मैरी कॉम ने विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में कर दिया यह बड़ा कारनामा – Online Latest News Hindi News , Bollywood News
Breaking News
Home » खेल समाचार » मैरी कॉम ने विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में कर दिया यह बड़ा कारनामा

मैरी कॉम ने विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में कर दिया यह बड़ा कारनामा

भारत की महान महिला मुक्केबाज एम सी मैरी कॉम यहां जारी दुनिया महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में 51 किलोग्राम भारवर्ग के सेमीफाइनल में पहुंच गई हैं. शनिवार को होने वाले सेमीफाइनल में मैरी की नजरें इस टूनार्मेंट में अपने रिकार्ड सातवें स्वर्ण पर होंगी. मैरी इस बार बदले हुए भारवर्ग में खेल रही हैं. 48 किलोग्राम भारवर्ग में उन्होंने दुनिया चैम्पियनशिप में छह स्वर्ण अपने नाम किए हैं. अगर मैरी फाइनल में पहुंच जाती हैं तो वह इस चैम्पियनशिप में अपना दूसरा रजत पदक पक्का कर लेंगी.

मैरी ने दुनिया चैम्पियनशिप में इकलौता रजत 48 किलोग्राम में जीता है. खास बात यह है कि 51 किलोग्राम भारवर्ग में मैरी ने ओलम्पिक में कांस्य व एशियाई खेलों में स्वर्ण व कांस्य पदक जीते हैं लेकिन दुनिया चैम्पियनशिप में पदक उनके नाम नहीं था.

सेमीफाइनल में स्थान बनाते ही उन्होंने दुनिया चैम्पियनशिप में इस भारवर्ग में अपना पहला पदक पक्का कर लिया है. सेमीफाइनल में पहुंचते ही मैरी कॉम ने इतिहास रचा. वह महिला एवं पुरुष वर्ग में इस चैम्पियनशिप में कुल आठ पदक अपने नाम करने वाली पहली खिलाड़ी बन गईं. इस मुद्दे में उन्होंने क्यूबा के फेलिक्स को पीछे किया, जिनके नाम दुनिया चैम्पियनशिप में कुल सात पदक हैं.

सेमीफाइनल में मैरी का सामना यूरोपियन चैम्पियन तुकीर् की बुसेनाज काकिरोग्लो से होगा. दुनिया चैम्पियनशिप में मैरी ने अभी तक जितने भी फाइनल खेले हैं उनमें से सिर्फ एक बार ऐसा हुआ है, जब उन्हें शिक्सत खानी पड़ी हो. सिर्फ 2001 में फाइनल में उन्हें पराजय मिली थी.

इस चैम्पियनशिप में सिर्फ मैरी ही नहीं है. 69 किलोग्राम भारवर्ग में लवलिना बोरगोहेन, जमुना बोरो 54 किलोग्राम भारवर्ग व मंजू रानी 48 किलोग्राम भारवर्ग में सेमीफाइनल खेलेंगी. मंजू व जमुना पहली बार दुनिया चैम्पियनशिप में खेल रही हैं. लवलिना ने पिछले वर्ष दुनिया चैम्पियनशिप में कांस्य जीता था.

48 किलोग्राम भारवर्ग में हिंदुस्तान का हमेशा दबदबा रहा है क्योंकि अभी तक यहां मैरी खेलती आई थीं. लेकिन इस बार मंजू ने उनसे बागडोर संभाल ली है व उम्मीद की जा सकती है कि वह मैरी के स्वर्ण की रक्षा करेंगी. सेमीफाइनल में उनका सामना थाईलैंड की छुटहामाट राक्सत से होगा.

असम की रहने वाली जमुना से भी उम्मीदें कम नहीं हैं. जमुना ने जिस तरह का प्रदर्शन किया उससे उम्मीद लगाई जा सकती है कि वह सेमीफाइनल में चीनी ताइपे की हुआंग सियाओ वेन की बाधा को पार करने में पास रहेंगी. इंडिया ओपन व इंडोनेशिया में प्रेसिडेंट कप में स्वर्ण पदक जीतने वाली जमुना आत्मविश्वास से भरी लग रही हैं.

लवलिना निश्चित तौर पर अपने पदक का रंग बदलने उतरेंगी. पिछली बार कांस्य जीतने वाली लवलिना चाइना की यांग लियू से सेमीफाइनल में दो-दो हाथ करेंगी. भारत ने हालांकि दुनिया चैम्पियनशिप में अपने पिछले वर्ष के प्रदर्शन की बराबरी कर ली है लेकिन इन सभी मुक्केबाजों की प्रयास होगी की वह पदको के रंग को बदलने में पास रहें.

भारतीय महिला मुक्केबाजी के परफॉमेर्ंस डायरेक्टर राफेल लड़ाकू विमान बेगार्मास्को ने कहा, “यह अच्छी बात है कि हमने अपने पिछले वर्ष के स्कोर की बराबरी कर ली है, लेकिन हमारा लक्ष्य चार स्वर्ण पदक अपने नाम करना है. मैरी कॉम बाकी युवा लड़कियों के लिए प्ररेणास्त्रोत हैं. मुझे यह देखकर अच्छा लग रहा है कि बाकी की मुक्केबाज आगे बढ़ी हैं व स्वर्ण से कम कुछ नहीं चाहती हैं.”

About admin