21 जून 2017 को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मुख्य आयोजन से पहले लखनऊ में व्यापक अभ्यास सत्र का आयोजन

देश-विदेश

आज लखनऊ में राजभवन में व्यापक योगाभ्यास सत्र का आयोजन किया गया। 21 जून 2017 को तीसरे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में लखनऊ में आयोजित होने वाले मुख्य समारोह से पहले इस सत्र का आयोजन हुआ। इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के राज्यपाल श्री राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा, योग गुरू स्वामी रामदेव और स्वामी भारत भूषण भी उपस्थित थे। इस समारोह का आयोजन उत्तर प्रदेश के आयुष मंत्रालय ने किया।

योग अभ्‍यास सत्र में पतंजलि योगपीठ, गायत्री परिवार, आर्ट ऑफ लिविंग, मोक्षायतन, ब्रहमकुमारी, एनएसएस, एनसीसी स्‍वयंसेवकों, योग विभाग, लखनऊ विश्‍वविद्यालय, ईशा फाउंडेशन और भारतीय योग संस्‍थान के करीब 1500 प्रतिभागियों ने हिस्‍सा लिया।

इस अवसर पर राज्‍यपाल श्री राम नाईक ने कहा कि योग पांच हजार वर्ष पुरानी पद्धति है। उन्‍होंने कहा कि मानसिक और शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य का संतुलन ही योग है। श्री नाईक ने बताया कि उत्‍तर प्रदेश का राजभवन देश का पहला ऐसा राजभवन है, जहां योगाभ्‍यास सत्र का आयोजन हुआ। उन्‍होंने कहा कि योग से समूचे विश्‍व को योग से लाभ उठाना चाहिए और अधिक से अधिक लोगों को अपने दैनिक जीवन में योग का अभ्‍यास करना चाहिए।

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि स्‍वस्‍थ दिमाग और स्‍वस्‍थ शरीर के बीच समन्‍वय ही योग है। उन्‍होंने कहा कि स्‍वस्‍थ शरीर में ही स्‍वस्‍थ मस्तिष्‍क का वास होता है, जिससे स्‍वस्‍थ समाज का निर्माण होता है। श्री योगी ने कहा कि योग करना हमारे पूर्वजों के प्रति हमारा आभार है।

समारोह में उत्‍तर प्रदेश सरकार के कई मंत्रियों, वरिष्‍ठ अधिकारियों, रक्षाकर्मियों और न्‍यायाधीशों ने भाग लिया।

Related posts

रेल मंत्री श्री पीयूष गोयल ने ट्रेनों के संचालन में सुरक्षा के मुद्दे पर रेलवे बोर्ड के अधिकारियों के साथ उच्‍चस्‍तरीय बैठक की

श्री जे.पी.नड्डा ने सार्वभौमिक अनुवीक्षण और सामान्य गैर-संक्रामक रोगों (एनसीडी) के नियंत्रण के लिए राष्ट्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन किया

डॉ. हर्षवर्धन ने होप कंसोर्टीयम के ‘विश्व टीकाकरण एवं लॉजिस्टिक सम्मेलन’ को संबोधित किया

Leave a Comment