कर्नल राठौड़ की पुर्तगाल के संस्‍कृति मंत्री श्री लुईस फिलीप कास्‍त्रो मेंडेस के साथ बैठक

Image default
देश-विदेश मनोरंजन

नई दिल्ली: भारत और पुर्तगाल ने फिल्‍म क्षेत्र में सह-निर्माण समझौते के तौर तरीके तैयार करने पर सहमति व्‍यक्‍त की है। ऐसे समझौतों के वैधानिक पहलुओं को ध्‍यान में रखते हुए इस समझौते को समय सीमाबद्ध तरीके से तैयार किया जाएगा। दोनों देशों के सरकारी प्रसारकों के बीच समझौता ज्ञापन की संभावनाओं और बेहतरीन तरीकों तथा तकनीकी एवं सामग्री से संबंधित मुद्दों पर सहयोग के बारे में भी चर्चा की गई। सूचना और प्रसारण राज्‍य मंत्री कर्नल राज्‍यवर्धन राठौड़ और पुर्तगाल के संस्‍कृति मंत्री श्री लुईस फिलीप कास्‍त्रो मेंडेस के बीच के हुई बैठक में यह चर्चा की गई।

विचार-विमर्श के दौरान कर्नल राठौड़ ने पुर्तगाल के मंत्री को देश में फिल्‍म  सुविधा कार्यालय के जरिए विदेशीफिल्‍म निर्माताओं को मंजूरी के लिए एकल खिड़की उपलब्‍ध कराने की सूचना और प्रसारण मंत्रालय की पहल केबारे में जानकारी दी। उन्‍होंने देश की समृद्ध फिल्‍मी धरोहरों का डिजीटीकरण और उन्‍हें संरक्षित करने के सरकारके प्रतिष्ठित राष्‍ट्रीय फिल्‍म विरासत अभियान के बारे में भी बताया।

इस अवसर पर मंत्री महोदय ने पुर्तगाल के मंत्री को देश में पत्रकारिता और फिल्‍म निर्माण के प्रमुख शैक्षिकसंस्‍थानों क्रमश: भारतीय जनसंचार संस्‍थान      (आईआईएमसी) और भारतीय फिल्‍म और टेलीविजनसंस्‍थान (एफटीआईआई) के बारे में भी बताया। दोनों देशों के शैक्षिक संस्‍थानों के छात्रों का एक दूसरे केसंस्‍थानों में पढ़ने की संभावनाओं पर भी दोनों मंत्रियों ने चर्चा की। दोनों नेताओं ने नवीकरणीय ऊर्जा,सूचना औरसंचार प्रौद्योगिकी तथा स्‍टार्ट-अप के क्षेत्र में सहयोग की संभावनाओं पर भी बातचीत की।

फिक्‍की द्वारा 12 जनवरी, 2017 को गोवा में पुर्तगाल के प्रधानमंत्री की फिल्‍मी हस्तियों के साथ निर्धारित बैठकके बारे में भी चर्चा की गई। इस बैठक के लिए कई भारतीय निर्माताओं को भी आमंत्रित किया गया है।

दोनों मंत्रियों ने पहुंच बढ़ाने के लिए सोशल मीडिया के बेहतर तरीकों और अनुभवों को साझा करने पर भीदिलचस्‍पी दिखाई।

Related posts

प्रधानमंत्री ने कोविड-19 से निपटने के लिए ‘संकल्प, संयम, सकारात्‍मकता, सम्मान और सहयोग’ के पांच सूत्री मंत्र दिए

उप-राष्ट्रपति ने गणेश चतुर्थी की पूर्व संध्या पर लोगों को बधाई दी

स्पेशल ट्रेनों में घर ले जाए गए प्रवासियों में से 75 फीसदी मजदूर सिर्फ यूपी और बिहार के हैं

Leave a Comment