युद्ध अभ्‍यास-2019 का समापन समारोह

देश-विदेश

नई दिल्ली: अमेरिकी सेना की 5-20 इन्फैन्ट्री बटालियन और भारतीय सेना के असम रेजिमेंट के सैनिकों द्वारा ज्‍वाइंट बेस लुईस मैककॉर्ड (जेबीएलएम), वाशिंगटन में आयोजित युद्ध अभ्‍यास- 2019 का 18 सितंबर 2019 को समापन हुआ। ।

युद्ध अभ्‍यास – 2019 अमेरिका और भारतीय सेना की साझेदारी को मजबूत बनाने के लिए अमेरिकी सेना प्रशांत द्वारा प्रायोजित थियेटर सिक्‍योरिटी कोऑपरेशन प्रोग्राम के तहत एक वार्षिक द्विपक्षीय अभ्यास है। इस प्रशिक्षण में किसी शहरी वातावरण में आतंकवाद रोधी और विद्रोह रोकने अभियानों में शामिल विशेष ड्रिलों और प्रक्रियाओं पर ध्‍यान केंद्रित किया गया। त्वरित प्रतिक्रिया के लिए टीमों को हेलीकाप्टर द्वारा भेजा गया। क्षेत्र प्रशिक्षण के शुरुआती दिनों में बुनियादी युद्धाभ्यासों के बारे में प्‍लाटून स्तर का प्रशिक्षण शामिल है, जो बाद में कंपनी स्तर के परिचालनों की तरफ आगे बढ़ता है।

      सैनिकों को प्‍लाटून  स्‍तर की टीमों में गठित किया गया। प्रत्‍येक टीम ने शहर के एक इलाके का नियंत्रण बनाये रखने की दिशा में या सिएटल टाउन में शहरी वातावरण में दुश्मन के ठिकानों पर हमले का परिचालन किया। सिएटल टाउन, संभावित तैनाती का परिदृश्य जुटाने के लिए प्रयोग किये जाने वाला एक नकली शहर है। सैनिकों ने दुश्‍मन के खतरों से सफलतापूर्वक निपटने के लिए जरूरी सबक शामिल करते हुए तैयार की गई नीतिगत प्रक्रियाओं को सीखा। दोनों सेनाओं ने प्‍लाटून  और कंपनी स्‍तर पर आयोजित परिचालनों में एक-दूसरे की विशेषज्ञता और अनुभव से लाभ उठाया। इसके अलावा भारतीय दस्‍ते को ‘स्ट्राइकर’ इन्फैंट्री कॉम्बैट व्हीकल पर काम करने का पहला अनुभव प्राप्‍त हुआ और अमेरिकी सेना ने पहाड़ी इलाकों में इन्फैंट्री यूनिट में प्रशिक्षण का लाभ उठाया। इस प्रशिक्षण में क्रिकेट और फुटबॉल के खेल भी शामिल रहे। समापन समारोह में पिछले  दो सप्ताह की कार्रवाई के उपलक्ष्‍य में  दोनों देशों के बीच उत्कर्ष साझेदारी का भी प्रदर्शन किया गया।

Related posts

दिव्यांग सशक्तिकरण विभाग की सचिव ने मध्य प्रदेश के सीहोर में राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य पुनर्वास संस्थान की आधारशिला रखी

श्री राधा मोहन सिंह ने पटना में किसान गोष्ठी सह प्रक्षेत्र भ्रमण मे किसानों को सम्बोधित किया

मंत्रिमंडल ने ‘जम्‍मू और कश्‍मीर के लिए विशेष उद्योग पहल’’ योजना – उड़ान (एसआईआईजे एण्‍ड के) की समयावधि के विस्‍तार को मंजूरी दी