आवास दिवस और आवास सप्ताह का आयोजन किया गया

Image default
देश-विदेश

‘‘आवास दिवस’’ समारोह के अवसर पर भारत सरकार में ग्रामीण विकास, पंचायत राज, कृषि और किसान कल्‍याण तथा खाद्य प्रसंस्‍करण मंत्री श्री नरेन्‍द्र सिंह तोमर ने वीडियो कॉन्‍फ्रेंस के माध्‍यम से राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों के ग्रामीण विकास मंत्रियों तथा अधिकारियों के साथ विचार-विमर्श किया। सम्मेलन के दौरान केंद्रीय मंत्री ने ग्रामीण परिवारों को मकान उपलब्‍ध कराकर ‘‘सभी के लिए आवास’’ के महान लक्ष्‍य की पूर्ति की दिशा में राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों को उनके योगदान के लिए उन्‍हें बधाई दी। श्री तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना – ग्रामीण (पीएमएवाई-जी) का लक्ष्य केवल लाभार्थियों को केवल मकान उपलब्‍ध कराना ही नहीं है बल्कि उनके मान-सम्‍मान की रक्षा करना भी है। जीवन स्‍तर में इस सुधार से लाभार्थियों के कल्‍याण पर अतिरिक्‍त सकारात्‍मक प्रभाव पड़ता है। उन्होंने कहा कि आवास दिवस/आवास सप्‍ताह किसी योजना की स्‍मृति में मनाया जाने वाला दिन ही नहीं है बल्कि इस योजना से अत्‍यधिक लाभान्वित और इस योजना का फायदा पाने के लिए स्‍थायी प्रतीक्षा सूची (पीडब्‍ल्‍यूएल) में शामिल करोड़ों ग्रामीण परिवारों को जोड़ने वाला दिन भी है। इसके अतिरिक्‍त यह आयोजन सभी हितधारकों के बीच इस योजना के विषय में जागरूकता बढ़ाने का अवसर भी है। कई राज्यों के ग्रामीण विकास मंत्रियों ने 2022 तक ‘सभी के लिए आवास उपलब्ध कराने’ के लक्ष्य को हासिल करने की प्रतिबद्धता व्यक्त की, साथ ही इस लक्ष्य की प्राप्ति में सामने आने वाली बाधाओं और समस्याओं पर भी अपने विचार व्यक्त किए।

ग्रामीण विकास मंत्रालय में राज्‍य मंत्री साध्‍वी निरंजन ज्‍योति, ग्रामीण विकास विभाग के सचिव श्री नागेन्‍द्र नाथ सिन्‍हा, अपर सचिव (ग्रामीण विकास) सुश्री अल्‍का उपाध्‍याय, उप-महानिदेशक (ग्रामीण आवास) श्री गया प्रसाद और ग्रामीण विकास मंत्रालय के अन्‍य अधिकारी भी इस सम्मलेन में उपस्थित थे। इस अवसर पर सोलह राज्यों के ग्रामीण विकास और पंचायतीराज विभागों के माननीय मंत्री तथा राज्यों के सचिव आदि भी उपस्थित थे।

प्रधानमंत्री आवास योजना – ग्रामीण (पीएमएवाई-जी) नामक ग्रामीण आवास योजना का शुभारंभ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्‍तर प्रदेश के आगरा में 20 नवंबर 2016 को किया था। वर्ष 2022 तक ‘‘सभी के लिए आवास’’ उपलब्‍ध कराने के उद्देश्‍य से लाई गई पीएमएवाई-जी के शुभारंभ की वर्षगांठ मनाने के लिए हर वर्ष 20 नवंबर को ‘‘आवास दिवस’’ के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया था।

इस कार्यक्रम में यह परिकल्‍पना की गई थी कि वर्ष 2022 तक सभी आधारभूत सुविधाओं से संपन्‍न 2.95 करोड पीएमएवाई-जी मकानों का निर्माण कार्य संपन्‍न किया जाएगा। इस योजना के पहले चरण में अर्थात 2016-17 से 2018-19 तक एक करोड़ पक्‍के मकानों के निर्माण का लक्ष्‍य निर्धारित किया गया था। वहीं वर्ष 2019-20 से शुरू होकर 2021-22 तक चलने वाले इस योजना के दूसरे चरण में शेष 1.95 करोड़ मकानों के निर्माण का लक्ष्‍य निर्धारित किया गया है। 2.26 करोड़ मकानों के कुल आवंटित लक्ष्‍य में से अब तक कुल 1.75 करोड़ पीएमएवाई-जी मकान स्‍वीकृत किए गए हैं और 1.20 करोड़ मकानों का निर्माण कार्य संपन्‍न कर लिया गया है।

योजना के तहत सरकार ने कई उद्देश्‍य निर्धारित किये हैं, जिनमें पीएमएवाई-जी के अंतर्गत कुछ कार्यान्‍वयन सुधारों को लागू करके पारदर्शिता बनाए रखना और मकान के निर्माण कार्य की गति बढ़ाना, गुणवत्‍ता का रखरखाव करना, प्रत्‍यक्ष लाभ अंतरण (डीबीटी) के माध्‍यम से लाभार्थियों को समय पर धनराशि जारी करना, लाभार्थियों को तकनीकी सहायता प्रदान करना, क्षेत्र विशिष्‍ट मकान डिजाइनों के विकल्‍प उपलब्‍ध कराना, एमआईएस-आवास सॉफ्ट और आवास ऐप के माध्‍यम से निरंतर निगरानी करना शामिल है।

बीते वर्षों 2017, 2018 और 2019 के दौरान भी देश में आवास दिवस और आवास सप्‍ताह पूरे उत्‍साह और उमंग के साथ मनाया गया, जिसमें राज्‍यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों ने पीएमएवाई-जी के लाभार्थियों की सक्रिय भागीदारी से विभिन्‍न कार्यकलाप शुरू किए।

इस वर्ष राज्‍यों / केंद्रशासित प्रदेशों से 20 नवंबर 2020 को आवास दिवस और 16 नवंबर 2020 से 22 नवंबर 2020 तक आवास सप्‍ताह मनाने का अनुरोध किया गया है और कोविड-19 के कारण विद्यमान परिस्थितियों को ध्‍यान में रखते हुए, गृह मंत्रालय तथा स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्रालय द्वारा जारी किये गए दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए राज्‍य, जिला, ब्‍लॉक, ग्राम पंचायत जैसे प्रशासन के विभिन्‍न स्‍तरों पर विभिन्‍न कार्यकलाप शुरू करने का आह्वान किया है। आवास दिवस/आवास सप्‍ताह के आयोजन के दौरान चलाए जाने वाले कार्यकलापों में निम्‍नलिखित शामिल हैं।

  • लाभार्थियों को पीएमएवाई-जी की जानकारी देना।
  • लाभार्थियों को निदर्शन मकानों वाले स्‍थानों के दौरे पर ले जाना।
  • पीएमएवाई-जी के लाभार्थियों को ऋण सुविधा प्रदान करने के लिए स्‍थानीय बैंक अधिकारियों के साथ उनके विचार-विर्मश कार्यक्रमों का आयोजन करना।
  • भूमि पूजन और गृह प्रवेश इत्‍यादि का आयोजन कराना।
  • आवास दिवस और आवास सप्‍ताह समारोह के दौरान उपयुक्‍त समझा जाने वाला अन्‍य कोई कार्यकलाप करना।

श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने पारदर्शी तरीके से इस योजना का कार्यान्‍वयन करने और इसे सफल बनाने में क्षेत्रीय कार्यकर्ताओं से लेकर ब्‍लॉक, जिला, राज्‍य और केंद्रीय स्‍तर के अधिकारियों तक पीएमएवाई-जी समुदाय से जुड़े सभी संगठनों/व्‍यक्तियों को उनके समर्पित प्रयासों के लिए उन्‍हें धन्‍यवाद भी दिया। लॉकडाउन के बाद कोविड-19 के आवश्‍यक दिशानिर्देशों का अनुपालन करते हुए मकानों के निर्माण कार्य की रफ्तार दोबारा बढ़ाने के प्रयासों की भी सराहना की गई।

Related posts

भारत और कोरिया गणराज्य ने पर्यटन के क्षेत्र में सहयोग को मजबूत बनाने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज 6-8 फरवरी तक सऊदी अरब दौरे पर, दोनों देशों के बीच होगी उच्च स्तरीय बैठक

अर्जुन मुंडा ने ट्राइफेड के वन-धन प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरूआत की