सिंचाई विभाग के सभी क्षेत्रों में सूचना प्रौद्योगिकी का अधिकतम इस्तेमाल किया जाए: डाॅ0 महेन्द्र सिंह

Image default
उत्तर प्रदेश

लखनऊः उत्तर प्रदेश के जलशक्ति मंत्री डाॅ0 महेन्द्र सिंह ने विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिये है कि सिंचाई विभाग के समस्त प्रणालियांे में सूचना प्रौद्योगिकी का अधिकतम प्रयोग करते हुए कार्यो में परिदर्शिता लायी जाय। उन्होंने यह भी कहा कि आम जनता को सूचनाएं समय से सुलभ कराने के लिए विभागीय कार्य प्रणाली में उत्रोत्तर सुधार लाते हुए सिंचाई विभाग की वेबसाइट को अद्यतन सूचनाओं से लैस किया जाय। उन्होंने बाढ परियोजना प्रबंधन व्यवस्था को और सुदृढ़ करते हुए नलकूपों, लघु डाल नहरांे एवं बड़ी पम्प नहरों को आॅनलाइन किये जाने से सम्बिधत कार्य को प्राथमिकता दी जाय।
जलशाक्ति मंत्री आज विधान भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष में सिंचाई विभाग में आई0टी0 के समावेश के लिए प्रस्तावित बिन्दुओं की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने सिंचाई विभाग में हर स्तर पर आई0टी0 के अधिक से अधिक उपयोग पर जोर देते हुए प्रस्तावित कार्यो को निर्धारित समयसीमा में पूरा करने के निर्देश दिये।
डाॅ0 महेन्द्र सिंह ने सिंचाई विभाग में ई-आॅफिस डिपार्टमेन्ट प्रोजेक्ट्स मैनेजमेन्ट सिस्टम सेन्ट्रल बिड मैनेजमेन्ट (सिविल व यांत्रिक) ई-इम्पलीमेन्टेशन, नलकूपों, लघु डाल नहरों एवं बडी़ पम्प नहरों के चलने की नवीनतम स्थिति का अभिलेखीकरण, नलकूपों, लघु डाल नहरों एवं वृहत पम्प नहरों को आॅनलाइन कराने से सम्बधित कार्य तथा विभाग के समस्त कार्यो का डैश बोर्ड तैयार कराने के निर्देश दिये।
जलशक्ति मंत्री ने विभागीय आई0टी0 पालिसी बनाने, आई0टी0 प्रोजेक्ट फाॅरमेशन आॅल इरीगेशन प्रोजेक्ट मांनिटरिंग इम्लीमेन्टेशन एण्ड आई0 टी0 थिंक टैक नेशनल हाइड्रोलाॅजी प्रोजेक्ट, एफ.एम.आई.एस.सी. तथा एप बेस्ड जियो टैग्ड इन्फारमेशन आॅफ इम्पलाइज विथ जियो रिफरेन्सिंग आॅफ वर्क फील्ड समय से तेयार करने के निर्देश दिए।
डा0 महेन्द्र सिंह ने विभाग में सोशल नेटवर्किंग पर जोर देते हुए काॅल सेन्टर की स्थापना, लैण्ड बैंक एप बनाने तथा सिंचाई विभाग के निरीक्षण भवनों की बुकिंग आॅनलाइन किये जाने की हिदायत दी। उन्होंने कहा कि बैठक में लाये गये सभी प्रस्तावों पर कार्यवाही तेजी से करते हुए निर्धारित समय सीमा में पूरा कर लिया जाय। उन्होंने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी का अधिक से अधिक इस्तेमाल करते हुए विभागीय कार्यों में पारदर्शिता तथा गुणवत्ता सुनिश्चित की जाए।
बैठक में प्रमुख सचिव सिंचाई एवं जल संसाधन श्री टी0 वेंकटेश, सचिव सिंचाई श्रीमती अपर्णा यू0, विशेष सचिव सिंचाई श्रीमती प्रियंका निरंजन व श्रीमती अनीता वर्मा सिंह तथा प्रमुख अभियन्ता एवं विभागाध्यक्ष श्री ए0के0 श्रीवास्तव, प्रमुख अभियन्ता (परियोजना) श्री विनोद कुमार निरंजन व प्रमुख अभियन्ता (यांत्रिक) श्री देवेंद्र अग्रवाल सहित मुख्य अभियन्ता आई0एस0ओ0 संगठन श्री नवीन कपूर मौजूद थे।

Related posts

वर्ष 2015-16 के लिए महिला कल्याण विभाग के बजट की विशेषतायें

नवाबगंज क्षेत्र में अवैध असलहे बनाते हुए एक अभियुक्त गिरफ्तार

आईआईएसएफ-2018 का मुख्य उद्देश्य लोगों को विज्ञान और प्रौद्योगिकी की सफलता को बताना है: डा. हर्ष वर्धन