विष्णु सरवनन ने सेलिंग में दिलाया भारत को तीसरा ओलिंपिक कोटा, पहली बार एक से ज्यादा इवेंट में हिस्सा लेगा भारत

Image default
खेल समाचार

भारत के केसी गणपति (KC Ganpati) और वरुण ठक्कर (Varun Thakkar) ने टीम सेलिंग इवेंट में टोक्यो ओलिंपिक का टिकट हासिल कर लिया है. यह भारत का सेलिंग में तीसरा ओलिंपिक कोटा है. मुसानाह ओपन सेलिंग चैंपियशिप में 49er की कैटेगरी में टॉप स्थान हासिल किया. इससे पहले भारत की टॉप महिला सेलर (नाविक) नेत्रा कुमानन (Nethra Kumanan) ने इतिहास रचते हुए मुसाना ओपन चैंपियनशिप के लेसर रेडियल इवेंट में बड़ी बढ़त हासिल कर ओलिंपिक कोटा हासिल किया था.

भारत पहली बार ओलिंपिक में सेलिंग की एक से अधिक स्पर्धा में हिस्सा लेगा. नेत्रा के बाद विष्णु सरवनन ने गुरुवार को ओमान में एशियाई क्वालिफायर में दूसरे स्थान पर रहते हुए टोक्यो खेलों की लेजर एसटीडी क्लास स्पर्धा के लिए क्वालीफाई कर लिया. इससे पहले बुधवार को भारत के वरुण ठक्कर और केसी गणपत्ति की जोड़ी 49 एर क्लास में रेस-13, 14 और 15 में क्रमश: चौथे, दूसरे और तीसरे स्थान पर रहकर शीर्ष पर रही.

सरवनन ने भी हासिल किया कोटा

यह प्रतियोगिता एशियाई ओलिंपिक क्वालीफाइंग टूर्नामेंट था. बुधवार तक तीसरे स्थान पर चल रहे सरवनन ने गुरुवार को पदक रेस जीतकर कुल दूसरे स्थान के साथ ओलंपिक कोटा हासिल किया. सरवनन ने थाईलैंड के कीराती बुआलोंग को पछाड़कर ओलंपिक कोटा हासिल किया. सिंगापुर के रेयान लो जुन हान शीर्ष पर रहे. इस चैंपियनशिप के जरिए लेजर क्लास की स्पर्धा से दो सेलर को ओलिंपिक में जगह मिली थी.

पहली बार एक से अधिक इवेंट में हिस्सा लेगा भारत

इससे पहले चार मौकों पर दो भारतीय सेलर ने ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई किया है लेकिन उन्होंने समान स्पर्धा में ऐसा किया था. टोक्यो में भारत एक से अधिक इवेंट में हिस्सा लेगा. फारूख तारापोर और ध्रुव भंडारी की जोड़ी ने 1970 में 470 क्लास में हिस्सा लिया था जबकि तारापोर और कैली राव ने 1988 खेलों में इसी इवेंट में हिस्सा लिया था. तारापोर ने 1992 में बार्सिलोना में अपने तीसरे ओलिंपिक में साइरस कामा के साथ इसी इवेंट में हिस्सा लिया. मानव श्राफ और सुमित पटेल ने 2004 एथेंस ओलंपिक में 49ईआर क्लास स्किफ में भाग लिया.

Related posts

गिमिनेज के 89वें मिनट के गोल से उरुग्वे ने मिस्र को हराया

इंग्लैंड ने वेस्टइंडीज को नौ विकेट से से हराया, सीरीज पर 2-1 से किया कब्जा

रवि शास्त्री ने मैदान में उतरने के पहले ही दिखा दिया रंग, दादा की दादागीरी भी नहीं है कम