कर्मचारियों के हड़ताल पर जोमैटो की सफाई- खाने की डिलिवरी को शाकाहारी-मांसाहारी में बांटना असंभव

Image default
देश-विदेश

जोमैटो द्वारा बीफ और पोर्क फुड की डिलीवरी के खिलाफ पश्चिम बंगाल के हावड़ा में जोमैटो के कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। हावड़ा में अपने फू़ड डिलीवरी करने वाले कर्मचारियों के बीफ और पोर्क की डिलीवरी के खिलाफ अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने के मामले में जोमैटो की ओर से प्रतिक्रिया आई है। जोमैटो ने कहा कि भारत जैसे डायवर्सिटी वाले देश में यह सुनिश्चित करना असंभव है कि शाकाहारी और मांसाहारी प्रेफरेंसेज को डिलीवरी लॉजिस्टिक्स में विभाजित किया जाए।

जोमैटो की ओर से कहा गया है कि खाना पहुंचाने वाले डिलिवरी पार्टनर्स को इस काम की व्यावहारिक प्रकृति समझनी होगी क्योंकि वे अपनी मर्जी से इस फील्ड में आए हैं। हमारे सभी पार्टनर्स यह बात समझते हैं। पश्चिम बंगाल के हावड़ा में एक छोटे से पार्टनर्स ग्रुप ने इस मामले पर चिंता जताई है और हम उनकी परेशानी को जल्द से जल्द सुलझा लेंगे। बता दें कि जोमैटो के फूड डिलीवरी करने वाले कर्मचारी बीफ और पोर्क की डिलीवरी के खिलाफ अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। उनका कहना है कि ऐसा करने से उनकी धार्मिक भावनाएं आहत हो रही हैं।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पश्चिम बंगाल में जोमैटे के डिलिवरी करने वाले कर्मचारी हावड़ा में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। वे सभी बीफ और पोर्क की डिलीवरी करने का विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि कंपनी उनकी मांगें नहीं सुन रही है और उन्हों बीफ और पोर्क की डिलिवरी करने के लिए मजबूर किया जा रहा है। यही वजह है कि कर्मचारी एक हफ्ते से हड़ताल पर हैं।

‘जोमैटो की दादागिरी नहीं चलेगी’ स्लोगन के बीच हावड़ा में प्रदर्शनकारियों में से एक मौसिन अख्तर ने समाचार एजेंसी एएनआई को कहा कि कंपनी हमारी मागें नहीं सुन रही है और हमें बीफ और पोर्क की जबरन डिलीवरी करने को कह रही है। हिंदुओं के साथ समस्या बीफ की डिलिवरी से है तो वहीं मुस्लिमों को पोर्क से। हम इस तरह की डिलीवरी किसी भी कीमत में नहीं कर सकते। कंपनी ने हमारे भुगतान को भी वापस ले लिया है। हम एक सप्ताह से हड़ताल पर हैं।

अन्य कर्मचारियों की तरफ से उन्होंने कंपनी से गोमांस और पोर्क पहुंचाने वाली सेवा को तुरंत बंद करने की मांग की और उनके वेतन में संशोधन की भी मांग की। एक अन्य कर्मचारी ने कहा कि कंपनी हमारी धार्मिक भावनाओं के साथ खेल रही है। कंपनी हमें धमका भी रही है। कंपनी हमें हर तरह की चीज डिलिवर करने के लिए कहती है। हम हिंदुओं को गोमांस पहुंचाने के लिए कहा गया, जबकि आने वाले दिनों में हमारे मुस्लिम भाइयों को पोर्क (सूअर) का मांस देने के लिए कहा जाएगा। यह स्वीकार्य नहीं है। हम मांग करते हैं कि कंपनी हमारी धार्मिक भावनाओं के साथ न खेले और पेआउट को भी संशोधित किया जाए।

इस बीच, इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए पश्चिम बंगाल सरकार में सिंचाई मंत्री राजीब बनर्जी ने कहा कि संगठन को किसी भी व्यक्ति को अपने धर्म के खिलाफ जाने के लिए मजबूर नहीं करना चाहिए। यह गलत है। अब जब मुझे इस संबंध में जानकारी मिली है, तो मैं इस मामले को देखूंगा,’। न्यूज़ सोर्स Live हिन्दुस्तान

Related posts

केंद्रीय इस्पात और खान मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बोकारो इस्पात संयंत्र का दौरा किया

खेल के रूप में योगासन प्रतिस्पर्धा और अनुशासन के संवर्धन को सुनिश्चित करेगा और दुनिया भर में इसका प्रसार करेगा: श्रीपद नाइक

200 स्‍पेशल ट्रेनें 1 जून 2020 से देश भर में चलेंगी