Online Latest News Hindi News , Bollywood News

गन्ना अधिकारी किसानों के हितैषी के रूप में कार्य करेें: नरेन्द्र सिंह वर्मा

उत्तर प्रदेश कृषि संबंधित

लखनऊ: प्रदेश के गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह वर्मा ने गन्ना विभाग के अधिकारियों को अपनी जिम्मेदारियों को सत्यनिष्ठा से वहन करने की सलाह दी है। उन्होंने सचेत किया कि यदि किसी अधिकारी के खिलाफ लापरवाही बरती जाने की शिकायत मिलती है तो उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी।

श्री वर्मा आज यहां गन्ना विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक कर रहे थे। बैठक में गन्ना आयुक्त श्री विपिन कुमार द्विवेदी के अलावा शासन, मुख्यालय, मण्डल तथा जिला स्तर के समस्त अधिकारी मौजूद थे।
श्री वर्मा ने अधिकारियों से कहा कि वे किसानों के प्रतिनिधि के रूप में उनके हित में काम करें और उनका विश्वास जीतें। उन्होंने कहा कि जिन चीनी मिलों ने किसानों को उनके गन्ना मूल्य का भुगतान अभी तक नहीं किया है, उनपर दबाव बनाकर इस बकाये का भुगतान सुनिश्चित करायें। उन्होंने कहा कि शासन स्तर पर पेराई सत्र 2016-17 के लिए गन्ना मूल्य में बढ़ोत्तरी किये जाने की हर सम्यक कोशिश की जायेगी।
गन्ना मंत्री ने गन्ना पर्ची सिस्टम में पारदर्शिता लाने तथा घटतौली करके किसानों के साथ की जाने वाली घोखाधड़ी पर अंकुश लगाने की भी बात कही। उन्होंने कहा कि घटतौली रोकने के लिये तहसील स्तरीय अधिकारियों के साथ मिलकर सार्थक प्रयास किये जायं। उन्होंने इस बात पर भी बल दिया कि गन्ना किसानों की समस्याओं का समाधान जिला स्तरीय अधिकारियों द्वारा अवश्य किया जाय। इस सिलसिले में किसी भी शिकायत को शासन स्तर पर गम्भीरता से लिया जायेगा। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि गन्ना क्रय केन्द्रों पर कृषकों को समस्त आवश्यक सुविधा उपलब्ध करायी जायें ताकि उन्हें किसी प्रकार की कठिनाई न होने पाये।
बैठक में गन्ना मूल्य का एकमुश्त भुगतान किये जाने, गन्ने की बेहतर प्रजाति का विकास किये जाने, पैदावार में बढ़ोत्तरी सुनिश्चित करने, चीनी परता में वृद्धि करने, अवैध मण्डियों के खिलाफ कार्यवाही करने, गन्ना समितियों की समस्याओं को दूर करने, कर्मचारियों को ए.पी.सी. का लाभ दिये जाने, समितियों का कम्प्यूटरीकरण किये जाने जैसे विषयों पर विस्तार से चर्चा की गयी। मंत्री ने विभागीय अधिकारियों से इन मुद्दों पर अपने सुझाव देने को कहा।
गन्ना आयुक्त द्विवेदी ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे माइक्रो प्लानिंग तैयार करें तथा फर्जी सट्टों के खिलाफ कार्यवाही करें। उन्होंने कहा कि लगातार तीन वर्षों में गन्ना आवक में हो रही कमी को दूर करने का प्रयास करें।

Related posts

प्रदेश के मुख्य नगरों में उपभोक्ताओं को दूध की बिक्री हेतु विक्रय एजेण्टों/मिल्क बूथों की व्यवस्था

admin

मुख्यमंत्री ने प्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव श्री आर0 रमणी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया

admin

भाजपा और बसपा दोनों में इन दिनों दलित प्रेम उमड़ने लगा: राजेन्द्र चौधरी

admin

4 comments

Leave a Comment