ईबिक्सकैश द्वारा कंपनी के निदेशक मंडल में प्रतिष्ठित आर्थिक विशेषज्ञ एवं आरबीआई की पूर्व कार्यकारी निदेशक सुश्री उमा शंकर के नियुक्ति की घोषणा

उत्तराखंड

देहरादून: ईबिक्स इन्कॉर्पोरेशन (नेस्डैक) की सहायक कंपनी ईबिक्सकैश प्रायवेट लिमिटेड, इंश्योरेंस, वित्तीय, स्वास्थ्य देखभाल और ईलर्निंग उद्योग के लिए मांग के अनुसार सॉफ्टवेयर और ई-कॉमर्स सेवाओं की आपूर्ति करने वाली एक अग्रणी कंपनी, ने आज घोषणा की है कि सुश्री उमा शंकर को ईबिक्सकैश बोर्ड पर एक नए स्वतंत्र निदेशक के रुप में नियुक्त किया गया है। सुश्री उमा शंकर का करियर बैंकिंग के क्षेत्र में रहा है और 37 वर्षों तक भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) में लंबी सेवा प्रदान करने के बाद वह आरबीआई से सेवानिवृत्त हुई।

सुश्री उमा शंकर वित्तीय विनियम, साइबर सुरक्षा और डाटा एनालिटिक्स जैसे विषयों की जानकार हैं। वित्तीय विनियम से संबंधित समितियों में संयुक्त अध्यक्ष और अनेकों अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय संगठनों के लेखापरीक्षण एवं पर्यवेक्षण समूहों के एक सदस्य के तौर पर उन्होंने सेवाएं प्रदान की हैं। इसके साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर, साइबर सुरक्षा और डाटा एनालिटिक्स पर बनाई गई स्थायी समिति की वह अध्यक्ष रहीं। इसके अलावा केंद्रीय बैंक की डिजिटल मुद्रा प्रस्तुत करने की व्यहार्यता का पता लगाने के लिए वह अंतर्विभागीय समूह की प्रमुख भी थीं।

वर्तमान में सुश्री उमा शंकर कर्नाटक बैंक और इसके साथ ही आईडीबीआई कैपिटल मार्केट्स एंड सिक्योरिटीज़ लि. के निदेशक मंडल (बोर्ड) पर स्वतंत्र निदेशक हैं।

सुश्री उमा को सरकारी एवं अर्ध-सरकारी संस्थाओं में बोर्ड स्तर के दो दशक से ज़्यादा के अनुभव के अलावा बैंकिंग पर्यवेक्षण, मुद्रा प्रबंधन, शहरी बैंक विनियम, साइबर सुरक्षा और प्रशासन इत्यादि क्षेत्रों में समृद्ध अनुभव प्राप्त है। आरबीआई के साथ उनके 37 वर्षों के कार्यकाल के दौरान सुश्री उमा शंकर को आरबीआई निदेशक मंडल प्रतिनिधि के रुप में अनेकों प्रतिष्ठित वित्तीय संस्थानों में मनोनीत किया गया था, जैसे कैनरा बैंक, कॉर्पोरेशन बैंक, यूको बैंक, भारतीय रिज़र्व बैंक नोट मुद्रण प्रा. लि. (बीआरबीएनएमपीएल), भारत प्रतिभूति मुद्रण तथा मुद्रा निर्माण निगम लिमिटेड (एसपीएमसीआईएल) और ईसीजीसी लिमिटेड।

सुश्री उमा शंकर ने कहा, “वित्तीय क्षेत्र में बी2सी और बी2बी दोनों मोर्चों पर ईबिक्सकैश एक सशक्त कंपनी के तौर पर उभर कर सामने आई है दृ चाहे विषय बी2सी मोर्चे पर भुगतान समाधान, प्री-पेड कार्ड, धन-प्रेषण, विदेशी विनिमय, बिल भुगतान, एईपीएस इत्यादि और फिर बैंकों और वित्तीय संस्थानों के लिए ऋण देना, धन एवं परिसंपत्ति प्रबंधन, इंश्योरेंस इत्यादि जैसी टेक्नोलॉजी आधारित सेवाओं का हो। मेरा संपूर्ण करियर वित्तीय उद्योग में रहा है, मैं बैंकिंग और बीएफएसआई उद्योग से अच्छी तरह वाकिफ हूँ और इसके अलावा टेक्नोलॉजी ट्रैंड, साइबर सुरक्षा, मुद्रा प्रबंधन, विनियम और प्रशासन जैसे संबंधित विभिन्न पहलूओं की मुझे गहन जानकारी है। मुझे ईबिक्सकैश बोर्ड से जुड़ते हुए और दुनियाभर में वित्तीय उद्योग के लिए अधिक डिजिटाइज़ेशन लाने के प्रयासों में विनम्रतापूर्वक योगदान दे पाने के लिए  खुशी हो रही है । ”

ईबिक्सकैश बोर्ड के चेयरमैन रॉबिन रैना ने कहा, “उमा अपने साथ संपूर्ण बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्र में  विनियामक, प्रशासन, टेक्नोलॉजी, रणनीतिक और कॉर्पोरेट गवर्नेंस अनुभव का एक गहरा मिश्रण बोर्ड के लिए लेकर आ रही हैं। उन्हें सारे विश्व में वित्तीय विनियम, साइबर सुरक्षा, डाटा एनालिटिक्स और वैश्विक रुप से डिजिटल मुद्रा के क्षेत्रों में एक दिग्गज अग्रणी के तौर पर देखा जाता है- और जैसे हम हमारी वैश्विक यात्रा का आरंभ कर रहे हैं, यह सभी क्षेत्र ईबिक्सकैश के लिए उपयुक्त हैं। उन्हें ईबिक्सबोर्ड में पाकर हम उत्साहित हैं।”

सुश्री उमा भारतीय बैंकर्स संस्थान की एक सर्टिफाइड असोसिएट हैं (सीएआईआईबी) और उन्होंने कोलंबिया बिज़नेस स्कूल, न्यूयॉर्क से एक्ज़ीक्यूटिव शिक्षा पूर्ण की है और इसके साथ ही अंग्रेज़ी में मास्टर्स की डिग्री भी हासिल की है।

Related posts

बीजापुर हाउस में विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास करते हुए मुख्यमंत्री श्री रावत

बैंक ऑफ बड़ौदा ने वित्त वर्ष’22 की दूसरी तिमाही के वित्तीय नतीजे जारी किए

जीवा आयुर्वेद की ओर से बच्चों को दी जाएगी स्वर्णप्राशन की नि:शुल्क ड्रॉप