अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार से सम्मानित करते हुएः मुख्यमंत्री अखिलेश यादव

उत्तर प्रदेश
लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने अगले वर्ष से उत्कृष्ट कार्य करने वाली 100 महिला ग्राम प्रधानों को

प्रतिवर्ष 01 लाख रुपये के रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार से सम्मानित करने की घोषणा की। उन्होंने पूर्वांचल, बुन्देलखण्ड एवं तराई क्षेत्र के पिछड़े जनपदों सोनभद्र, सिद्धार्थनगर, श्रावस्ती, सन्तरविदास नगर, सन्तकबीर नगर, मिजऱ्ापुर, मऊ, महोबा, महराजगंज, ललितपुर, गोंडा, कुशीनगर, कौशाम्बी, झांसी, जौनपुर, जालौन, हमीरपुर, देवरिया, चित्रकूट, चन्दौली, बस्ती, बदायूं, बलिया, सीतापुर तथा बांदा जनपदों में प्रदेश की महिलाओं/बालिकाओं को आर्थिक रूप से स्वावलम्बी बनाने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश महिला कल्याण निगम द्वारा उत्तर प्रदेश कौशल विकास मिशन के संयुक्त तत्वावधान में कौशल विकास केन्द्रों की स्थापना की भी घोषणा की। उन्होंने गोमतीनगर लखनऊ स्थित वूमेन पावर लाइन चैराहे से ताज होटल की ओर जाने वाली सड़क का नाम ‘महिला आशा ज्योति लेन’ करने की भी घोषणा की।
श्री यादव ने लखनऊ तथा इलाहाबाद विश्वविद्यालय में अध्ययनरत छात्रों को जे0एन0एन0यू0आर0एम0 की बसों में निःशुल्क यात्रा की सुविधा प्रदान करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि इस सुविधा का लाभ लेने के लिए छात्रों को लखनऊ में लखनऊ विश्वविद्यालय एवं इलाहाबाद में इलाहाबाद विश्वविद्यालय का परिचय पत्र परिचालक को दिखाना आवश्यक होगा।
मुख्यमंत्री ने यह घोषणाएं आज यहां नवीन जनता दर्शन हाॅल 5, कालिदास मार्ग पर अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर आयोजित रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार वितरण, रानी लक्ष्मीबाई आशा ज्योति केन्द्रों के शिलान्यास, आशा ज्योति कौशल विकास केन्द्रों के संचालन, ‘181’ महिला आशा ज्योति लाइन की लाॅंन्चिंग तथा एसिड अटैक सर्वाइवर्स को राहत अनुदान वितरण कार्यक्रम के दौरान कीं। इस अवसर पर उन्होंने एसिड अटैक सर्वाइवर्स के पुनर्वासन एवं गरिमामयी जीवन हेतु संचालित ‘शीरोज़ हैंगआउट’ के लखनऊ स्थित कैफे का शुभारम्भ करने के साथ-साथ आॅनलाइन महिला रेडियो स्टेशन ‘रेडियो मेरी जि़न्दगी’ तथा ‘मेरी जि़न्दगी फीमेल राॅकबैण्ड’ की सीडी का विमोचन भी किया। उन्होंने महिला सहायता समूह कानपुर द्वारा संचालित आशा ज्योति कैण्टीन का भी शुभारम्भ किया।
इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की समाजवादी सरकार महिलाओं के उत्थान तथा उनके सशक्तीकरण के लिए कटिबद्ध है। इसके लिए राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में कई योजनाएं चलायी जा रही हैं। महिलाएं हमारे प्रदेश की जनसंख्या का आधा भाग हैं, ऐसे में उन्हें अनदेखा नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि जो समाज महिलाओं की अनदेखी करता है वह उन्नति नहीं कर सकता। महिलाओं की सुरक्षा एवं उनका सम्मान अत्यन्त आवश्यक है, इसलिए राज्य सरकार इन पर अपना ध्यान केन्द्रित कर रही है। उन्होंने कहा कि समाजवादी सदैव महिलाओं का सम्मान करते हैं, इसलिए महिलाओं की समस्याओं का हर हाल में समाधान किया जाएगा। प्रदेश के विकास में महिलाओं की भागीदारी आवश्यक है क्योंकि उनके विकास के बगैर प्रदेश की प्रगति सम्भव नहीं है।
श्री यादव ने अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर सभी महिलाओं का स्वागत करते हुए कहा कि आज पूरे विश्व में महिला दिवस मनाया जा रहा है। सभी महिलाओं की अपनी-अपनी संघर्षगाथा है, जिससे हम सबको प्रेरणा मिलती है। उन्होंने कहा कि सरकार महिलाओं की हर सम्भव मदद करेगी और उनके सम्मान की रक्षा करेगी। उन्होंने आशा व्यक्त की कि आज इस कार्यक्रम में पुरस्कृत महिलाओं की उपलब्धियों से अन्य महिलाएं भी प्रेरित होंगी। उन्होंने बाधाओं को साहस के साथ पार कर आगे बढ़ने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि राज्य की समाजवादी सरकार ने महिलाओं का सम्मान करने की शुरुआत की।
कार्यक्रम को महिला कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्रीमती सैय्यदा शादाब फातिमा ने भी सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार महिलाओं की हर सम्भव मदद कर रही है। इसके लिए रानी लक्ष्मीबाई महिला सम्मान कोष स्थापित किया जा चुका है, जिससे जरूरतमन्द महिलाओं की मदद की जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार एसिड अटैक पीडि़तों की हर सम्भव सहायता कर रही है। उन्हें निःशुल्क चिकित्सीय सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जा रही हैं।
कार्यक्रम को कन्नौज की सांसद श्रीमती डिम्पल यादव ने भी सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि खुशहाल समाज के निर्माण के लिए महिलाओं का विकास एवं उनकी समृद्धि आवश्यक है। राज्य की समाजवादी सरकार महिलाओं की सुरक्षा, शिक्षा एवं स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दे रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा महिला सशक्तीकरण के लिए सारे प्रयास किए जा रहे हैं। न्यू जनता दर्शन हाॅल में आयोजित कार्यक्रम के उपरान्त दौरान कन्नौज की सांसद ने आशा ज्योति केन्द्रों को उपलब्ध कराई गई 11 रेस्क्यू वैनों को झण्डा दिखाकर रवाना किया। उन्होंने घरेलू हिंसा की शिकार 7 गरीब महिलाओं को उपलब्ध कराए गए निःशुल्क ई-रिक्शा का भी फ्लैगआॅफ किया। साथ ही, महिला समाख्या द्वारा निकाली गई साइकिल रैली को भी उन्होंने झण्डा दिखाकर रवाना किया।
मुख्यमंत्री ने जिन महिलाओं को रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया उनमें सुश्री अरुणिमा सिन्हा, दिव्यांग पर्वतारोही, अम्बेडकर नगर, श्रीमती भारती गांधी, संस्थापिका, सी0एम0एस0, लखनऊ, सुश्री जुलियट चाॅपिन, फ्रांसीसी महिला, सुश्री शारलेट हिन्ड्रू, फ्रांसीसी महिला, सुश्री कैरोलीन फार्चूनेटो, फ्रांसीसी महिला, सुश्री जूलियेट फिनेट, फ्रांसीसी महिला, सुश्री अनहिता श्री प्रसाद, चेन्नई, सुश्री निधि तिवारी, बंगलुरू, कु0 पलक कालिया, गाजियाबाद, सुश्री जीनत आरा, नोएडा (गौतमबुद्ध नगर), गुडि़या संस्था, वाराणसी, वात्सल्य संस्था, लखनऊ शामिल हैं।
इसके अलावा पाणिनी संस्था, वाराणसी, खबर लहरिया (साप्ताहिक समाचार-पत्र) चित्रकूट, कु0 वर्तिका सिंह, रनरअप विजेता, मिस वल्र्ड, 2015 लखनऊ, सुश्री रूमा यादव, पुलिस उपनिरीक्षक, लखनऊ, सुश्री उमा शर्मा, हेड कान्सटेबल, लखनऊ, सुश्री डिम्पी तिवारी, रायबरेली, सुश्री सोनल सिंहल, हापुड़, सुश्री अंशिका, लखनऊ, सुश्री रिदा जेहरा, मेरठ, सुश्री रेखा रानी, मैनपुरी, सुश्री रेनू गुप्ता, इटावा, श्रीमती आरती राना, लखीमपुर खीरी, कु0 स्थवी अस्थाना, लखनऊ, श्रीमती बदुरून्निसा हुसैन, मिर्जापुर, कु0 नाजिया, आगरा को सम्मानित किया गया।
इसके अतिरिक्त कु0 शिवानी, कानपुर, श्रीमती आरती, लखनऊ, कु0 किरण, लखनऊ, सुश्री शीलू सिंह राजपूत, रायबेरली, श्रीमती गुडि़या, कानपुर, सुश्री मोहिनी आजाद, गांेडा, सुश्री रूबी सिंह, प्रतापगढ़, सुश्री रेखा, बहराइच, सुश्री गुलैचा, बहराइच, सुश्री माधुरी सिंह वाराणसी, सुश्री माधुरी शर्मा, मथुरा, सुश्री निदा रिजवी, लखनऊ, सुश्री ऊषा विश्वकर्मा, रेड ब्रिगेड समूह, सुश्री गुडि़या, कानपुर देहात, सुश्री रचना, ललितपुर, सुश्री जेबा आफताब, आंगनबाड़ी कार्यकत्री, मैनपुरी, श्रीमती श्रीकुंवारी, आशा, झांसी, श्रीमती पार्वती, उ0प्र0 राज्य आजीविका मिशन, हरदोई को सम्मानित किया गया।
इसके अलावा सुश्री तूलिका रानी (पर्वतारोही), लखनऊ, डाॅ0 सरिता सक्सेना, चिकित्सा अधीक्षक (महिला) राममनोहर लोहिया हाॅस्पिटल, लखनऊ, सुश्री अमृता दोकानिया (छात्रा), आई0आई0एम0, अहमदाबाद, सुश्री मेघा गंगवार (छात्रा), गौतमबुद्ध विश्वविद्यालय, नोएडा, सुश्री जया सिंह (छात्रा), डाॅ0 शकुन्तला मिश्रा पुनर्वास विश्वविद्यालय, लखनऊ, सुश्री अंजलि सिंह (छात्रा), वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय, जौनपुर को सम्मानित किया गया।
इसी के साथ रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार के लिए सुश्री निशा गांगेय (छात्रा), डाॅ0 भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय, आगरा, सुश्री अनीता यादव, काॅन्सटेबल, आगरा, सुश्री रीना एस0 पासी, अक्षर फाउन्डेशन, गाजीपुर, सुश्री रिचा सिंह, अध्यक्ष, इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्र संघ, इलाहाबाद, सुश्री नाहिला किदवई, पत्रकार, सुश्री नीलम रोमिला सिंह, कानपुर को भी सम्मानित किया गया।
इसके अलावा श्रीमती यशोधरा, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, जंगल, सखनी, गोरखपुर, श्रीमती उर्मिला, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, करमौरा, गोरखपुर, श्रीमती कलामी, ग्राम प्रधान ग्राम पंचायत सकरादा, मऊ, श्रीमती चन्द्रवती, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, जिठानिया, सारिक, रामपुर, श्रीमती रीता, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, अतिकुल्लापुर, मैनपुरी, श्रीमती कुसुमलता, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, हलपुरा, मैनपुरी, श्रीमती विनीता यादव, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, लहर, बरेली सम्मानित किया गया।
इसके अतिरिक्त श्रीमती सलीमन, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, पैगूपुरा, रामपुर, श्रीमती रेशमा सुमन, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, बसारतपुर, मिर्जापुर, श्रीमती विमला यादव, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, हसनपुर जलालपुर, अम्बेडकर नगर, श्रीमती, रेखा देवी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, बसखारी, अम्बेडकर नगर, श्रीमती लीला देवी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत सफा, झांसी, श्रीमती इन्द्रावती, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, पकरी भोजपुर, अम्बेडकर नगर, श्रीमती कलावती देवी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, मवैया, मिर्जापुर, श्रीमती उर्मिला, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, अधमपुरा, मिर्जापुर को सम्मानित किया गया।
इसके अलावा श्रीमती धीराजी देवी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, बछैयीपुर, सन्तकबीर नगर, श्रीमती पूनम पाण्डेय, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, गौरदीह, सन्तकबीरनगर, श्रीमती आशा देवी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, शिवबखारी, सन्तकबीर नगर, श्रीमती मालती देवी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, समुग्रा, वाराणसी, श्रीमती सुशीला देवी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, इलर-रसूलाबाद, मुरादाबाद, श्रीमती कस्तूरी देवी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, खजुराहाखुर्द, झांसी, श्रीमती शाहजहाॅ बेगम, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, लक्ष्मीपुरकट्टई, मुरादाबाद को सम्मानित किया गया।
इसके अतिरिक्त श्रीमती सिताबो, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, लडौरा, नरैनपुर, रामपुर, श्रीमती चन्द्रावती देवी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, एकडंगा, देवरिया, श्रीमती मालती देवी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, निदुरा, कौशाम्बी, श्रीमती गीता देवी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, सिरौली, गाजियाबाद, श्रीमती, वन्दना सिंह मौर्या, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, बरीयावान, कौशाम्बी, श्रीमती विमला, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, चुरहानवदीया, बरेली, श्रीमती प्रभावती, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, परसवा महोला, फैजाबाद, श्रीमती अनारकली, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, अन्धवा, कौशाम्बी को सम्मानित किया गया।
साथ ही, श्रीमती दुर्गावती ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, मझाकाजीपुर, फैजाबाद, श्रीमती सुधा, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, बिलासपुर, मुजफ्फरनगर, श्रीमती पूनमबाला, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, पौसरा, फैजाबाद, श्रीमती इलायची देवी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, बचगंजपुर, महराजगंज, श्रीमती राजकुमारी ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, मस्तीपुर, कासगंज, श्रीमती सुमित्रा देवी, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, धनकौर, सोनभद्र, श्रीमती वहीदुन्निसा, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, भंगुरा, सन्तकबीर नगर, श्रीमती संगीता, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, तारापुर, फैजाबाद, श्रीमती कमलावती, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, भटौली, गाजीपुर, श्रीमती व्यन्त कौर, ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत, चन्दीला, रामपुर को रानी लक्ष्मीबाई वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
इस मौके पर मुख्यमंत्री ने एसिड अटैक पीडि़ताओं – श्रीमती फरहा बेगम (फर्रुखाबाद, 5 लाख रु0), श्रीमती सोनिया चैधरी (गाजियाबाद, 5 लाख रु0), श्रीमती साईना परवीन (गाजियाबाद, 5 लाख रु0), स्व0 श्रीमती सुनीता पत्नी श्री गुड्डू निवासी ठकुरनपुरवा (लखीमपुर खीरी, 10 लाख रु0), सुश्री शिल्पा, पुत्री श्री गुड्डू (लखीमपुर खीरी, 5 लाख रु0), सुश्री पूनम देवी (उन्नाव, 5 लाख रु0), सुश्री शालिनी (बिजनौर, 5 लाख रु0), सुश्री बाला (बिजनौर, 5 लाख रु0), श्रीमती रजिया बानो (कन्नौज, 3 लाख रु0), सुश्री सबीना (शाहजहांपुर, 5 लाख रु0), सुश्री पूजा (बस्ती, 5 लाख रु0) तथा श्रीमती लक्ष्मी सैनी (मथुरा, 3 लाख रु0) को आर्थिक सहायता प्रदान की।
इसके अलावा एसिड अटैक पीडि़ता श्रीमती वसीमा (फतेहपुर, 5 लाख रु0), सुश्री जूली (फतेहपुर, 5 लाख रु0), सुश्री कुसुमा देवी (फतेहपुर, 4 लाख 50 हजार रु0), सुश्री रूपा (शामली, 5 लाख रु0), सुश्री तराना (आगरा, 5 लाख रु0), सुश्री नरगिस (आगरा, 2 लाख 01 हजार रु0), सुश्री आरती श्रीवास्तव (कानपुर नगर, 2 लाख 50 हजार रु0), सुश्री राजनिता (मेरठ, 5 लाख रु0), सुश्री गीता रानी (मेरठ, 5 लाख रु0), सुश्री गीता (आगरा, 5 लाख रु0), सुश्री नीतू (आगरा, 5 लाख रु0), श्रीमती विमला देवी (रायबरेली, 2 लाख 25 हजार रु0) को भी आर्थिक सहायता प्रदान की गई।
इसके अतिरिक्त एसिड अटैक पीडि़ता श्रीमती ऊषा शर्मा (मुजफ्फरनगर, 5 लाख रु0), मीना सोनी (लखनऊ, 3 लाख रु0), सुश्री कविता (लखनऊ, 5 लाख रु0), श्रीमती रूखसाना उर्फ कल्लो (मथुरा, 3 लाख रु0), श्रीमती माधुरी (जौनपुर, 2 लाख 1 हजार रु0), श्रीमती जावित्री (जौनपुर, 3 लाख रु0), सुश्री सन्नो सोनकर (जौनपुर, 2 लाख रु0), श्रीमती मालती देवी (रायबरेली, 5 लाख रु0), श्रीमती बिन्दा देवी (रायबरेली, 5 लाख रु0), श्रीमती रश्मि जायसवाल (गाजीपुर, 5 लाख रु0), सुश्री अंशू (बिजनौर, 2 लाख रु0), श्रीमती पानमती (सोनभद्र, 5 लाख रु0) को आर्थिक सहायता मुहैया कराई गई।
इसके साथ ही, श्री यादव ने एसिड अटैक पीडि़त स्व0 श्रीमती अशकारा (पीलीभीत, 7 लाख रु0), श्रीमती सविता (गाजियाबाद, 5 लाख रु0), श्रीमती हुस्नआरा (मुजफ्फरनगर, 4 लाख 75 हजार रु0) तथा श्रीमती दीप माला तिवारी (श्रावस्ती, 2 लाख रु0) को भी आर्थिक सहायता प्रदान की गई।

Related posts

सफलता की कहानी -40, तेजी से शुरू हुआ वैक्सीन का घरेलू उत्पादन

प्रदेश सरकार लोगों को बेहतर परिवहन सुविधा देने के लिए कृतसंकल्पित: मुख्यमंत्री

विकास अपने साथ रोजगार एवं ढेर सारी सम्भावनाओं को लेकर आता: मुख्यमंत्री

2 comments

Leave a Comment