हमेशा जलने वाली ओलंपिक मशाल चार साल पहले ही बुझ चुकी है

देश-विदेश

तोक्यो: ओलंपिक, 1964 की मशाल वास्तव में चार वर्ष पहले ही बुझ चुकी है, जबकि इसे हमेशा प्रज्जवलित रहना था. यह तथ्य आज ही सामने आया जब शर्मिंदा अधिकारियों ने इस बात को स्वीकार किया.

जापान के दक्षिण पश्चिमी शहर कागोशीमा के खेल प्रशिक्षण परिसर में लगाई गई इस मशाल को ओलंपिक अक्षय मशाल कहा जाता है और यह वर्ष 1964 में हुए ओलंपिक की है. यह मशाल तब खबरों में आई थी जब जापान को 2020 के ओलंपिक खेलों की मेजबानी मिली थी.

लेकिन अब पता चला है कि मशाल नवंबर 2013 में बुझ गई थी. इसके दो ही महीने पहले तोक्यो को खेलों की मेजबानी मिली थी. तब जल्दबाजी में मशाल को फिर से प्रज्जवलित किया गया. खेल परिसर के प्रमुख ने एएफपी को यह बताया.
हमने उसे फिर से जलाया और यह दो हफ्तों तक चली. यहां अब एक अन्य मशाल है, जिसे मैग्निफाइंग ग्लास और सूर्य की रोशनी की मदद से दिसंबर 2013 में प्रज्जवलित किया गया था.

india

Related posts

श्री डी.वी. सदानंद गौड़ा ने एचयूआरएल की तीन आगामी परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा की

श्री राम विलास पासवान राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस समारोह का उद्घाटन करेंगे

‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज’ के तहत घोषित नकद लाभ को भी डीबीटी डिजिटल भुगतान अवसंरचना का उपयोग करके हस्‍तांतरित किया जा रहा है

Leave a Comment