एमएसएमई मंत्रालय के उद्यम पोर्टल ने ऐतिहासिक एक करोड़ पंजीकरण पूरे किए

देश-विदेश

एमएसएमई मंत्रालय ने आज अपने उद्यम पोर्टल पर ऐतिहासिक 1 करोड़ पंजीकरण की महत्‍वपूर्ण उपलब्धि हासिल करने का उत्‍सव मनाया। संयंत्र और मशीनरी या उपकरण में निवेश और कारोबार पर आधारित सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) की संशोधित परिभाषा को 26 जून, 2020 को अपनाने के बाद; उद्यम पंजीकरण पोर्टल 1 जुलाई, 2020 को शुरू किया गया था। संशोधित परिभाषा ने विनिर्माण और सेवा उद्यमों के बीच के अंतर को दूर कर दिया। उद्यम पोर्टल सीबीडीटी और जीएसटीएन के डेटाबेस से जुड़ा हुआ है। यह पूरी तरह से ऑनलाइन है, इसके लिए किसी भी प्रकार के लिखित प्रमाण की आवश्यकता नहीं है, और यह एमएसएमई के लिए व्यवसाय को सुगम बनाने की दिशा में एक कदम है।

इस अवसर पर, केन्‍द्रीय एमएसएमई मंत्री श्री नारायण राणे और एमओएस श्री भानु प्रताप सिंह वर्मा ने उद्यम पंजीकरण की आवश्यकता पर प्रकाश डाला और एमएसएमई मंत्रालय की योजनाओं का लाभ उठाने और बैंकों के प्राथमिकता वाले क्षेत्र को ऋण देने के लिए एक पहचान के रूप में एमएसएमई के लिए इसकी उपयोगिता को रेखांकित किया। श्री राणे ने सकल घरेलू उत्पाद, निर्यात और रोजगार सृजन में एमएसएमई द्वारा किए गए योगदान पर भी जोर दिया।

उद्यम पोर्टल पर 25 महीनों की अवधि में, 1 करोड़ एमएसएमई ने स्वैच्छिक आधार पर पंजीकरण कराया है और घोषणा की है कि वे 7.6 करोड़ लोगों को रोजगार देंगे, जिनमें 1.7 करोड़ महिलाएं हैं।

उद्यम डेटा साझा करने के लिए एमएसएमई मंत्रालय ने पर्यटन मंत्रालय और एनएसआईसी के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। इस अवसर पर, उद्यम पंजीकरण के लिए डिजी लॉकर सुविधा भी शुरू की गई।

Related posts

भारत में वैश्विक रूप से सबसे कम मृत्यु दर में से एक है जिसमें निरंतर कमी आती जा रही है: डा. हर्ष वर्धन

आत्मनिर्भर भारत 3.0 मिशन कोविड सुरक्षा के अंतर्गत कोवैक्सीन उत्पादन जुलाई/अगस्त तक 6 करोड़ पहुंचेगा

रेलवे ने ‘सोनार बांग्ला’ अभियान में बड़ा योगदान देकर खुद को सुदृढ़ किया: पीयूष गोयल