय क्षेत्र के 8.91 लाख श्रमिकों तथा ग्रामीण क्षेत्रों के 6.74 लाख निराश्रित व्यक्तियों को रु0 1,000- 1,000ध्- के आधार पर कुल 33.81 लाख लोगों को 338.03 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में प्रदेश की पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्यूपमेन्ट एवं मास्क सहित कुल 70 इकाईयां क्रियाशील हैं। प्रदेश में 1127 फ्लोर मिल, 503 तेल मिल एवं 332 दाल मिल संचालित की जा रही है। उन्होंने बताया कि कल प्रदेश में 6,299 बसों में 7,58,278 लोगों ने यात्रा की। उन्होंने कहा कि बसों, ट्रेन में यात्रा के दौरान यात्री मास्क अवश्य पहने और सैनेटाइजर का प्रयोग अवश्य करे। उन्होंने कहा कि यथासम्भव ट्रेन एवं बसों में सोशल डिस्टेसिंग का पालन भी करे।

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में टेस्टिंग का कार्य तेजी से किया जा रहा है। कल 30,000 सैम्पल प्रतिदिन जांच के लक्ष्य को पार करते हुए 30,329 सैम्पल की जांच की गयी, जो अब तक की सर्वाधिक हैं। उन्होंने बताया कि अब तक कुल 9,22,049 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 9,514 कोरोना के मामले एक्टिव हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 19,627 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि पूल टेस्ट के अन्तर्गत कुल 2501 पूल की जांच की गयी, जिसमें 2184 पूल 5-5 सैम्पल के तथा 317 पूल 10-10 सैम्पल की जांच की गयी।

श्री प्रसाद ने बताया कि ग्राम एवं मोहल्ला निगरानी समितियों के द्वारा निगरानी का कार्य सक्रियता से किया जा रहा है। अब तक 1,61,279 सर्विलांस टीम द्वारा 1,17,45,356 घरों के 5,99,44,310 से अधिक लोगों का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि आरोग्य सेतु ऐप से अलर्ट जनरेट आने पर कन्ट्रोल रूम द्वारा निरन्तर फोन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पूरे प्रदेश में घर-घर जाकर सर्विलांस का कार्य किया जा रहा है। इसके तहत सर्विलांस टीम द्वारा लोगों में सर्दी, जुकाम, बुखार, खांसी आदि लक्षणों के साथ-साथ को-मोबिलिटी के बारे में जानकारी प्राप्त कर नोट की जा रही है तथा इसे पोर्टल पर अपलोड किया जा रहा है। अलर्ट जनरेट होने पर अब तक 1,41,619 लोगों को कन्ट्रोल रूम द्वारा फोन कर जानकारी प्राप्त की गयी। जिसमें से 4,220 लोग होम क्वाराटाईन में रखें गये है। उन्होंने बताया कि देश में मास्क अनिवार्य कर दिया गया है। सार्वजनिक स्थानों पर बिना मास्क के मिलने संबंधित का चालान किया जा रहा है। मास्क न पहनने पर 100 रूपये का चालान को बढ़ा कर शीघ्र ही  500 रूपये कर दिया जायेगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में विभिन्न विभागों द्वारा 33,571 कोविड हेल्प डेस्क स्थापित किये जा चुके है। इन कोविड हेल्प डेस्क के माध्यम से 6000 से अधिक लक्षणात्मक लोगों का चिन्हाकंन किया गया है।

Related posts

निबन्धन के पूर्व ई-स्टाम्प पत्र में आंशिक स्टाम्प की धनराशि को वापस किये जाने के सम्बन्ध में शासनादेश जारी

बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), डा0 सतीश चन्द्र द्विवेदी ने सफल अभ्यर्थियों को दी शुभकामनाएं

भव्य राम मंदिर निर्माण की करें तैयारी: सीएम योगी आदित्यनाथ