Navratri 2022: नवरात्रि का चौथा दिन मां कूष्मांडा पूजन से सफल होंगे कार्य

अध्यात्म

नवरात्रि पूजा के चौथे दिन, भक्त देवी कुष्मांडा की पूजा करते हैं जो देवी दुर्गा के नौ अवतारों में से एक रूप हैं. माँ कुष्मांडा के अन्य प्रसिद्ध नाम आदिशक्ति, आदिस्वरूपा और अष्टभुजाधारी देवी हैं. हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, ऐसा कहा जाता है, कि जब भगवान विष्णु ब्रह्मांड की रचना करना शुरू कर रहे थे, तो देवी कुष्मांडा मुस्कुराई और आगे बढ़ीं और इस प्रकार पूरा ब्रह्मांड अस्तित्व में आया. चारों ओर सदा अँधेरा था और किसी चीज़ का कोई अस्तित्व नहीं था तब उसने अपनी दिव्य मुस्कान से पूरे ब्रह्मांड की रचना करती हैं. नवरात्रि पूजा का चौथा दिन अन्य दिनों की तरह ही किया जाता है, जहां कलश और भगवान गणेश की पूजा की जाती है, उसके बाद भक्तों द्वारा कुष्मांडा देवी की पूजा की जाती है. कुष्मांडा की पूजा करने के बाद चौथे दिन भक्तों को भगवान शिव और ब्रह्मा की पूजा करनी चाहिए.

मंत्र देवी कूष्माण्डायै नमः॥

माँ कुष्मांडा का चेहरा चमकदार और चमकीला है जबकि शरीर का रंग सुनहरा है. वह शेर की सवारी करती है, उनके आठ हाथ हैं, जिसमें वह शस्त्र धारण करती हैं और भक्तों को आशीर्वाद देती है. दाहिने चार हाथों में, वह कमंडल, धनुष, तीर और कमल धारण करती है, जबकि बाएं चार हाथों में, वह अमृत, माला, गदा और चक्र को धारण करती हैं. देवी की आठ भुजाएँ हैं, इसलिए इन्हें “अष्टभुजा” के नाम से भी जाना जाता है. देवी अपने हाथ में माला धारण करके भक्तों को अष्टसिद्धि और नवनिधि का आशीर्वाद देती है. वह सूर्य लोक को नियंत्रित करती है इसलिए ऐसा माना जाता है कि वह सूर्य को ऊर्जा प्रदान करती है.

मां कुष्मांडा पूजा विधि

लाल फूल मां कूष्मांडा को अत्यंत प्रिय हैं. कुष्मांडा पूजन के दौरान गुड़हल के फूल, नारियल, फल, दूध, सिंदूर और धूप चढ़ाना चाहिए, मंत्रों का जाप करके मां कुष्मांडा का आवाहन करना चाहिए. आरती करने के बाद, देवी को प्रसाद के रूप में अर्पित की गई मिठाई सभी के मध्य वितरित करनी चाहिए.

देवी कूष्मांडा सबकी मनोकामनाएं सुनती हैं और भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं. जो भक्त मां कूष्मांडा की बड़ी भक्ति से पूजा करते हैं और सभी नियम अनुष्ठान का पालन करते हैं, वह उन्हें स्वास्थ्य, धन और शांति का आशीर्वाद देती हैं. भक्त जीवन से सभी कष्टों से मुक्ति पाता है. शांति, पवित्रता और पूर्ण समर्पण के साथ कुष्मांडा पूजा करने से समस्त शुभ प्रभाव जीवन में आते हैं.

नवरात्रि मंत्र और स्तुति का चौथा दिन:

नवरात्रि के नौ दिनों के दौरान, भक्त विशेष विभिन्न मंत्रों का जाप करते हैं. नवरात्रि के चौथे दिन की देवी कुष्मांडा को प्रसन्न करने के लिए निम मंत्रों, स्तुतियों और श्लोकों का जाप करना उत्तम होता है.

कुष्मांडा मां पूजा के लिए मंत्र:

सुरासम्पूर्णकलशं रुधिरप्लुतमेव च ।
दधाना हस्तपथ्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे॥

सुरसमपूर्णाकलशम् रुधिराप्लुतमेव चा,
दधना हस्तपाध्यायं कुष्मांडा शुभदास्तु में।

देवी कुष्मांडा स्तुति:

या देवी सर्वभूतेषु माँ कूष्माण्डा रूपेण प्रतिष्ठितता।
नमस्तस्यै नमस्त्स्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

या देवी सर्वभूतेशु माँ कुष्मांडा रूपेना संस्था।
नमस्तास्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः

कुष्मांडा पूजा – ध्यान मंत्र

वन्दे वाञ्छित कामार्थ चन्द्रार्धकृतशेखरम्।
सिंहरुद्ध अष्टभुजा कूष्मांडा यशस्विनीम्॥
भास्वर भानु ग्रीम अनाहत्टाम् चतुर्थ दुर्गा त्रिनेत्रम्।
कमण्डलु, कचक, बाण, पद्म, सुधाकलश, चक्र, गदा, जपवटीधरम्॥
पटाम्बर मंच कमनीयं मृदुहास्या नालङ्कार भू चयनम्।
मन्जीर, हिरण, केयूर, किकिनि, रत्नकुंडल, मंडिताम्॥
प्रफुल्ल वदनांचरू चिबुक कांट कपालम् तुगम् कुचाम्।
कोमलाङ्गी स्मेर्स्मेक्लि श्रीकंघी नितम्बनीम्॥

Related posts

आज होती है मां कूष्मांडा की पूजा, घर में आएगी सुख-समृद्धि और शांति

कृष्ण जन्माष्टमी कब मनाई जाएगी? जानें- शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व व बधाई संदेश

छठ पूजा 2019: जानिए छठ पूजा में सूर्य उपासना और अर्घ्य देने के फायदें