र्किट हाउस हल्द्वानी में अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के साथ बेमौसम बारिश व आंधी व तूफान से हुए नुकसान की समीक्षा करते हुएः मुख्यमंत्री

Image default
उत्तराखंड
हल्द्वानी/देहरादून: मुख्यमंत्री हरीश रावत ने शुक्रवार को सर्किट हाउस हल्द्वानी में अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के साथ बेमौसम बारिश से पूर्व में तथा वृहस्पतिवार की रात को आयी आंधी व तूफान से हुए नुकसान की समीक्षा की।

सर्किट हाउस सभागार में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि सरकार द्वारा प्रदेश के काश्तकारों को ओला वृष्टि और बरसात के कारण हुयी फसलो की बरबादी और तवाही को मध्यनजर रखते हुये फौरीतौर पर एक हजार रूपये की आर्थिक सहायता दी जा रही है। उन्हांेने कहा कि फसलों के साथ ही किसानो की मेहनत से तैयार सब्जियंा और फसलें बडी मात्रा मे तबाह हुयी है। उन्होंने बैठक में सभी की बात सुनने के बाद निर्यण लिया कि पूर्व मे सरकार द्वारा जारी राहत राशि के अलावा 25 करोड की अतिरिक्त धनराशि किसानों के हित में जारी की जायेगी। उन्होंने कहा कि 15 करोड की धनराशि उद्यान विभाग को दी जायेगी, जिससे वर्तमान बुवाई सीजन के लिए तत्काल बीजों की व्यवस्था मिनी किटो के माध्यम से की जायेगी। इसके अलावा 10 करोड रूपये कृषि विभाग को अतिरिक्त दिया जा रहा है, जिससे बीजो की व्यवस्था की जायेगी। उन्हांेने कहा कि वर्तमान मंे प्रदेश के तराई भावर एव पर्वतीय क्षेत्रों मे सब्जियों एवं फसलो की बुवाई होनी ह,ै इस धनराशि से धान, मक्का, सोयाबीन, उडद, राजमा, फ्रासबीन, हल्दी, अदरख, मडुआ आदि के बीज क्रय कर किसानो को वितरित किये जाए।
मुख्यमंत्री श्री रावत ने दूरभाष पर मुख्य सचिव एन रवि श्ंाकर, अपर मुख्य सचिव राकेश शर्मा तथा निदेशक कृषि चन्दन सिह मेहरा को निर्देश दिये कि उपलब्ध करायी जा रही 25 करोड की धनराशि से पन्तनगर विश्वविद्यालय, टीडीसी हल्दी व अन्य जगहों से उत्तम प्रजाति के बीजो की व्यवस्था कर काश्तकारों को निशुल्क वितरण सुनिश्चिित करायंे। उन्होंने कहा कि बीजो के वितरण की व्यवस्था के लिए नोडल अधिकारी सम्बन्धित मंडल के आयुक्त होंगे। इसके साथ ही जनपद के प्रभारी मंत्री एवं प्रभारी सचिव भी जनपदों का भ्रमण कर बीज वितरण की कार्यवाही का अनुश्रवण करंेगे।
मुख्यमंत्री श्री रावत ने जिलाधिकारी दीपक रावत को निर्देश दिये कि वह आंधी तूफान मे बर्बाद हुये पाॅली हाउसो को राजस्व कर्मीयों एवं उद्यान विभाग के कर्मचारियो से संयुक्त सर्वे कराकर उसका प्रस्ताव शासन को भेजे ताकि पाॅलीहाउस के माध्यम से खेती करने वाले किसानो को भी आर्थिक मदद दी जा सके। श्री रावत ने कहा कि पिथौरागढ एवं उत्तकाशी जनपदों के किसानो को मंडुवे का बीज भी उपलब्ध कराया जाए।
जिलाधिकारी दीपक रावत ने बताया कि जनपद के 16 हजार हेक्टेयर में उद्यान क्षेत्र है, जिसमें फलो एव सब्जियांे की खेती की जाती है। उन्हांेने बताया कि शासन से प्राप्त एक करोड की धनराशि का शतप्रतिशत  वितरण मानको के अनुसार 9 हजार 6 सौ किसानो को कर दिया गया है। आर्थिक सहायता देने के लिए 14 करेाड अतिरिक्त धनराशि की आवश्यकता है। नैनीताल जिले में लगभग 66 हजार किसान ओल वृष्टि, आधी तूफान तथा बारिश से प्रभावित हुये है। उन्होंने बताया कि पाॅलीहाउस के किसानो को सहायता देने के लिए 16 लाख का प्रस्ताव शासन को भेजा जा चुका है।
बैठक मे वित्तमंत्री डा0 श्रीमती इन्दिरा हृदयेश, संसदीय सचिव सरिता आर्य, विधायक रेखा आर्य, अध्यक्ष आपदा प्रबन्धन प्रयाग दत्त भटट, सदस्य मलिन बस्ती सुधार खजान पाण्डे, ब्लाक प्रमुख आनन्द आर्य, अध्यक्ष मंडी समिति सुमित हृदयेश सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

Related posts

71वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर विभिन्न जनपदों में प्रभारी मंत्री एवं जिलाधिकारी द्वारा ध्वाजारोहण किया

अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस की तैयारियों के संबंध में बैठक करते हुएः मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह

उच्च शिक्षा विभाग में राजकीय महाविद्यालयों के प्राचार्यों एवं शासन के अधिकारियों के साथ बैठक करते हुएः डाॅ0 इन्दिरा हृदयेश

Leave a Comment