स्वास्थ्य सचिव ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए संबंधित राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के साथ कोविड-19 पर की गई कार्रवाई और तैयारियों की समीक्षा की

देश-विदेश

नई दिल्ली: स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सचिव सचिव सुश्री प्रीति सूदन ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के स्वास्थ्य सचिवों, राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केन्द्र (एनसीडीसी) के वरिष्ठ अधिकारियों और हवाई अड्डे के सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों (एपीएचओ) के साथ कोविड-19 से बचाव एवं प्रबंधन पर उनकी तैयारियों की समीक्षा की। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन प्रतिदिन ताजा हालात, की गई कार्रवाई और राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों की तैयारियों की समीक्षा करते हैं।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सचिव ने कहा कि उभरते वैश्विक हालात को देखते हुए केंद्र के स्तर पर संबंधित मंत्रालयों और राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के साथ समन्वय करते हुए कई एहतियाती कदम उठाए गए हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे में राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों को उच्च सतर्कता बनाए रखने, सामुदायिक निगरानी के लिए प्रोटोकॉल के संबंध में सतर्क रहने और हवाई अड्डों एवं जांच-चौकियों पर छानबीन तेज करने की जरूरत है। उन्होंने मजबूत और प्रभावी सामुदायिक निगरानी उपायों के महत्व पर जोर दिया। इसके अलावा, उन्होंने राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों को यह सुनिश्चित करने की सलाह दी कि रक्त के नमूनों के संग्रह और परीक्षण के लिए आवश्यक प्रोटोकॉल का पालन किया जाए।

राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों को हवाई अड्डों पर एपीएचओ और जांच-चौकियों को मजबूत करने के लिए अपेक्षित कर्मी उपलब्ध कराने की सलाह दी गई है। राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों  से सभी आवश्यक व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई), मास्क इत्यादि की पर्याप्त आपूर्ति और पर्याप्त संख्या में तैयार पृथक वार्ड सुनिश्चित करने का आग्रह किया गया। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सचिव ने निवारक उपायों पर समुदाय में जागरूकता बढ़ाने और राज्य नियंत्रण कक्ष संख्या के बारे में भी लोगों को बताने का आग्रह किया है। ईरान से आए लोगों के संदर्भ में जम्मू-कश्मीर और लद्दाख की विशिष्ट समीक्षा की गई।

Related posts

जन स्वास्थ्य प्रोत्साहन के लिए दिनचर्या और ऋतुचर्या पर दो दिवसीय ‘आयुषाचार्य’ सम्मेलन नई दिल्ली में आयोजित

किसानों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य सुनिश्चित करना

बजट 2015: सरकार ने कृषि कर्ज़ का लक्ष्य बढ़ाकर 8.5 लाख करोड़ किया