भारत में हर चौथा व्यक्ति डाकघर का खाताधारक, कुल 36 करोड़ 52 लाख खाते संचालित: डाक निदेशक केके यादव

Image default
उत्तर प्रदेश

लखनऊ: डाक विभाग द्वारा ‘राष्ट्रीय डाक सप्ताह’ के तहत 10 अक्टूबर, 2019 को  बैंकिंग दिवस के रूप में मनाया गया।  चीफ पोस्टमास्टर जनरल कार्यालय स्थित मंथन हॉल  में आयोजित कार्यक्रम में लखनऊ मुख्यालय परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने इसका शुभारम्भ किया और ग्राहकों  से संवाद किया। इस अवसर पर खाताधारकों को सम्मानित भी किया गया।  श्री यादव  ने कहा कि आज भी डाकघरों की बचत योजनाएं सर्वाधिक लोकप्रिय हैं और इनमें लोग पीढ़ी दर पीढ़ी पैसे जमा करते हैं। डाकघरों को नई टेक्नालॉजी से जोड़कर उन्हें कस्टमर-फ्रेंडली बनाया जा रहा है।

निदेशक डाक सेवाएँ श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहा कि वर्ष 1882 में आरम्भ हुई डाकघर बचत सेवाएं विस्तृत नेटवर्क और विश्वसनीयता की बदौलत  आज नए मुकाम पर खड़ी हैं।  भारत में डाकघर में 36 करोड़ 52 लाख ग्राहकों के खाते संचालित है यानी हर चौथे व्यक्ति का डाकघर में खाता है। उत्तर प्रदेश में 3 करोड़ 97 लाख खाते संचालित हैं। बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के तहत 16 लाख से अधिक बेटियों के सुकन्या समृद्धि खाते उत्तर प्रदेश में खोले जा चुके हैं। अकेले लखनऊ रीजन में 576 गाँवों को ‘सम्पूर्ण सुकन्या समृद्धि ग्राम’ बनाया जा चुका है। कोर बैंकिंग और एटीएम के बाद डाकघरों में पेमेंट बैंकिंग का आगाज हो चुका है। 73 पेमेंट्स बैंक शाखाओं व 17,664 एक्सेस पॉइंट्स के द्वारा उत्तर प्रदेश  में अब तक लगभग 15 लाख आई.पी.पी.बी. खाते खुल चुके हैं। प्रधानमंत्री द्वारा आरम्भ जनसुरक्षा योजना – अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना में भी डाकघरों के माध्यम से निवेश किया जा सकता है।

लखनऊ मंडल के प्रवर डाक अधीक्षक आलोक ओझा ने कहा कि डाकघरों में निवेश सबसे सुरक्षित है।  नागरिकों द्वारा की गयी छोटी-छोटी बचत भी समाज के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती  है।

सहायक निदेशक (बचत बैंक) राकेश कुमार वर्मा ने डाकघर में निवेश की तमाम योजनाओं के बारे में बताते हुए सभी डाकघर खाताधारकों से अपने खातों को मोबाईल से लिंक कराने के लिए कहा।

इस अवसर पर, उप निदेशक राष्ट्रीय बचत  राजेश वत्स ने बताया डाक विभाग और बचत विभाग का बहुत पुराना नाता है। डाक विभाग लम्बे समय से लोगों को बचत करने के लिए प्रेरित करता  रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि बचत विभाग भविष्य में भी डाक विभाग की लघु बचत योजनाओं के व्यापक प्रचार प्रसार के लिए कृत संकल्पित है।

इस अवसर पर लखनऊ जी.पी.ओ. के  चीफ पोस्टमास्टर आर. एन. यादव, आई.पी.पी.बी. सर्किल मैनेजर  अविनाश कुमार सिन्हा, रीजनल मैनेजर स्मृति श्रीवास्तव, सहायक निदेशक बचत लख्ननऊ अनिल जोशी, ए.पी. अस्थाना, आई.के. शुक्ल, ससुनील कुमार, रोहिताश्व बाजपेयी, प्रभाकर वर्मा, प्रियम गुप्ता सहित  डाक विभाग के तमाम अधिकारी-कर्मचारी, बचत अभिकर्तागण व खाताधारक मौजूद रहे।

Related posts

अमेरिकी कम्पनी ने बलरामपुर चिकित्सालय की सेवाओं में सुधार की पेशकश की

सोशल साईटों- फेसबुक, ट्विटर, वाट्श्यएप आदि पर घटनाओं को तोड़ मरोड़कर प्रस्तुत कर साम्प्रदायिक उन्माद फैलाने वालों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही के निर्देश

मनरेगा के तहत अधिक से अधिक मानव दिवसों का करें सृजन: राजेन्द्र प्रताप सिंह ‘मोती सिंह’