सोनप्रयाग में आयोजित विभिन्न विकास योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास कार्यक्रम के अवसर पर जनता से भेंट करते हुएः मुख्यमंत्री श्री रावत जी

Image default
उत्तराखंड
सोनप्रयाग: श्री केदारनाथ, भीमबली, गौरीकुंड एवं सोनप्रयाग में कुल 18409.27 लाख रूपये की विभिन्न विकास योजनाओं का लोकार्पण व

शिलान्यास किया गया। इनमें 418.97 लाख रूपये की योजनाओं का लोकार्पण व 17,990.30 लाख रूपये की योजनाओं का शिलान्यास किया गया।
मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सोनप्रयाग में आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण के अन्तर्गत के विभिन्न विकास योजनाओं का शिलान्यास किया और दैवीय आपदा से प्रभावित 21 तीर्थ पुरोहितों को एक एक लाख रूपये की धनराशि के चैक तथा घोडे-खच्चर, डण्डी-कण्डी का संचालन करने वाले पूर्व में छूटे हुए 23 मजदूरों को 10-10 हजार रूपये की धनराशि के चैक भी वितरित किये।
सोनप्रयाग में आयोजित विभिन्न विकास योजनाओं के शिलान्यास के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि सीतापुर से केदारपुरी तक यात्रा मार्ग को पहले से सुरक्षित एंव सुगम बनाने का प्रयास किया जा रहा है। कहा कि धीरे-धीरे सीतापुर एवं सोनप्रयाग को व्यावसायिक केन्द्र के रूप् में विकसित किया जायेगा और विदेशी तकनीकी का प्रयोग कर क्षेत्र में पुनर्निर्माण कार्य किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि बाहर से आने वाले लोग भी यहां के कार्यो की प्रशंसा कर रहे है तथा आने वाले दो वर्षो में केदारपुरी अपने नये स्वरूप में विकसित हो जायेगी। उन्होंने कहा कि केदारपुरी में सुरक्षित बुनियाद डाल दी गई है और मंदाकिनी एवं सरस्वती नदी पर घाट निर्माण का कार्य भी किया जा रहा है। कहा कि भीमवली में पहले से ही कार्य शुरू कर दिये गये थे और रामवाडा को स्मृति स्थल के रूप में तथा लिंचैली को वैकल्पिक रामवाडा के रूप में विकसित किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा सर्वप्रथम केदारघाटी की सड़कों को ठीक करने का लक्ष्य तय किया गया था। उन्होंने कहा कि पुर्ननिर्माण कार्यो में जो भी धनराशि व्यय की गई है वह लोगों की खुशाली वापस लाने के लिये की गई है। सरकार की कोशिश है कि इस क्षेत्र को ऐसी सुविधाओं से लैस किया जायेगा जिससे अधिक से अधिक यात्री यहां आ सके तथा यहां की आर्थिकी मजबूत हो सके।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री द्वारा सोनप्रयाग में सीतापुर पार्किग हेतु नये पहुॅच मार्ग पर पाती गधेरे के ऊपर 48.00 मीटर स्पान के स्टील गर्डर पुल के निर्माण कार्य लागत रूपये 208.71 लाख, सीतापुर पार्किग हेतु नये पहॅुच मार्ग के प्रारम्भ में क्षतिग्रस्त दीवारों के पुनर्निर्माण सहित सी0सी0 कार्य एवं वर्षा जल निकास के निर्माण कार्य लागत रूपये 383.85 लाख, सोनप्रयाग-गौरीकुण्ड राष्ट्रीय राजमार्ग में दैवीय आपदा से विकसित क्रोनिक स्लाइड जोन के स्टेबलाइजेशन कार्य लागत रूपये 1490.65 लाख, सीतापुर में वित्त पोषित बस टर्मिनल एवं यात्री सुविधाओं के निर्माण कार्य लागत रूपये 1771.01 लाख, सीतापुर में आपदा प्रभावित व्यवसायियों के पुनर्वास तथा यात्रियों की सुविधा हेतु शाॅंपिग काॅम्पलेक्स का निर्माण लागत रूपये 1532.21 लाख, सोनप्रयाग में वित्त पोषित मल्टीलेवल पार्किंग के साथ हैलीपैण्ड, डी.डी.एम.ए. एस.डी.आर.एफ कार्यालय एवं पर्यटक स्वागत केन्द्र के निर्माण कार्य लागत रूपये 5470.34 लाख, तथा सीतापुर में वित्त पोषित यात्री सुविधायें एवं बस टर्मिनल के विस्तारीकरण का कार्य लागत रूपये 4161.09 लाख कार्यो का शिलान्यास किया गया।
उन्होंने इस अवसर पर दैवीय आपदा से प्रभावित हुए 21 तीर्थ पुरोहितों को राहत सहायता के रूप में 1-1 लाख रूपये के चैक वितरित किये साथ ही केदारनाथ यात्रा मार्ग पर घोडा-खच्चर,  डण्डी-कण्डी का संचालन करने वाले पूर्व में छूटे गये मजदूरो को 10-10 हजार रूपये के चैक भी वितरित किये। वहीं मुख्यमंत्री द्वारा स्थानीय फसल उत्पादन प्रोत्साहन कार्यक्रम के तहत जिले के 06 कृषक हित समूह को मडुवा उत्पादन बोनस के रूप में कुल 6 लाख 4 हजार 2 सौ 36 रूपये के चैक भी वितरित किये गये। इस अवसर पर उन्होंने त्रियुगीनारायण मंदिर के सौन्दर्यीकरण के लिये 5 लाख रूपये, चैंरा विद्यालय का उच्चीकरण, तत्ला नागपुर क्षेत्र में उप तहसील व पुलिस चैकी की घोषणा भी की।
इस अवसर पर विधायक केदारनाथ एवं संसदीय सचिव श्रीमति शैलारानी रावत ने तीर्थ पुरोहितों एवं छूटे हुए मजदूरों को सहायता राशि प्रदान करने पर मुख्यमंत्री का धन्यवाद करते हुए कहा कि सरकार द्वारा तय किया मुआवजा वितरित किया जा रहा है। उन्होंने मुख्यमंत्री से कहा कि आपदा के दौरान अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने रात दिन एक कर कार्य किया है,जिसके लिये विभागों से सूची मांग कर उन्हें शासन स्तर पर सम्मानित करने की मांग भी की।
इस अवसर पर मुख्य प्रधान सचिव राकेश शर्मा, जिला अध्यक्ष कांगे्रस प्रदीप थपलियाल, जिला निर्माण सलाहकार समिति उपाध्यक्ष सूरज नेगी, जिला ंपचायत सदस्य संगीता नेगी, विधायक प्रतिनिधि विक्रम नेगी, प्रधान त्रियुगीनारायण शशि देवी सहित बडी संख्या में क्षेत्रीय जनता एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।
इससे पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सोनगंगा पर पीआईयू, विश्व बैंक द्वारा सिविल कार्य इकाई डीडीएमए के माध्यम से विदेशी तकनीकी पर आधारित एक्रो ब्रिज का भी निरीक्षण किया। केदारनाथ में मौसम खराब होने के चलते केदारनाथ धाम में 120 काॅटेज निर्माण कार्य का शिलान्यास, भीमबली में हैलीपैड, सेतु, पैदल मार्ग, गौरीकुण्ड में हैलीपैड का लोकार्पण गढ़वाल मण्डल आयुक्त सीएस नपलच्याल एवं जिलाधिकारी डाॅ राघव लंगर द्वारा किया गया।

Related posts

उद्यमिता एवं रोजगार की ओर उत्तराखण्ड कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुएः मंत्री मदन कौशिक

सचिवालय बैडमिंटन क्लब द्वारा आयोजित अन्र्तविभागीय बैडमिंटन प्रतियोगिता में शाॅट खेलकर प्रतियोगिता का शुभारम्भ करते हुएः मुख्यमंत्री श्री रावत

सितारों के साथ मिलकर गेल का वायु प्रदूषण के खिलाफ जंग

Leave a Comment