54 खिलाड़ियों सहित 88 सदस्यीय भारतीय ओलंपिक दल टोक्यो पहुंचा

Image default
खेल समाचार देश-विदेश

टोक्यो ओलंपिक में हिस्सा लेने के लिए 54 खिलाड़ियों सहित 88 सदस्यीय भारतीय दल आज टोक्यो के नारिता अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचा। कुर्बे सिटी के प्रतिनिधि टीम की अगवानी के लिए एयरपोर्ट पहुंचे। केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्री श्री अनुराग ठाकुर और युवा मामले एवं खेल राज्य मंत्री श्री निसिथ प्रमाणिक ने कल रात इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर भारतीय दल को औपचारिक विदाई और शुभकामनाएं दीं।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001JI2G.jpg

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image002E0US.jpg

बैडमिंटन, तीरंदाजी, हॉकी, जूडो, तैराकी, भारोत्तोलन, जिम्नास्टिक और टेबल टेनिस सहित आठ खेलों के एथलीट और सहयोगी स्टाफ कल रात नई दिल्ली से टोक्यो के लिए रवाना हुए थे। 127 खिलाड़ियों के साथ, टोक्यो ओलंपिक में, भारत का किसी ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा करने वाला यह अब तक का सबसे बड़ा दल होगा।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image00337JO.jpghttps://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0045ZRS.jpg

केंद्रीय युवा मामले और खेल मंत्री श्री अनुराग ठाकुर ने हवाई अड्डे पर भारतीय दल को संबोधित करते हुए कहा कि टोक्यो ओलंपिक 2020 देश के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर है और 135 करोड़ भारतीयों की शुभकामनाएं इसमें हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों के साथ हैं। श्री अनुराग ठाकुर ने साथ ही खिलाड़ियों से कहा, “आप कुछ चुनिंदा लोग हैं जिन्हें यह शानदार अवसर मिल रहा है और जीवन में अभी लंबा सफर तय करना है, इसलिए आपको अपना सर्वश्रेष्ठ देना चाहिए लेकिन तनाव न लेते हुए जैसा कि प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भी सुझाव दिया था। श्री ठाकुर ने आगे कहा कि एथलीटों को मजबूत बने रहना चाहिए क्योंकि जब वे किसी प्रतियोगिता में देश का प्रतिनिधित्व करते हैं, तो यह भावनाओं की लड़ाई होती है और अंततः यह उनकी मानसिक शक्ति ही है जो उनके प्रदर्शन में दिखाई देगी।

Related posts

विद्युत मंत्री श्री आर. के. सिंह ने आरा, बिहार के लोगों को समर्पित किए 74 डेवलपमेंटल प्रोजेक्ट्स

भ्रूण अंतरण प्रौद्योगिकी, बोवाईन प्रजनन के क्षेत्र में एक सकारात्मक क्रांति

राजीव प्रताप रुडी ने कौशल विकास पर सरकारी नीतियों और पहलों पर जागरुकता पैदा करने के लिए स्किल वैनों को हरी झंडी दिखाई