शिवसेना के बागी विधायकों की सुरक्षा पर बोले आदित्य ठाकरे, कसाब को भी नहीं मिली थी इतनी सिक्योरिटी

देश-विदेश

मुंबई: शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे (Aaditya Thackeray) ने रविवार को एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली सरकार पर शिवसेना के बागी विधायकों के लिए कड़े सुरक्षा इंतजाम करने को लेकर निशाना साधा।

आदित्य ठाकरे ने बागी विधायकों के पास के एक लग्जरी होटल से विशेष बसों से विधानसभा पहुंचने पर कहा कि ‘इतनी सुरक्षा तो अजमल कसाब के पास भी नहीं थी। ऐसी सुरक्षा हमने मुंबई में पहले कभी नहीं देखी। तुम डरे क्यों हो? क्या कोई भागने वाला है? इतना डर ​​क्यों?’

2008 में जिंदा पकड़ा गया अजमल कसाब

पाकिस्तानी आतंकवादी मोहम्मद अजमल कसाब को 2008 में 26/11 के मुंबई आतंकी हमले के दौरान जिंदा पकड़ा गया था और नरसंहार की चौथी बरसी से एक हफ्ते से भी कम समय पहले पुणे की यरवदा केंद्रीय जेल में फांसी पर लटका दिया गया था।

‘… तो आज भाजपा का सीएम होता’

विधानसभा में आदित्य ठाकरे ने कहा, ‘अगर देवेंद्र फडणवीस ढाई-ढाई साल के लिए सीएम बनने के प्रस्ताव पर सहमत होते तो आज यह स्थिति नहीं होती। शायद आज भाजपा का सीएम होता।’ उन्होंने कहा, ‘आज आए बागी विधायक (एकनाथ शिंदे गुट) हमसे नजरें नहीं मिला पा रहे थे। आप कब तक एक होटल से दूसरे होटल में जाने वाले हैं? इन विधायकों को एक दिन अपने विधानसभा क्षेत्रों में जाना होगा। फिर वे लोगों का सामना कैसे करेंगे?

भाजपा के 106 सदस्यों का शिंदे का समर्थन

288 सदस्यीय सदन में शिंदे को छोटे दलों और निर्दलीय के 10 विधायकों और भाजपा के 106 विधायकों का भी समर्थन प्राप्त है।

राहुल नार्वेकर बने विधानसभा के अध्यक्ष

भाजपा उम्मीदवार राहुल नार्वेकर महाराष्ट्र विधानसभा के अध्यक्ष चुने गए। उनके समर्थन में 164 और विरोध में 107 वोट मिले।

सोर्स: यह दैनिक जागरण न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ श्रमजीवी जर्नलिस्ट टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.

Related posts

बीते चार साल के दौरान सभी क्षेत्रों में की गईं केंद्र सरकार की नीतिगत पहल शानदार और ऐतिहासिक रहीं: प्रकाश जावडेकर

नीति आयोग ने पोषण की जानकारी पर आधारित एक डिजिटल कोष ‘पोषण ज्ञान’ की शुरुआत की

10 हजार कृषक उत्पादक संगठनों की स्थापना से ग्रामीण क्षेत्रों में होगा व्यापक बदलाव; एफपीओ से न सिर्फ कृषि की प्रगति में सहायता मिलेगी, बल्कि विकास के नए द्वार खुलेंगे: नरेंद्र सिंह तोमर