कानपुर से प्रयागराज नौकायन एवं पुलिंग अभियान

उत्तर प्रदेश

लखनऊः एन.सी.सी. निदेशालय उत्तर प्रदेश द्वारा निर्देशित, एन.सी.सी ग्रुप मुख्यालय लखनऊ के तत्वाधान में 3 यू.पी. नौसेना इकाई एन.सी.सी द्वारा कानपुर (धोरी घाट) से प्रयागराज (सरस्वती घाट) तक गंगा नदी पर नौकायन अभियान का आयोजन किया जा रहा है। यह अभियान छह जिलों क्रमशः कानपुर, उन्नाव, फतेहपुर, रायबरेली, प्रतापगढ़ तथा प्रयागराज से होकर गुजरते हुए नदी मार्ग से लगभग 270 किलोमीटर की दूरी तय करेगा। नदी के बहाव, मौसम और तेज हवाओं की अनिश्चितता के बीच इस बेहद चुनौतीपूर्ण अभियान में 35 लड़के तथा 25 लड़कियों सहित कुल 60 एन.सी.सी  कैडेट भाग ले रहे हैं। अभियान में दो डी के व्हेलर्स बोट (भारतीय नौसेना द्वारा प्रयुक्त), एक असॉल्ट बोट तथा दो बचाव नौकाएं प्रयोग में लायी जाएँगी। लेफ्टीनेन्ट कमाण्डर श्री अश्वनी कुमार सिंह ने यह जानकारी दी।
उन्होंने बताया कि इस अभियान को एन.सी.सी ग्रुप मुख्यालय, लखनऊ के ग्रुप कमाण्डर ब्रिगेडियर श्री रवि कपूर द्वारा दिनांक 18 अक्टूबर 2021 को दोपहर 12 बजे धोरी घाट, कानपुर से झंडा दिखाकर रवाना किया गया। एन.सी.सी कैडेटों की इस प्रकार की साहसिक गतिविधियों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से ग्रुप कमाण्डर द्वारा कैडेटों को इस अद्वितीय एवं चुनौतीपूर्ण अभियान के लिए भरपूर सहयोग प्रदान किया गया है। विगत वर्षों में, इस तरह के नौकायन अभियान प्रयागराज से वाराणसी तक आयोजित होते रहे हैं। हालांकि इस वर्ष यह पहली बार है कि लखनऊ एन.सी.सी के कैडेटों को प्रोत्साहित करने के लिए एक विशेष कार्यक्रम के रूप में कानपुर से प्रयागराज तक अभियान आयोजित किया जा रहा है। आयोजन में उपस्थित ग्रुप कमाण्डर नें अभियान दल के समर्पण भरे प्रयासों की सराहना की तथा कैडेटों को सुरक्षित एवं सफल अभियान के लिए शुभकामनाएं दी।
लेफ्टीनेन्ट कमाण्डर श्री अश्वनी कुमार सिंह ने बताया कि नदी पर नौकायन एवं नाव खींचने के लिए कैडेटों में अत्यधिक बल, सहनशक्ति एवं प्रतिबद्धता के साथ-साथ विशेष नाविक एवं परिचालन कौशल की आवश्यकता होती है। अभियान की तैयारी को ध्यान में रखते हुए सभी प्रतिभागी कैडेट पिछले दो महीनों से गोमती नदी पर अभ्यास कर रहे हैं तथा सितम्बर माह में अभियान की तैयारी हेतु एक विशेष शिविर भी आयोजित किया गया था। अभियान में 3 (यू.पी.) नेवल यूनिट एन.सी.सी के कमांडिंग अधिकारी कैप्टन (भारतीय नौसेना) नवेंदु सक्सेना के नेतृत्व में निरीक्षण एवं सहायक दल के रूप में कार्यकारी अधिकारी, एक सहयोगी एन.सी.सी अधिकारी, 10 नाविक (पी.आई स्टाफ) तथा 3 यू.पी. नेवल यूनिट एन.सी.सी के प्रशिक्षित राज्यकर्मचारी भी हिस्सा लेे रहे हैं।
इस अभियान के घोषित उद्देश्य एन.सी.सी कैडेटों में अच्छे चरित्र, एकता और अनुशासन की भावना उत्पन्न करना, जिससे कि वे एक जिम्मेदार नागरिक के रूप में विकसित हों तथा राष्ट्र निर्माण मंे योगदान दे सकें। युवा कैडेटों को नाव चलाने, नौकायन एवं नाव खींचने का प्रशिक्षण देना तथा उन्हें नौसैनिक जीवन शैली से परिचित कराना है। नौका अभियान की कठिन परिस्थितियों में कैडेटों के बीच सौहार्द और नेतृत्व की भावना को विकसित करना एवं उनमें साहस और उद्यम की भावना को बढ़ावा देना है।
इस अभियान का अतिरिक्त उद्देश्य स्थानीय आबादी/ग्रामीण समुदाय के बीच  ‘‘कोविड टीकाकरण’’ एवं ‘‘ स्वच्छ गंगा मिशन’’ के राष्ट्रीय स्तर पर प्रासंगिक सामाजिक संदेशों का प्रसार करना भी है। एन.सी.सी कैडेटों द्वारा नागरिकों से संवाद कर सामाजिक संदशों को घर-घर तक पहुंचाने हेतु अद्वितीय जागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं। अभियान का समापन समारोह दिनांक 27 अक्टूबर 2021 को प्रयागराज के सरस्वती घाट में आयोजित किया जायेगा।

Related posts

पुलिस महानिदेशक, उ0प्र0 द्वारा बाल दिवस 2017 के अवसर पर बच्चों को शुभकामना सन्देश

वर्ष 2018-19 के लिए शीरा निर्धारण नीति में रूग्ण चीनी मिलों/इकाइयों को छूट/रियायत की व्यवस्था

पूर्व मुख्यमंत्री बाबू बनारसी दास जी की 34 वीं पुण्यतिथि पर दी गयी भावपूर्ण श्रद्धांजलि